Breaking
आंखों में मिर्ची डालकर ले गए डेढ़ लाख रुपए, पुलिस तलाश में जुटी मुख्यमंत्री चौहान ने पं. दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर नमन किया 15 साल की किशोरी रेप, मंडीदीप, रायसेन में छिपकर करता रहा मजदूरी 21वीं राज्य स्तरीय बैडमिंटन स्पर्धा के लिए चुने गए जिले के खिलाड़ी इन घरेलू उपायों से मोटापा करें कम महेंद्रगढ़ में सरकारी जमीन पर कब्जा करके बनाया घर जमींदोज, पुलिस फोर्स रही मौजूद समाज के हर वर्ग के लिए काम कर रही सरकार- पंकज चौधरी सर्व आदिवासी समाज के पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री से की सौजन्य मुलाकात प्रसव के लिए रुपये लेने का आरोप एंटी भू-माफिया के तहत तीन के विरुद्ध गैंगस्टर की कार्रवाई

शीतकालीन सत्र: तीसरे सप्ताह भी राज्यसभा में नहीं हो सका ज्यादा काम, 27 में से सिर्फ 10 घंटे ही चली कार्यवाही

Whats App

नई दिल्ली। विपक्ष द्वारा लगातार हंगामे के बीच शीतकालीन सत्र के तीसरे सप्ताह भी राज्यसभा की उत्पादकता में भारी गिरावट देखने को मिली है। इस दौरान राज्यसभा में सिर्फ 37.60 प्रतिशत ही काम हो सका। राज्यसभा सचिवालय के अनुसार, राज्यसभा की उत्पादकता पहले सप्ताह में 49.70 प्रतिशत और दूसरे सप्ताह में 52.50 प्रतिशत थी। तीसरे सप्ताह के दौरान सदन 27 घंटे 11 मिनट के कुल निर्धारित समय में से केवल 10 घंटे 14 मिनट के लिए कार्य कर सका। 12 सदस्यों के निलंबन के मुद्दे पर व्यवधानों और स्थगन के कारण उपलब्ध समय का 62.40 प्रतिशत हंगामे की भेंट चढ़ गया

सचिवालय ने कहा कि तीसरे सप्ताह के दौरान सबसे अधिक प्रश्नकाल प्रभावित हुआ, जो सरकार की जवाबदेही की मांग के लिए है। जिसमें संबंधित मंत्रियों द्वारा मौखिक रूप से 75 सूचीबद्ध तारांकित प्रश्नों में से केवल चार केउत्तर दिए गए। तीसरे सप्ताह के दौरान प्रश्नकाल के लिए उपलब्ध समय का केवल 11.40 प्रतिशत ही उपयोग हो सका। दूसरी ओर, सप्ताह के दौरान कुल 6 घंटे 25 मिनट की चर्चा के बाद तीन विधेयकों को पारित किया गया

सप्ताह के दौरान ‘कोविड-19 के ओमिक्रोन वैरिएंट के मामलों से उत्पन्न स्थिति’ पर एक छोटी अवधि की चर्चा अनिर्णायक रही। यह चर्चा सोमवार को फिर से शुरू करने के लिए सूचीबद्ध है। राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने शून्यकाल के 17 मिनट बाद शुक्रवार को सदन स्थगित कर दिया और सरकार और विपक्षी दलों से निलंबन के मुद्दे पर गतिरोध को हल करने का आग्रह किया।

Whats App

चल रहे मानसून सत्र के पहले तीन हफ्तों की 15 बैठकों के दौरान सदन ने छह बैठकों के लिए प्रतिदिन एक घंटे से भी कम समय तक कार्य किया। सदन की उत्पादकता छह दिनों में 75 प्रतिशत या उससे अधिक रही है। अब तक कुल आठ विधेयकों को पारित करने के लिए सदन के कामकाज के समय का लगभग 42 प्रतिशत सरकार के विधायी कार्य पर खर्च किया गया है। राज्यसभा सचिवालय के बयान में कहा गया है कि केवल 18 प्रतिशत समय प्रश्नकाल में बिताया गया है, जिसमें 217 सूचीबद्ध प्रश्नों में से केवल 56 का मौखिक उत्तर दिया गया है।

वाणिज्यिक सहित विवादों के समाधान को बढ़ावा देने के लिए मध्यस्थता विधेयक, 2021 को सोमवार को राज्यसभा में पेश करने के लिए सूचीबद्ध किया गया है। लोकसभा द्वारा पारित नारकोटिक्स ड्रग्स एंड साइकोट्रोपिक पदार्थ (संशोधन) विधेयक, 2021 को सोमवार को विचार और पारित करने के लिए सूचीबद्ध किया गया है। संसद का शीतकालीन सत्र 23 दिसंबर को खत्म होने की संभावना है।

आंखों में मिर्ची डालकर ले गए डेढ़ लाख रुपए, पुलिस तलाश में जुटी     |     मुख्यमंत्री चौहान ने पं. दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर नमन किया     |     15 साल की किशोरी रेप, मंडीदीप, रायसेन में छिपकर करता रहा मजदूरी     |     21वीं राज्य स्तरीय बैडमिंटन स्पर्धा के लिए चुने गए जिले के खिलाड़ी     |     इन घरेलू उपायों से मोटापा करें कम     |     महेंद्रगढ़ में सरकारी जमीन पर कब्जा करके बनाया घर जमींदोज, पुलिस फोर्स रही मौजूद     |     समाज के हर वर्ग के लिए काम कर रही सरकार- पंकज चौधरी     |     सर्व आदिवासी समाज के पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री से की सौजन्य मुलाकात     |     प्रसव के लिए रुपये लेने का आरोप     |     एंटी भू-माफिया के तहत तीन के विरुद्ध गैंगस्टर की कार्रवाई     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374