गोवा: आतंकियों से रिश्ते के शक में आर्मी के रिटायर्ड मेजर जनरल का बेटा अरेस्ट

पणजी. आतंकियों से रिश्ते रखने के आरोप में गिरफ्तार किए गए आरोपी का नाम समीर सरदाना है। समीर के पिता आर्मी के रिटायर्ड मेजर जनरल हैं। समीर हिंदू है, पर कथित तौर पर मुस्लिम धर्म को मानता है। गोवा एटीएस तीन दिनों से उससे लगातार पूछताछ कर रही है। उससे कुछ डॉक्युमेंट्स बरामद किए गए हैं।
विदेशों में क्या करता था समीर…
– 44 साल का समीर पेशे से चार्टर्ड अकांउटेंट है। वह हांगकांग, मलेशिया और सउदी अरब समेत कुछ देशों में कई मल्टी नेशनल कंपनियों के लिए काम कर चुका है।
– गोवा पुलिस ने समीर को सोमवार को अरेस्ट किया था। इसके बाद उससे लगातार पूछताछ की जा रही है।
पुलिस ने क्यों किया गिरफ्तार?
– मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, समीर वास्को स्टेशन पर संदिग्ध हालत में घूमता पाया गया था।
– पुलिस को उसके पास से पांच पासपोर्ट और चार मोबाइल फोन भी मिले हैं।
– गोवा के डीजीपी टीएन. मोहन के मुताबिक, फिलहाल आरोपी के पास से ऐसा कुछ बरामद नहीं हुआ है, जिससे उसका लिंक किसी आतंकी संगठन से जोड़ा जाए। लेकिन फिर भी उसकी हरकतों पर शक है, इसलिए पूछताछ और जांच पूरी की जाएगी।
– हालांकि, गोवा एटीएस के सूत्रों का कहना है कि समीर के पास कुछ ऐसे लेटर और ईमेल मिले हैं, जिनमें देश में हुए पिछले ब्लास्ट्स का जिक्र और डिटेल्स हैं। वह इस बारे में लगातार जानकारी जुटा रहा था।
– समीर ने दिल्ली यूनिवर्सिटी से बीकॉम किया है। फिलहाल, वह मुंबई में रहता है। हाल के दिनों में उसका मूवमेंट वास्को और पणजी में लगातार रहा।
गोवा एटीएस के कॉन्टैक्ट में है देहरादून पुलिस
– समीर बेसिकली देहरादून का रहने वाला है। देहरादून पुलिस के आईजी संजय गुंजाल के मुताबिक, वो गोवा एटीएस से समीर के बारे में जानकारी हासिल कर रहे हैं। हालांकि, समीर का कोई क्रिमिनल रिकॉर्ड नहीं है। वह अच्छी फैमिली से है।
– सूत्रों के मुताबिक, समीर का एक भाई दिल्ली में डॉक्टर है। पुलिस को शक है कि समीर इंटरनेट के जरिए कट्टरपंथियों के कॉन्टैक्ट में आया होगा। उसकी फैमिली से भी कुछ जानकारियां मांगी गई हैं।
– समीर के पिता ने बेटे की गिरफ्तारी को गलत बताते हुए ज्यादा डिटेल्स देने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि वे देहरादून और गोवा पुलिस के टच में हैं।
पुलिस ने लैपटॉप का पासवर्ड डिकोड कर लिया
– आरोपी गोवा एटीएस को लैपटॉप का पासवर्ड नहीं बता रहा था, लेकिन सायबर सेल ने इसे डिकोड कर लिया। पुलिस के मुताबिक, इससे काफी सुराग मिल सकते हैं।1_1454552346

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *