Breaking
सोनीपत में 900 एकड़ में लगेगी फैक्ट्री, PM मोदी 28 को वर्चुअली करेंगे शिलान्यास जन्माष्टमी पर कान्हा की भक्ति में डूबा रहेगा संसार जन्माष्टमी की तारीख को लेकर न हों भ्रमित मोहाली में अस्पताल का उद्घाटन करेंगे; AAP सरकार में पहला दौरा, कांग्रेस के वक्त सुरक्षा चूक हुई रफ्तार में कार रेलिंग से टकराई, एयरबैग तक खुल गए पर नहीं बचा पाए जिंगदी, सैनिक की मौत हालत गंभीर, बिरयानी खाने गया था, कोतवाली प्रभारी बोले- दोनों शराब के नशे में थे दिल्ली हाईकोर्ट ने रेस्तरां में आम ग्राहकों से सेवा शुल्क लाने पर उठाए सवाल झलाई के जंगल में जानवर चराने गया था चरवाहा, हमले से शरीर में कई जगह लगी चोट परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने की घोषणा; शहीद के नाम पर होगा स्कूल का नामकरण लखीमपुर में देश भर से पहुंच रहे किसान, केंद्रीय गृह राज्य मंत्री के इस्तीफे की करेंगे मांग

15-20 मिनट में मौके पर पहुंचे अधिकारी, मॉक ड्रिल होने पर ली राहत की सांस

Whats App

टोंक: मॉक ड्रिल के दौरान व्यवस्थाओं को लेकर बातचीत करते कलेक्टर चिन्मयी गोपाल और एसपी मनीष त्रिपाठी।टोंक शहर और आसपास के इलाकों में गुरुवार को दोपहर को 12 बजे उस समय हड़कंप मच गया, जब सूचना मिली जयपुर-कोटा नेशनल हाईवे-52 स्थित बनास पुलिया के टूटने से बस गिर गई और 5 सवारियों की मौत हो गई, जबकि 20 लोग घायल हो गए। कलेक्टर, एसपी समेत आला अधिकारी तो मॉक ड्रिल कार्यक्रम के अनुसार पहले ही मौके पर पहुंच गए, लेकिन दूसरे विभाग के कर्मचारी, एंबुलेंस, फायर ब्रिगेड, SDRF की टीम 15 से 20 मिनट में मौके पर पहुंची। इस दौरान पता चला कि कोई बड़ी दुर्घटना नहीं हुई है, बल्कि यह एक मॉक ड्रिल है तो लोगों ने राहत की सांस ली।दरअसल पुलिया टूटने के बाद होने वाली आपदा से निपटने के लिए और घायलों को जल्दी इलाज उपलब्ध कराने के लिए मॉक ड्रिल की गई। इसके बाद सभी विभागों ने अपना अपना काम इमरजेंसी की तरह किया। इस दौरान कलेक्टर चिन्मयी गोपाल, एसपी मनीष त्रिपाठी, डीएसपी सालेह मोहम्मद आदि प्रशासनिक अधिकारी समेत पुलिस बल मौके पर तैनात थे। इस दौरान करीब आधे घंटे तक बनास पुलिया पर वन-वे किया गया। इस दौरान वहां से गुजरने वाले लोग और शहर के लोग कोई बड़ा हादसा होना मान रहे थे और वह यह जानकारी जुटाते रहे कि कितना बड़ा एक्सीडेंट हुआ, बस कहां की थी, कितने मरे हैं और कितने घायल हैं। जब लोगों को पता लगा कि ये प्रशासन की ओर से की गई मॉक ड्रिल थी तो उन्होंने राहत की सांस ली।आपदा की स्थिति में सभी विभागों की व्यवस्थाओं को जांचाकलेक्टर चिन्मयी गोपाल ने बताया कि आपदा के समय में कौन सा विभाग कब रिस्पॉन्स करता है। इसे जांचने के लिए यह मॉक ड्रिल की गई है। इस दौरान मोबाइल पर सूचना देने के करीब 15 से 20 मिनट में सभी विभागों के अधिकारियों-कर्मचारियों समेत प्रशासनिक और पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंच गए थे। मॉक ड्रील के दौरान सभी विभागों का रिस्पॉन्स अच्छा रहा। एसपी मनीष त्रिपाठी ने बताया कि कोरोना काल के चलते पिछले 2 सालों से टोंक में इस तरह की गतिविधियां नहीं हुई थी। ऐसे में मॉक ड्रिल कर आपदा प्रबंधन की व्यवस्थाओं को जांचा है। सआदत अस्पताल में भी घायलों के आने की सूचना पर तैयारियां भी देखी गई है।कंट्रोल रूम से सूचना मिलने पर मौके पर भेजी एंबुलेंससआदत अस्पताल के PMO डॉक्टर बी एल मीणा ने बताया की करीब 12 बजे पुलिस कंट्रोल रूम से सूचना मिली कि जयपुर रोड पर बनास नदी पर बनी पुलिया टूटने से बस गिर गई है। इस हादसे में 5 लोगों के मरने और 20 लोगों के घायल होने की खबर है। उसके बाद तुरंत मौके के लिए एंबुलेंस रवाना की गई और अस्पताल में बेड आदि की व्यवस्था पुख्ता की गई। करीब 20-25 मिनट बाद पता लगा कि ये मॉक ड्रिल थी।

सोनीपत में 900 एकड़ में लगेगी फैक्ट्री, PM मोदी 28 को वर्चुअली करेंगे शिलान्यास     |     जन्माष्टमी पर कान्हा की भक्ति में डूबा रहेगा संसार     |     जन्माष्टमी की तारीख को लेकर न हों भ्रमित     |     मोहाली में अस्पताल का उद्घाटन करेंगे; AAP सरकार में पहला दौरा, कांग्रेस के वक्त सुरक्षा चूक हुई     |     रफ्तार में कार रेलिंग से टकराई, एयरबैग तक खुल गए पर नहीं बचा पाए जिंगदी, सैनिक की मौत     |     हालत गंभीर, बिरयानी खाने गया था, कोतवाली प्रभारी बोले- दोनों शराब के नशे में थे     |     दिल्ली हाईकोर्ट ने रेस्तरां में आम ग्राहकों से सेवा शुल्क लाने पर उठाए सवाल     |     झलाई के जंगल में जानवर चराने गया था चरवाहा, हमले से शरीर में कई जगह लगी चोट     |     परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने की घोषणा; शहीद के नाम पर होगा स्कूल का नामकरण     |     लखीमपुर में देश भर से पहुंच रहे किसान, केंद्रीय गृह राज्य मंत्री के इस्तीफे की करेंगे मांग     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374