New Year
Breaking
जिले में 25 जनवरी को मनाया जाएगा 13वां ’राष्ट्रीय मतदाता दिवस’-जिलाधिकारी  इलेक्शन मोड में सरकार अन्नपूर्णा माता मंदिर में सुबह होगी मूर्तियों की स्थापना, शाम को दर्शन कर सकेंगे भक्त गेहूं में रेत-मिट्टी के मिलावट मामले में छह के विरुद्ध मामला दर्ज, वायरल हुआ था वीडियो रॉकेट दागने के जवाब में इजराइल ने गाजा पर हवाई हमला किया तेन्दूपत्ता संग्राहकों के बच्चों का कुपोषण दूर करने के लिए मिलेगा शहद-च्यवनप्राश इसरो के अंतरिक्ष यात्रियों को ट्रेनिंग देगा नासा मुंबई के 27 प्रतिशत नागरिक मधुमेह से पीड़ित चीन में घना कोहरा बना आफत, येलो अलर्ट जारी रबर कंपनी में लगी आग बुझाते समय फटा फायर एक्सटिंग्विशर सिलेंडर, 3 घायल

सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी जारी करने से पहले जरूरी है डाटा सुरक्षा कानून: पूर्व आरबीआइ गवर्नर डी सुब्बाराव

Whats App

नई दिल्ली। सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (CBDC) को पेश किए जाने से पहले, भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर डी सुब्बाराव ने बुधवार को डाटा गोपनीयता के मुद्दे को लेकर योजनाओं पर आगे बढ़ने से पहले एक विश्वसनीय डेटा सुरक्षा कानून की जरूरत पर बल दिया है। रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर डी सुब्बाराव ने इस पर बयान देते हुए यह कहा कि, “इस तरह के कानूनी ढांचे की कमी के चलते सीबीडीसी को सही तरह से मैनेज करने में मुश्किलें हो सकती थीं। मुझे उम्मीद है आरबीआइ द्वारा लागू की जाने वाली डिजिटल करेंसी को इस कानून से लाभ मिलेगा। हमें यह समझना होगा कि, मजबूत डाटा सुरक्षा ढांचे की अनुपस्थिति इससे पहले भी देश में, कई अन्य पहलुओं में चिंता का विषय रही है।”

एनएसई और न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी के स्टर्न स्कूल ऑफ बिजनेस में आयोजित किए गए एक सम्मेलन को संबोधित करते हुए सुब्बाराव ने कहा कि, “सीबीडीसी में मुद्रा के प्रवाह के तरीके का पूरा पता लगाया जा सकेगा, जबकि कैश करेंसी में प्रवाह का पता लगाना मुश्किल होता था। यह सरकार और आरबीआई को मुद्रा की हर एक इकाई के इस्तेमाल का डाटा प्रदान करेगा। साथ ही सीबीडीसी के जरिए नशीली दवाओं की तस्करी और मनी लॉन्ड्रिंग जैसी कुछ गतिविधियों को कम करने में मदद मिल सकती है।”

Whats App

उन्होंने अपने बयान में यह भी कहा कि, “हमारी खरीदारी को लेकर आरबीआई या सरकार के पास इससे जुड़ी जानकारी होने के कारण लोगों को कुछ हद तक असुविधा हो सकती है। मुझे लगता है कि, अगर हम सीबीडीसी को लॉन्च करने की दिशा में काम कर रहे हैं तो, हमारे पास एक मजबूत डाटा सुरक्षा कानून होना चाहिए। यह ना केवल देश के भीतर बल्कि बाहर के लोगों के लिए भी विश्वसनीय है। जिस वजह से सीबीडीसी जारी करने में डाटा संरक्षण कानून काफी जरूरी है। विश्व स्तर पर डिजिटल करेंसी के विकास के साथ तालमेल बिठाने के लिए, भारत जैसी उभरती बाजार अर्थव्यवस्था के लिए सीबीडीसी को जारी करने को लेकर गंभीरता से विचार किया जा रहा है।”

जिले में 25 जनवरी को मनाया जाएगा 13वां ’राष्ट्रीय मतदाता दिवस’-जिलाधिकारी     |      इलेक्शन मोड में सरकार     |     अन्नपूर्णा माता मंदिर में सुबह होगी मूर्तियों की स्थापना, शाम को दर्शन कर सकेंगे भक्त     |     गेहूं में रेत-मिट्टी के मिलावट मामले में छह के विरुद्ध मामला दर्ज, वायरल हुआ था वीडियो     |     रॉकेट दागने के जवाब में इजराइल ने गाजा पर हवाई हमला किया     |     तेन्दूपत्ता संग्राहकों के बच्चों का कुपोषण दूर करने के लिए मिलेगा शहद-च्यवनप्राश     |     इसरो के अंतरिक्ष यात्रियों को ट्रेनिंग देगा नासा     |     मुंबई के 27 प्रतिशत नागरिक मधुमेह से पीड़ित     |     चीन में घना कोहरा बना आफत, येलो अलर्ट जारी     |     रबर कंपनी में लगी आग बुझाते समय फटा फायर एक्सटिंग्विशर सिलेंडर, 3 घायल     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374