Breaking
बांधी 75 फुट की हरी-भरी राखी, बहनें बोली - पेड़ हमारे हरे-भरे भैया भालू नें कई लोगों को किया घायल घर बैठे ही लोगों को मिला 12 लाख स्मार्ट कार्ड आधारित पंजीयन प्रमाण-पत्र तथा ड्राइविंग लायसेंस मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सामुदायिक वन संसाधन अधिकार जागरूकता अभियान का किया शुभारंभ मुख्यालय सहित विभिन्न नगरों में निकाली रैली; विद्यार्थी, शिक्षकों एवं पुलिस कर्मी रहे शामिल नीतीश आठवीं बार बने सीएम अपर कलेक्टर ने जारी किया आदेश, हितग्राही को नहीं दे रहे थे योजना का लाभ सीहोर में जिला संस्कार मंच ने ग्रामीणों को 100 से अधिक तिरंगे निशुल्क बांटे महाराष्ट्र के कई इलाकों में भारी बारिश Skoda Enyaq iV की शुरू हुई टेस्टिंग

हिंद प्रशांत क्षेत्रों में सख्त भूमिका निभाना जारी रखेगा अमेरिका: एंटनी ब्लिंकन

Whats App

जकार्ता। अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने कहा कि वाशिंगटन हिंद प्रशांत क्षेत्रों में अपनी स्थिर भूमिका निभाना जारी रखेगा। यह बात ब्लिंकन ने मंगलवार को इंडोनेशिया के जकार्ता में एक कार्यक्रम के दौरान अमेरिका और हिंद प्रशांत क्षेत्रों पर टिप्पणी करते हुए कही। उन्होंने कहा कि हिंद प्रशांत विश्व में आज सबसे तेजी से विकसित होने वाले क्षेत्र है।

ब्लिंकन ने कहा कि हिंद प्रशांत क्षेत्र में 21वीं सदी में जो कुछ भी होता है, उसका असर पूरे विश्व पर भी पड़ेगा। उन्होंने इस बात पर जोर देते हुए कहा कि हिंद प्रशांत क्षेत्र सबसे तेजी से आगे बढ़ने वाला क्षेत्र है। इसके चलते अमेरिका सतर्क रूप से यहां अपनी भूमिका निभाना जारी रखेगा। आपको बता दें कि अमेरिकी विदेश मंत्री इंडोनेशिया के दौर पर हैं। इस दौरान उन्होंने सोमवार को इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विडोडो से मुलाकात भी की। इस दौरान दोनों नेताओं ने हिंद प्रशांत में सुरक्षा और शांति को बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण कदम उठाने की जरूरत को लेकर भी चर्चा की। वहीं, इसमें दोनों देशों को साथ मिलकर कैसे काम करना है इस पर बातचीत भी की

गौरतलब है कि ग्रुप आफ सेवन (जी-7) के विदेश मंत्रियों ने रविवार को बीजिंग की जबरदस्ती लागू करने वाली आर्थिक नीतियों के बारे में चिंता व्यक्त की थी। इसके दो दिन बाद ब्लिंकन का यह बयान आया है। जी-7 सम्मेलन के विदेश मंत्रियों ने रविवार को पहली बार अपने समकक्षों आसियान देशों के साथ बातचीत की, जिसमें आस्ट्रेलिया, दक्षिण कोरिया और भारत भी शामिल थे। जी-7 सभा के दूसरे दिन आसियान देशों के 10 सदस्यों और तीन अन्य क्षेत्रीय शक्तियों से चीन की नितियों पर बातचीत की गई। लिज ट्रस ने लिवरपूल में जी-7 सम्मेलन को लेकर कहा कि इस बैठक से साफ हो गया है कि हम सब चीन की जबरदस्ती आर्थिक नीतियों को लेकर चिंतित हैं।

बांधी 75 फुट की हरी-भरी राखी, बहनें बोली – पेड़ हमारे हरे-भरे भैया     |     भालू नें कई लोगों को किया घायल     |     घर बैठे ही लोगों को मिला 12 लाख स्मार्ट कार्ड आधारित पंजीयन प्रमाण-पत्र तथा ड्राइविंग लायसेंस     |     मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सामुदायिक वन संसाधन अधिकार जागरूकता अभियान का किया शुभारंभ     |     मुख्यालय सहित विभिन्न नगरों में निकाली रैली; विद्यार्थी, शिक्षकों एवं पुलिस कर्मी रहे शामिल     |     नीतीश आठवीं बार बने सीएम     |     अपर कलेक्टर ने जारी किया आदेश, हितग्राही को नहीं दे रहे थे योजना का लाभ     |     सीहोर में जिला संस्कार मंच ने ग्रामीणों को 100 से अधिक तिरंगे निशुल्क बांटे     |     महाराष्ट्र के कई इलाकों में भारी बारिश     |     Skoda Enyaq iV की शुरू हुई टेस्टिंग     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374