Breaking
महू-नसीराबाद हाइवे पर जानलेवा गड्डे, ठेकेदार बोला- भूमिपूजन के बाद ही काम शुरू करेंगे टेस्ट सीरीज में मोहम्मद शमी के स्थान पर इन खिलाड़ियों को मिल सकता है मौका गुजरात की ऐतिहासिक जीत पीएम मोदी की लोकप्रियता के कारण : केंद्रीय रक्षा मंत्री  भोपाल में 2500 स्वयंसेवक एक साथ शारीरिक प्रदर्शन करेंगे सीएम योगी देंगे 387.59 करोड़ की सौगात श्रीमद् भागवत कथा के समापन पर भंडारा आयोजित   निराशा भरा रहा है टीम इंडिया का साल 2022 बैंक ऑफ महाराष्ट्र में निकली बंपर वैकेंसी, 45 साल तक की उम्मीदवार कर सकेंगे आवेदन जहां पिता की हुई नियुक्ति, उसी यूनिट में तैनात हुए थे बिपिन रावत, जानें उनके शौर्य की गाथा अब आंगनबाड़ी में मिलेगा अक्षरज्ञान

लोकसभा में कृषि कानूनों की वापसी का बिल पारित होने के बाद भी राकेश टिकैत बोले- आंदोलन जारी रहेगा

Whats App

भारतीय किसान युनियन के नेता राकेश टिकैत ने तीनों विवादास्पद कृषि कानूनों को वापस लेने का विधेयक लोकसभा में पारित होने के बाद सोमवार को कहा कि बाकी मांगों को लेकर किसान युनियनों का आंदोलन जारी रहेगा और आंदोलन की नयी रूप रेखा चार दिसंबर के बाद तय की जायेगी। उन्होंने कहा कि हम एमएसपी समेत तमाम अन्य मुद्दों पर किसी चर्चा के बिना आंदोलन से नहीं हटेंगे। उन्होंने कहा कि फिलहाल किसान राजधानी की ओर ट्रैक्टर मार्च नहीं निकालेंगे।

लोकसभा में तीनों विवादास्पद कृषि कानूनों – कृषक उपज व्यापार एवं वाणिज्य (संवर्धन और सरलीकरण) अधिनियम 2020, कृषक (सशक्तीकरण एवं संरक्षण) कीमत आश्वासन और कृषि सेवा पर करार अधिनियम 2020 तथा आवश्यक वस्तु (संशोधन) अधिनियम 2020 के निरसन के लिये कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर प्रस्ताव को सदन ने बिना बहस के पारित कर दिया। इस खबर के बाद संवाददाताओं से बात करते हुये किसान नेता टिकैत प्रसन्न दिख रहे थे लेकिन उन्होंने कहा कि अभी दूसरे मुद्दें बाकी हैं।

उन्होंने कहा,‘‘न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर कानूनी गारंटी मिलने तक आंदोलन चलता रहेगा।‘‘ आगे के आंदोलन के तौर तरीके के बारे में सवालों पर उन्होंने कहा कि आज ट्रैक्टर रैली नहीं निकाली जायेगी, आगे की रूप रेखा चार दिसंबर को तय होगी। यह पूछे जाने पर यदि बाकी संगठन आंदोलन उठाने का फैसला करते हैं तो आपका क्या रूख होगा, टिकैत ने कहा,‘‘हमारे सामने किसान युनियन की ओर से अभी इस तरह की कोई बात नहीं आयी है।‘’ उन्होंने यह भी कहा कि उच्चतम न्यायालय ने कहा था कि इस मसले को किसान युनियनें और सरकार मिलकर तय करें। किसान नेता ने उम्मीद जतायी की बात सामाधान की ओर बढ़ेगी।

महू-नसीराबाद हाइवे पर जानलेवा गड्डे, ठेकेदार बोला- भूमिपूजन के बाद ही काम शुरू करेंगे     |     टेस्ट सीरीज में मोहम्मद शमी के स्थान पर इन खिलाड़ियों को मिल सकता है मौका     |     गुजरात की ऐतिहासिक जीत पीएम मोदी की लोकप्रियता के कारण : केंद्रीय रक्षा मंत्री      |     भोपाल में 2500 स्वयंसेवक एक साथ शारीरिक प्रदर्शन करेंगे     |     सीएम योगी देंगे 387.59 करोड़ की सौगात     |     श्रीमद् भागवत कथा के समापन पर भंडारा आयोजित       |     निराशा भरा रहा है टीम इंडिया का साल 2022     |     बैंक ऑफ महाराष्ट्र में निकली बंपर वैकेंसी, 45 साल तक की उम्मीदवार कर सकेंगे आवेदन     |     जहां पिता की हुई नियुक्ति, उसी यूनिट में तैनात हुए थे बिपिन रावत, जानें उनके शौर्य की गाथा     |     अब आंगनबाड़ी में मिलेगा अक्षरज्ञान     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374