Breaking
ज्ञानवापी के तहखाने की पहली तस्वीर, हिंदू पक्ष ने की ये दीवार तोड़ने की मांग; पीछे शिवलिंग होने का द... ट्रक ने स्कूटी में मारी टक्कर, दो लड़कियों की मौत  कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी! खत्म हुआ NPS, पुरानी पेंशन लागू करने के आदेश जारी पेटीएम ने 950 करोड़ के निवेश के लिए बनाई बीमा फर्म इस सप्ताह शेयर बाजार में इन फैक्टर्स का दिख सकता है असर, निवेश से पहले जरूर जान लें भारत की इकलौती ट्रेन जिसमें नहीं लगता किराया, 73 साल से फ्री में यात्रा कर रहे लोग यूपी सरकार का बड़ा फैसला! घर के एक सदस्य को देगी रोजगार, जान लीजिए प्लान दबंगों ने बाइक का एक्सीलेटर तेज करने पर युवक की पिटाई IPL खत्म होते ही एक टीम में खेलते नजर आएंगे कीरोन पोलार्ड और सुनील नरेन आजम खान के योगी आदित्यनाथ सरकार के पहले बजट सत्र में शामिल होने की संभावना बेहद कम

मैं कप्तान बनने के लायक ही नहीं था, फिर भी बना दिया, पूर्व भारतीय दिग्गज का चौंकाने वाला बयान

Whats App

नई दिल्ली। भारत के महान कप्तानों में शामिल कपिल देव को देश को पहला विश्व कप जिताने वाले कप्तान के तौर पर जाना जाता है। 1983 में भारतीय टीम ने कपिल की कप्तानी में ही वनडे विश्व कप जीता था। वेस्टइंडीज के खिलाफ फाइनल में मिली इस जीत ने भारत में खेल को पहले से कहीं ज्यादा लोकप्रिय बनाया। कपिल ने बताया कि जब उनको कप्तानी दी गई तब वह इसके हकदार नहीं थे।

कपिल ने कहा, “जब उन्होंने मुझे कप्तान बनाया, मुझे नहीं लगता है मैं इसका हकदार था। जब मुझे कप्तानी से हटाया गया तो मैंने अपने आप से कहा था कि शायद सबकुछ सही नहीं किया। मुझे कप्तानी के बारे में एक चीज ही पता है जब जीत मिलती है तो मैं जीता कभी भी नहीं होता लेकिन जब टीम को हार मिलती है तो इसकी पूरी जिम्मेदारी कप्तान को ही लेनी होती है। आपको एक कप्तान के तौर पर जो चीज चाहिए होती है वो टीम से पूरा समर्पण होता है। टैलेंटेड खिलाड़ी आपके उम्मीदों पर खरे ना भी उतर पाए लेकिन समर्पित खिलाड़ी सभी भी आपको नीचे नहीं होने देता।”

कपिल को महज 23 साल की उम्र में टीम की कप्तानी दी गई थी और वह भारत के लिए पहला विश्व कप जीतने वाले कप्तान बने। अपनी कप्तानी के दिनों को याद करते हुए उन्होने कई बातें की। उनका कहना था, “मैं एकदम से युवा था। मेरे साथ टीम में बहुत सारे सीनियर खिलाड़ी थे और सारे के सारे बहुत ही कमाल के प्रतिभाशाली। मेरा काम इन सभी को एक साथ लेकर चलना था। मैं सुनील गावस्कर, मोहिन्दर अमरनाथ, मदन लाल, सैयद किरमानी तो नहीं बता सकता था कि उनको अपना काम कैसे करना है।”

Whats App

“मैंने इस बात को पक्का किया कि सभी को साथ लेकर चलना है और हमेशा ही मैंने एक ही बात कहा एक बार जब आपने मैदान के अंदर कदम रखा तो फिर मान लीजिए आपसे बेहतर कोई भी नहीं है। विरोधी टीम का सम्मान आप मैच से पहले और उसके बाद जितना कर सकते हैं करिए लेकिन तब नहीं जब आप मैदान पर हैं, आपसे बेहतर कोई भी नहीं है।”

Leave A Reply

Your email address will not be published.

ज्ञानवापी के तहखाने की पहली तस्वीर, हिंदू पक्ष ने की ये दीवार तोड़ने की मांग; पीछे शिवलिंग होने का दावा     |     ट्रक ने स्कूटी में मारी टक्कर, दो लड़कियों की मौत      |     कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी! खत्म हुआ NPS, पुरानी पेंशन लागू करने के आदेश जारी     |     पेटीएम ने 950 करोड़ के निवेश के लिए बनाई बीमा फर्म     |     इस सप्ताह शेयर बाजार में इन फैक्टर्स का दिख सकता है असर, निवेश से पहले जरूर जान लें     |     भारत की इकलौती ट्रेन जिसमें नहीं लगता किराया, 73 साल से फ्री में यात्रा कर रहे लोग     |     यूपी सरकार का बड़ा फैसला! घर के एक सदस्य को देगी रोजगार, जान लीजिए प्लान     |     दबंगों ने बाइक का एक्सीलेटर तेज करने पर युवक की पिटाई     |     IPL खत्म होते ही एक टीम में खेलते नजर आएंगे कीरोन पोलार्ड और सुनील नरेन     |     आजम खान के योगी आदित्यनाथ सरकार के पहले बजट सत्र में शामिल होने की संभावना बेहद कम     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374