हादसे में घायल हुए ‘MTV Roadies X4’ के 12 क्रू मेंबर स्टंट रियलिटी टीवी शो ‘एमटीवी रोडीज एक्स4’ के क्रू मेंबर के कम से कम 12 सदस्य शूटिंग के लिए जाते समय पेसोक व्यूप्वाइंट में एक हादसे में घायल हो गए। शनिवार को हुए हादसे में निर्माण दल के तीन सदस्य बुरी तरह घायल हो गए वहीं एक दूसरे सदस्य की हालत गंभीर बतायी जा रही है। बॉलीवुड अभिनेत्री नेहा धूपिया, टीवी प्रस्तोता रणविजय सिंह और अभिनेता करण कुंद्रा इस कार्यक्रम के निर्णायक हैं। उन्होंने प्रशंसकों से घायलों के लिए प्रार्थना करने के लिए कहा है। धूपिया ने ट्विटर पर लिखा कि सब कुछ नियंत्रण में है और प्रशंसक घायलों की तेजी से दुरूस्त होने के लिए प्रार्थना करें। उन्होंने ट्वीट किया, दुखद बात है कि एमटीवी रोडीज के निर्माण दल के कुछ सदस्यों के साथ हादसा हो गया, आपके चिंता जताने के लिए आपका धन्यवाद, कपया सबके तेजी से दुरूस्त होने की प्रार्थना करें। रणविजय ने ट्विटर पर लिखा, आपकी दुआओं के लिए आपका धन्यवाद। हम सभी घायल हुए अपने भाइयों के लिए प्रार्थना कर रहे हैं, कपया उनकी तेजी से दुरूस्त होने की कामना करें। कुंद्रा ने ट्विट किया, आपके प्रेम और चिंता के लिए आपका धन्यवाद, उनमें से कुछ सुरक्षित हैं और कुछ नहीं हैं, कपया उनके लिए प्रार्थना करें। ‘बिग बॉस 9’ के विजेता प्रिंस नरूला भी इस कार्यक्रम में निर्णायक की भूमिका में दिखेंगे।

ऑटिस्टिक हो सकती है संतान अगर डायबीटिज से ग्रस्त हैं आप

मधुमेह और मोटापे से ग्रस्त महिलाओं की संतान में ऑटिज्म स्पेक्ट्रम विकार होने की अधिक संभावना होती है। एक नए शोध में यह बात सामने आई है।

अध्ययन के निष्कर्ष बताते हैं कि संतान में इस विकार की संभावना जन्म लेने से पहले से हो जाती है।

अमेरिका के जॉन्स हॉपकिन्स ब्लूमबर्ग स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ ने यह अध्ययन कराया है। अध्ययन के मुख्य लेखक जियोबिन वैंग के अनुसार, ‘‘हमें यह पता है कि मोटापा और मधुमेह गर्भवती महिलाओं के लिए अच्छा नहीं होता है लेकिन इस अध्ययन से पता चला कि मधुमेह और मोटापे से संतान का न्यूरोडेवलपमेंट लंबे समय तक प्रभावित हो सकता है।’’

इस शोध के दौरान साल 1998 से 2014 के बीच शोधार्थियों ने 2,734 मां और उनकी संतानों का अध्ययन किया।

अध्ययन के दौरान करीब 100 बच्चों में ऑटिज्म स्पेक्ट्रम विकार देखा गया। जिसे मोटापा और मधुमेह के पहले संभावित जोखिम कारकों के रूप में देखा गया।

इस अध्ययन के अन्य लेखक एम डेनियेली फॉलिन के अनुसार, ‘‘हमारे अध्ययन बताते हैं कि ऑटिज्म का खतरा भ्रूण के साथ शुरू हो जाता है।’’

सामान्य वजन वाली महिलाओं की संतानों की तुलना में जिन महिलाओं को मोटापा और मधुमेह दोनों ही समस्याएं होती हैं उनकी संतानों में ऑटिज्म का खतरा चार गुना अधिक होता है।

यह शोध पत्रिका ‘पीडियाट्रिक्स’ में प्रकाशित हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *