Breaking
इमिग्रेशन कंपनियों के दफ्तरों पर शुरू की छापामारी, चेक किए लाइसेंस बिजली मंत्री ने बिजली और गबन संबंधी समस्याओं पर लिया एक्शन; 11 शिकायतें सुनी हाईकोर्ट ने अंतरिम जमानत नहीं दी; वकील से पूछा- क्या वह भारत आएगा या नहीं? अनिज विज को शिकायत देने के बाद दर्ज हुआ मामला, जांच में जुटी पुलिस गांव जंडली की घटना; शराब के नशे में था सूरज, जांच में जुटी पुलिस बोले- पीएम मोदी को 8 हजार करोड़ का जहाज, अग्निवीर को बर्फीले सियाचीन में सिर्फ 21 हजार वेतन पत्थर की फैक्ट्री में दो महिलाएं काम कर रही थी, दूसरी फैक्ट्री की दीवार गिरी तेल कंपनियों ने जारी किए पेट्रोल-डीजल के दाम आर्थिक मोर्चे पर बेहाल पाकिस्तान में अब भारी आयात शुल्क लगाने से दवाओं की किल्लत देवेंद्र फडणवीस का डिमोशन या अनुशासन का संदेश? महाराष्ट्र के फैसले से भ्रम में भाजपा कार्यकर्ता

कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता ने नगर निगम पर लगाया आरोप, बाेले हर काम के लिए जा रहे पैसे, निगम कमिश्नर हैं मौन

Whats App

फरीदाबाद: सरकार को दी चेतावनी नहीं रुका भ्रष्टाचार तो जुलाई से सभी सरकारी दफ्तराें के सामने होगा प्रदर्शननगर निगम में व्याप्त भ्रष्टाचार को लेकर कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता सुमित गौड़ ने निगमायुक्त यशपाल यादव सहित भाजपाईयों के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। बुधवार को सेक्टर-10 स्थित कांग्रेस भवन में आयोजित पत्रकार वार्ता के दौरान कांग्र्रेस प्रवक्ता ने कहा कि जो अधिकारी कभी कांग्रेस सरकार में अपने कार्य के लिए पूरे हरियाणा में विख्यात था, वही अधिकारी भाजपा सरकार में निगमायुक्त जैसे पद पर आसीन होने के बावजूद निगम में फैले भ्रष्टाचार को लेकर बेबस है। उन्होंने कहा कि इसे निगमायुक्त की मजबूरी कही जा सकती है।उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि नगर निगम में आज भ्रष्टाचार इस कदर हावी हो चुका है कि प्राॅपर्टी आईडी, लाईसेंस बनवाने, जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र, सीवर-पानी के कनेक्शन या एनओसी लेने के लिए बिना रिश्वत दिए कोई काम नहीं होता। हर काम के रेट निर्धारित है। गौड़ ने उदाहरण देते हुए कहा कि नगर निगम में तैनात पूर्व इंस्पेक्टर हिम्मत खान की पत्नी शाइमन के आपरेशन की 4.50 लाख रूपए की राशि के क्लेम को पास करवाने के लिए उनके पुत्र आरिफ से भी निगम अधिकारियों ने रिश्वत मांगी थी। इस मामले में हस्तक्षेप किया तो बिना रिश्वत के क्लेम को पास किया गया। इतना ही नहीं, मृत्यु प्रमाण पत्र बनवाने के लिए भी नगर निगम में तैनात कर्मचारी 10-10 हजार रुपए तक रिश्वत ले रहे हैं। उन्हांेने चेतावनी देते हुए कहा कि नगर निगम व अन्य सरकारी कार्यालयों में व्याप्त भ्रष्टाचार खत्म नहीं हुआ तो जुलाई माह से वह बारी-बारी सभी विभागों कार्यालय के बाहर भ्रष्टाचार का विरोध करेंगे।

इमिग्रेशन कंपनियों के दफ्तरों पर शुरू की छापामारी, चेक किए लाइसेंस     |     बिजली मंत्री ने बिजली और गबन संबंधी समस्याओं पर लिया एक्शन; 11 शिकायतें सुनी     |     हाईकोर्ट ने अंतरिम जमानत नहीं दी; वकील से पूछा- क्या वह भारत आएगा या नहीं?     |     अनिज विज को शिकायत देने के बाद दर्ज हुआ मामला, जांच में जुटी पुलिस     |     गांव जंडली की घटना; शराब के नशे में था सूरज, जांच में जुटी पुलिस     |     बोले- पीएम मोदी को 8 हजार करोड़ का जहाज, अग्निवीर को बर्फीले सियाचीन में सिर्फ 21 हजार वेतन     |     पत्थर की फैक्ट्री में दो महिलाएं काम कर रही थी, दूसरी फैक्ट्री की दीवार गिरी     |     तेल कंपनियों ने जारी किए पेट्रोल-डीजल के दाम     |     आर्थिक मोर्चे पर बेहाल पाकिस्तान में अब भारी आयात शुल्क लगाने से दवाओं की किल्लत     |     देवेंद्र फडणवीस का डिमोशन या अनुशासन का संदेश? महाराष्ट्र के फैसले से भ्रम में भाजपा कार्यकर्ता     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374