New Year
Breaking
भूकंप से कांप गई पाकिस्तान की धरती ट्रांसमिशन सर्विस एग्रीमेंट हस्ताक्षरित  रीवा की अवनि चतुर्वेदी ने जापान में फाइटर प्लेन उड़ाकर रचा एक और इतिहास PM नरेंद्र मोदी ने की मंत्रिपरिषद के साथ बैठक, बजट से पहले कई अहम मुद्दों पर होगी चर्चा मुख्यमंत्री जन-सेवा अभियान में चिन्हित हितग्राहियों को 5 फरवरी से मिलेगा योजना का लाभ विजय चौक पर भारतीय धुनों से मंत्रमुग्ध हुए दर्शक कराची में बड़ा सड़क हादसा खाई में गिरी बस, 37 लोगों की मौत, 4 घायल सरकार बढ़ा सकती है उज्ज्वला योजना का बजट... लखनऊ समेत 53 जिलों में ठंडी हवाओं ने बढ़ाई ठिठुरन ऑस्ट्रेलिया में खालिस्तानी समर्थक व भारतीय भिड़े, 2 गिरफ्तार

हिंद प्रशांत क्षेत्रों में सख्त भूमिका निभाना जारी रखेगा अमेरिका: एंटनी ब्लिंकन

Whats App

जकार्ता। अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने कहा कि वाशिंगटन हिंद प्रशांत क्षेत्रों में अपनी स्थिर भूमिका निभाना जारी रखेगा। यह बात ब्लिंकन ने मंगलवार को इंडोनेशिया के जकार्ता में एक कार्यक्रम के दौरान अमेरिका और हिंद प्रशांत क्षेत्रों पर टिप्पणी करते हुए कही। उन्होंने कहा कि हिंद प्रशांत विश्व में आज सबसे तेजी से विकसित होने वाले क्षेत्र है।

ब्लिंकन ने कहा कि हिंद प्रशांत क्षेत्र में 21वीं सदी में जो कुछ भी होता है, उसका असर पूरे विश्व पर भी पड़ेगा। उन्होंने इस बात पर जोर देते हुए कहा कि हिंद प्रशांत क्षेत्र सबसे तेजी से आगे बढ़ने वाला क्षेत्र है। इसके चलते अमेरिका सतर्क रूप से यहां अपनी भूमिका निभाना जारी रखेगा। आपको बता दें कि अमेरिकी विदेश मंत्री इंडोनेशिया के दौर पर हैं। इस दौरान उन्होंने सोमवार को इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विडोडो से मुलाकात भी की। इस दौरान दोनों नेताओं ने हिंद प्रशांत में सुरक्षा और शांति को बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण कदम उठाने की जरूरत को लेकर भी चर्चा की। वहीं, इसमें दोनों देशों को साथ मिलकर कैसे काम करना है इस पर बातचीत भी की

गौरतलब है कि ग्रुप आफ सेवन (जी-7) के विदेश मंत्रियों ने रविवार को बीजिंग की जबरदस्ती लागू करने वाली आर्थिक नीतियों के बारे में चिंता व्यक्त की थी। इसके दो दिन बाद ब्लिंकन का यह बयान आया है। जी-7 सम्मेलन के विदेश मंत्रियों ने रविवार को पहली बार अपने समकक्षों आसियान देशों के साथ बातचीत की, जिसमें आस्ट्रेलिया, दक्षिण कोरिया और भारत भी शामिल थे। जी-7 सभा के दूसरे दिन आसियान देशों के 10 सदस्यों और तीन अन्य क्षेत्रीय शक्तियों से चीन की नितियों पर बातचीत की गई। लिज ट्रस ने लिवरपूल में जी-7 सम्मेलन को लेकर कहा कि इस बैठक से साफ हो गया है कि हम सब चीन की जबरदस्ती आर्थिक नीतियों को लेकर चिंतित हैं।

भूकंप से कांप गई पाकिस्तान की धरती     |     ट्रांसमिशन सर्विस एग्रीमेंट हस्ताक्षरित      |     रीवा की अवनि चतुर्वेदी ने जापान में फाइटर प्लेन उड़ाकर रचा एक और इतिहास     |     PM नरेंद्र मोदी ने की मंत्रिपरिषद के साथ बैठक, बजट से पहले कई अहम मुद्दों पर होगी चर्चा     |     मुख्यमंत्री जन-सेवा अभियान में चिन्हित हितग्राहियों को 5 फरवरी से मिलेगा योजना का लाभ     |     विजय चौक पर भारतीय धुनों से मंत्रमुग्ध हुए दर्शक     |     कराची में बड़ा सड़क हादसा खाई में गिरी बस, 37 लोगों की मौत, 4 घायल     |     सरकार बढ़ा सकती है उज्ज्वला योजना का बजट…     |     लखनऊ समेत 53 जिलों में ठंडी हवाओं ने बढ़ाई ठिठुरन     |     ऑस्ट्रेलिया में खालिस्तानी समर्थक व भारतीय भिड़े, 2 गिरफ्तार     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374