बिलासपुर /स्वास्थ्य विभाग के जिला स्तरीय क्वालिटी एश्योरेंस समिति की बैठक सहायक कलेक्टर श्री विजय दयाराम की अध्यक्षता में आयोजित की गई

 

जिला स्तरीय क्वालिटी एश्योरेंस समिति की बैठक
मातृशिशु अस्पताल को क्रियाशील करने का निर्देश
बिलासपुर /स्वास्थ्य विभाग के जिला स्तरीय क्वालिटी एश्योरेंस समिति की बैठक सहायक कलेक्टर श्री विजय दयाराम की अध्यक्षता में आयोजित की गई। जिसमें मातृशिशु अस्पताल गौरेला में शीघ्र ही नसबंदी सेवा क्रियाशील करने का निर्देश दिया गया।
बैठक में परिवार कल्याण आपरेशन हेतु क्रियाशील एवं अक्रियाशील केन्द्रों की जानकारी दी गई। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि बिलासपुर में सिम्स, जिला अस्पताल, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र मस्तूरी, कोटा और बिल्हा में महिला नसबंदी सेवा उपलब्ध है। उन्होंने बताया कि जिले में कुल 20 प्रशिक्षित नसबंदी सेवा प्रदाता उपलब्ध है। पुरूष नसबंदी हेतु एक निजी सर्जन डाॅ. के.के.साव एवं अस्पताल को अनुबंधित किया गया है। श्री दयाराम ने पुरूष नसबंदी को बढ़ावा देने पर जोर दिया। पुरूष नसबंदी के लिए एसडीएम आदेश करे कि स्वइच्छा से नसबंदी के लिए आने वाले पुरूषों का भी नसबंदी कराया जाये। नसबंदी के लिए क्रियाशील केन्द्रांे में व्याप्त कमियों की जानकारी दी गई। सहायक कलेक्टर ने कहा कि अस्पताल में दवा उपलब्ध नहीं होने या अन्य कोई समस्या होने पर नसबंदी आपरेशन न किया जाये। इस संबंध में सभी बीएमओ को स्पष्ट निर्देश जारी करने कहा। नसबंदी के पूर्व सिकलसेल, एनिमिया, हीमोग्लोबिन का टेस्ट अनिवार्य रूप से करायें और इनका स्तर स्वीकार्य होने पर ही आपरेशन किया जाये। गुणवत्ता पर विशेष ध्यान देने और स्वप्रेरित होकर परिवार कल्याण के उपाय करने हेतु लोगों को जागरूक करने कहा।
बैठक में सहायक कलेक्टर श्री कुणाल दुदावत्, सीएमएचओ डाॅ. बी.बी. बोडे सहित अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।
क्रमांक  1168/अग्रवाल
–00–
समाचार
शिशु संरक्षण समिति की बैठक  
बिलासपुर 15 जनवरी 2019/नसबंदी प्रभावित महिलाआंे एवं बच्चों की देखभाल हेतु गठित शिशु संरक्षण समिति की बैठक आज सहायक कलेक्टर श्री कुणाल दुदावत की अध्यक्षता में आयोजित की गई। बैठक में जानकारी दी गई कि प्रभावित महिलाआंे एवं बच्चों का सत्त स्वास्थ्य परीक्षण किया गया है और सभी स्वस्थ है। इन महिलाओं और बच्चों के अपोलो अस्पताल बिलासपुर में उपचार के दौरान लगभग 4 लाख रूपये व्यय किये गये।
बैठक में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी बिलासपुर ने बताया कि नसबंदी आपरेशन पश्चात् मृतक महिलाओं के प्रत्येक अव्यस्क बच्चों के नाम पर 03 लाख फिक्स डिपाजिट किया गया है तथा सभी 40 बच्चांे के नाम से फिक्स डिपाजिट खोला गया है।
बैठक में सीएमएचओ डाॅ. बी.बी.बोडे, एसडीएम कोटा, मस्तूरी, जिला शिक्षा अधिकारी, महिला बाल विकास, आदिवासी विकास, श्रम विभाग सहित अन्य विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *