Breaking
बांधी 75 फुट की हरी-भरी राखी, बहनें बोली - पेड़ हमारे हरे-भरे भैया भालू नें कई लोगों को किया घायल घर बैठे ही लोगों को मिला 12 लाख स्मार्ट कार्ड आधारित पंजीयन प्रमाण-पत्र तथा ड्राइविंग लायसेंस मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सामुदायिक वन संसाधन अधिकार जागरूकता अभियान का किया शुभारंभ मुख्यालय सहित विभिन्न नगरों में निकाली रैली; विद्यार्थी, शिक्षकों एवं पुलिस कर्मी रहे शामिल नीतीश आठवीं बार बने सीएम अपर कलेक्टर ने जारी किया आदेश, हितग्राही को नहीं दे रहे थे योजना का लाभ सीहोर में जिला संस्कार मंच ने ग्रामीणों को 100 से अधिक तिरंगे निशुल्क बांटे महाराष्ट्र के कई इलाकों में भारी बारिश Skoda Enyaq iV की शुरू हुई टेस्टिंग

गोपालगंज। भुखमरी की कगार पर पहुंची आशा कर्मियों ने किया प्रदर्शन।

Whats App

टीम रिपोर्टर धंजीत तिवारी।

बिहार के गोपालगंज जिले के भोरे प्रखंड के रेफरल अस्पताल में आज अपनी मानदेय भुगतान को लेकर आशा कर्मियों ने जमकर प्रदर्शन किया,प्रदर्शन की खबर पर पहुंचे गोपालगंज सिविल सर्जन डॉ योगेंद्र महतो के घंटों मशक्कत के बाद आशा कर्मियों ने
अपना विरोध प्रदर्शन वापस लिया है,विरोध प्रदर्शन कर रही आशा कर्मियों का आरोप है कि विगत वर्ष 2016 से लेकर अब तक मानदेय भुगतान नहीं किया गया है, जिससे अब घर चलाना मुश्किल हो गया है, मानदेय भुगतान को लेकर रेफरल अस्पताल के चिकित्सा पदाधिकारी से कई बार मांग की गई,लेकिन आश्वासन के सिवा दूसरा कुछ नहीं मिलता है, चिकित्सा पदाधिकारी के द्वारा ड्रेस में आने की सलाह जरूर मिलती है, प्रदर्शन कर रही आशा कर्मियों ने बताया कि भोरे रेफरल अस्पताल में चिकित्सा पदाधिकारी खाबर इमाम के द्वारा आशा कर्मियों के साथ सौतेला व्यवहार किया जा रहा है, क्षेत्र में कोविड ड्यूटी करने के दौरान अस्पताल पहुंचने पर भोरे रेफरल अस्पताल में आशा कर्मियों को बैठने पर भी सवाल उठाए जाते हैं, मानदेय भुगतान को लेकर आशा कर्मियों ने यह भी आरोप लगाया कि वर्ष 2016 से लेकर अब तक मानदेय भुगतान को लेकर कई बार जिला पदाधिकारी सिविल सर्जन यहां तक कि वर्तमान भोरे विधायक व बिहार सरकार के मंत्री सुनील कुमार से भी न्याय की गुहार लगाई गई है, लेकिन अब तक मानदेय नहीं मिला है, मानदेय नहीं मिलने के कारण आज
परिवारिक स्थिति भयावह हो गई है, घर में खाने के लाले पड़ गए हैं, और अधिकारी से न्याय की गुहार लगाने के बाद सुनवाई नहीं होती है,

क्या कहते हैं चिकित्सा पदाधिकारी एक नजर यहां भी-

Whats App

इस पूरे प्रकरण को लेकर जब सुनामी एक्सप्रेस की टीम ने भोरे चिकित्सा पदाधिकारी खाबर इमाम से बात की तो उन्होंने कहा कि आशा कर्मी हमारी सहकर्मी है, मार्च तक का भुगतान किया गया है,आशा कर्मियों का भुगतान ऑनलाइन तरीके से होता है, स्टाफ की कमी के कारण मानदेय भुगतान में देरी हुई है, वही आशा कर्मियों के ठहराव को लेकर बात की गई तो, चिकित्सा पदाधिकारी ने बताया कि इसके लिए एक कमरे का सफाई कार्य जोरों पर है,बहुत जल्द यह भी समस्या दूर हो जाएगी, अस्पताल में कमरे के कमी के कारण यह समस्या आई है जिस पर कार्य चल रहा है,

बोले सिविल सर्जन
वहीं इस मामले में सिविल सर्जन डॉक्टर योगेंद्र महतो से बात की तो, उन्होंने कहा कि अगले माह तक आशा कर्मियों का वेतन उनके खाते में चला जाएगा।

बांधी 75 फुट की हरी-भरी राखी, बहनें बोली – पेड़ हमारे हरे-भरे भैया     |     भालू नें कई लोगों को किया घायल     |     घर बैठे ही लोगों को मिला 12 लाख स्मार्ट कार्ड आधारित पंजीयन प्रमाण-पत्र तथा ड्राइविंग लायसेंस     |     मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सामुदायिक वन संसाधन अधिकार जागरूकता अभियान का किया शुभारंभ     |     मुख्यालय सहित विभिन्न नगरों में निकाली रैली; विद्यार्थी, शिक्षकों एवं पुलिस कर्मी रहे शामिल     |     नीतीश आठवीं बार बने सीएम     |     अपर कलेक्टर ने जारी किया आदेश, हितग्राही को नहीं दे रहे थे योजना का लाभ     |     सीहोर में जिला संस्कार मंच ने ग्रामीणों को 100 से अधिक तिरंगे निशुल्क बांटे     |     महाराष्ट्र के कई इलाकों में भारी बारिश     |     Skoda Enyaq iV की शुरू हुई टेस्टिंग     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374