जियो की शिकायत दूरसंचार विभाग से डेढ़ साल से कर रही मज़ाक जा सकता है उपभोक्ता कोर्ट-सुजीत मिश्रा सिट्टी(9454118975)

भारत की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी होने का दम भरने वाली जियो इंडिया के लिए बहुत बुरी खबर है कि उपभोक्ता उसकी सेवाओ से ख़ासे नाराज़ है
यूँ तो जियो भारत की नम्बर वन टेलीकॉम कंपनी है लेकिन धीरे धीरे करके जियो की सेवाओं में खामियां दिखाई दे रही है।
जियो भारत के सबसे बड़े उद्योगपति ब्रांड में से एक रिलायंस
एमडीएजी ग्रुप के निदेशक मुकेश अंबानी की टेलीकॉम कम्पनी है मुकेश अंबानी व रिलायंस अंबानी ने हमेसा अपने नाम को बनाने के लिए काम किया है लेकिन जियो की टीम अम्बानी व रिलायंस के नाम को खराब करने में लगी है।
यूँ तो सोशल मीडिया व तमाम जगह जियो के खराब नेटवर्क गुडवत्ता को लेकर बाते होती रहती है लेकिन फिलहाल एक
मामला उत्तर प्रदेश के कौशाम्बी से निकल कर सामने आया जहाँ जियो उपभोक्ता को लगातार डेढ़ वर्षो से भुगतान के बाद भी ज़रूरी सेवा नही दी जा रही है उपभोक्ता की माने तो इलाके के लगभग हज़ारों लोगों को जियो द्वारा लुटा जा रहा है लेकिन अधिकतम लोग जियो हेल्पलाइन पर शिकायत करके या तो बैठ जाते है या कम्पनी ही बदल देते है।
लेकिन एक उपभोक्ता ने विश्व की टॉप कम्पनी से दो दो हाथ करने का मन बना लिया है
इस उपभोक्ता की शिकायत है कि इसे आज तक बताई की नियुन्तम डेटा स्पीड दो एमबीपीएस कभी नही मिली बल्कि उसे सायद ही कभी बेहतर नेटवर्क की सुविधा मिली हो उसके द्वारा ख़रीदे गए दैनिक डेटा डेढ़ जीबी का इस्तेमाल भी वो किसी भी दिन नही कर सका है
जिसके चलते उसने 2017 के अंतिम माह में 2018 में दो बार शिकायत की बार बार कम्पनी द्वारा झूठा दिलासा दिया गया और समय की मांग की गई आखिरी बार फिर से जब 1 फरवरी 2019 को उसने शिकायत की तो साथ ही राष्ट्रीय उपभोक्ता हेल्पलाइन पर भी शिकायत दर्ज करवाई जिसके बाद कम्पनी हरकत में तो आई और सम्पर्क भी किया लेकिन अपने रसूख के चलते बिना समाधन शिकायत का निस्तारण करते हुए बन्द कर दिया गया जिस दौरान उपभोक्ता ने जियो की शिकायत टीम को भी मेल किया लेकिन सहयोग नही मिला।
कम्पनी द्वारा बार बार डालने रसूक के दम पर ग्राहक को चिढ़ाने का काम किया जाता रहा जिससे अजीज आकर आखिर कार उपभोगकर्ता ने जियो के साथ क़ानूनी लड़ाई लड़ने का मन बना लिया और दूरसंचार विभाग भारत सरकार से पूरे मामले की शिकायत भी की और दूरसंचार विभाग से सहयोग की मांग करते हुए जियो के खिलाफ कार्यवाही की मांग की ।
शिकायतकर्ता ने कहा कि तमाम राजनीतिक आरोप लगते रहे है कि जियो के मालिक के सत्ताधारीयो बेहतरीन सम्बन्ध है जिसके चलते सायद विभाग से कोई बेहतर सहयोग न मिल सके लेकिन मुझे पहले तो दूरसंचार विभाग से सहयोग की उम्मीद है लेकिन अगर समय रहते सहयोग नही मिला तो अंततः न्यायालय की शरण लेनी पड़ेंगी अब लड़ाई होगी और न्याय भी होगा
शिकायतकर्ता चाहते हैं कि तमाम लोग जो किसी भी कम्पनी जिसके उपभोक्ता है द्वारा सताए जा रहे हो या कम्पनी वादाखिलाफी कर रही हो या कम्पनी द्वारा जिस बात के लिए सुविधा शुल्क लोए जा रहा वो नही प्रदान की जा रही तो
कम्पनी को सबक जरूर सिखाये क्योकी यह कानून हमारा अधिकार है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *