Sunami News_सहकारी बैंक में कैश की किल्लत किसान परेशान, शासन खामोश..

*सहकारी बैंक में कैश की किल्लत किसान परेशान, शासन खामोश*

बलौदाबाजार। जिला सहकारी बैंक कसडोल में कैश की किल्लत के कारण किसानों को पूरे दिन बैंक में बैठकर बगैर राशि के वापस लौटना पड़ता है। कृषि साख सहकारी समिति हटौद के अध्यक्ष सत्यनारायण पटेल ने बताया कि पिछले कई दिनों से ऐसी स्थिति से किसानों को गुजरना पड़ रहा है।जिला सहकारी बैंक कसडोल में कैश के किल्लत पर शासन एवं प्रशासन का इस ओर जरा भी ध्यान नहीं है। जिला सहकारी बैंक में कैश कमी की अव्यवस्था को अतिशिध्र दूर कराने हेतु मुख्यमंत्री के नाम अनुविभागीय अधिकारी को सैकड़ों किसानों के साथ ज्ञापन सौंपा गया। किसानों द्वारा समर्थन मूल्य में की गई धान की बिक्री की राशि का भुगतान नियत समय पर उचित राशि की दरकार रहती है किन्तु दस- बीस हजार रुपये में संतुष्ट रहना पड़ता है। स्थानीय बैंक अधिकारियों का कहना है कि वरिष्ठ अधिकारियों को इसकी जानकारी दे दी गई है किन्तु कैश न होने के कारण हम लाचार हैं। धान खरीदी के बाद किसानों के खाते में राशि तो चली गई है किन्तु उन्हें अपने जरुरत के लिए कैश निकालना आसान नहीं रह गया है।

सहकारी बैंक कसडोल में हर रोज कैश की किल्लत के कारण दूर-दराज से आने वाले किसानों को राशि नहीं मिल रही है। सुबह से शाम तक बैंक के सामने किसान बैठे रहते हैं और शाम को बगैर पैसे के खाली हाथ लौटना पड़ता है। इस सीजन में किसानों को पैसे की आवश्यकता है पर बैंक में जमा अपनी राशि भी उन्हें सही समय पर नहीं मिल पा रही है। किसानों का कहना है कि पैन कार्ड धारीओं को एक लाख की जरुरत पड़ती है पर उन्हें बैंक से चालिस -पचास हजार रुपये ही दिए जा रहे हैं। बैंक कर्मचारी भी सही जानकारी नहीं देते। उनका कहना होता है कि रायपुर के अधिकारियों को कैश की कमी होने की जानकारी दे दी गई है। ऐसे में जरुरत के लिए हमें राशि भी नहीं मिल पा रही है। हमें अपनी ही राशि के लिए बैंक में चक्कर काटना पड़ रहा है। ज्ञापन सौंपतें किसान सुंदर पटेल, बीर सिंह पैंकरा, दुलरवा पटेल, परमा पैंकरा, मया राम पैंकरा, बरातू पैंकरा, महेत्तर लाल, ध्रुव कुर्मी, राम नाथ पटेल, हरीशंकर,गणेश राम, बलराम पैंकरा, जैन सिंह, सुकलू राम राखी राम, दुलारू , श्याम लाल पैंकरा, सनोहर पैंकरा, टीकेश साहूआदि किसान बंधु उपस्थित रहे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *