Breaking
मूर्तियां और कलश से लेकर शिवलिंग तक...तीन दिन का सर्वे पूरा वजुखाने में 12 फीट 8 इंच का शिवलिंग! भाजपा में चला मंथन का दौर, अलग निगम का अलग घोषणापत्र होगा जारी भारत माता की तस्वीर को जमीन पर रखकर अपमानित करने पर भड़के NSUI कार्यकर्ता, पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन... सुप्रीम कोर्ट में शिवराज सरकार प्रस्तुत कर चुकी है, पिछड़ा वर्ग कल्याण आयोग की वार्डवार रिपोर्ट, मंगल... EPF अकाउंट से Withdrawal पर हो सकता है 15 लाख रुपए से ज्यादा का नुकसान, रिटायरमेंट पर लगेगा झटका! हार्ट अटैक, पर्वतीय बीमारी से अब तक 39 तीर्थयात्रियों की मौत MP में अब नीलगाय का शिकार: पुलिस ने 2 शिकारियों को किया गिरफ्तार, बाकी आरोपियों की तलाश जारी इमरान खान को गिरफ्तार किया तो पाकिस्तान में होंगे श्रीलंका जैसे हालात रेलवे ने अचानक इन 20 ट्रेनों को क‍िया रद्द, ऐसे यात्र‍ियों को होगी मुश्‍क‍िल बैंक चाहते हैं कि RBI बदले धोखाधड़ी की परिभाषा, आखिर बैंको को क्‍यों करनी पड़ रही है यह मांग?

#सम्मानसमारोहकेबहानेसियासी_बिसात

Whats App

पंचायत प्रतिनिधियों के द्वारा चुने जाने वाले विधान परिषद सीट को लेकर सारण में शुरू हो चुका है संग्राम। निवर्तमान विधान पार्षद सच्चिदानंद राय व राजद के संभावित प्रत्याशी सुधांशु रंजन ने नवनिर्वाचित पंचायत प्रतिनिधियों के सम्मान समारोह के बहाने शुरू कर दिया है अपना चुनाव प्रचार। कुल 5322 पंचायत प्रतिनिधि करेंगे अपने मताधिकार का प्रयोग. जिसमें 47 जिला परिषद के सदस्य 300 अट्ठारह मुखिया 453 पंचायत समिति सदस्य 4504 वार्ड सदस्य हैं. पिछली बार यहां से भाजपा समर्थित उम्मीदवार सच्चिदानंद राय विजयी हुए थे। सच्चिदानंद राय का भाजपा से टिकट कंफर्म है जबकि राजद के संभावित उम्मीदवार सुधांशु रंजन हर हाल में इस बार सच्चिदानंद राय के विजय रथ को रोकने के प्रयास में है।। लेकिन सबसे ज्यादा पसीना सुधांशु रंजन ही बहा रहे हैं अब सच्चिदानंद राय भी चुनाव परिणाम आने के साथ पंचायत प्रतिनिधियों का सम्मान समारोह आयोजित कर रहे हैं। जाप के प्रदेश सचिव संजय कुमार सिंह भी पंचायत प्रतिनिधियों का सम्मान करते नजर आ रहे हैं ऐसी चर्चा है कि वह भी वोटरों का मन मिजाज टटोल रहे हैं। पंचायत प्रतिनिधियों के द्वारा चुने जाने वाले विधान परिषद सीट के लिए वार्ड सदस्य पंचायत समिति मुखिया व जिला परिषद के सदस्य वोट करते हैं। पंचायत प्रतिनिधियों के द्वारा चुने जाने वाले विधान परिषद सीट के लिए पार्टी से ज्यादा मैनेजमेंट काम करता है जिस प्रत्याशी का मैनेजमेंट तगड़ा होता है जीत उसे ही नसीब होती है पिछली बार सच्चिदानंद राय का मैनेजमेंट भारी पड़ा था।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

मूर्तियां और कलश से लेकर शिवलिंग तक…तीन दिन का सर्वे पूरा वजुखाने में 12 फीट 8 इंच का शिवलिंग!     |     भाजपा में चला मंथन का दौर, अलग निगम का अलग घोषणापत्र होगा जारी     |     भारत माता की तस्वीर को जमीन पर रखकर अपमानित करने पर भड़के NSUI कार्यकर्ता, पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह का फूंका पुतला     |     सुप्रीम कोर्ट में शिवराज सरकार प्रस्तुत कर चुकी है, पिछड़ा वर्ग कल्याण आयोग की वार्डवार रिपोर्ट, मंगलवार को होगा तय     |     EPF अकाउंट से Withdrawal पर हो सकता है 15 लाख रुपए से ज्यादा का नुकसान, रिटायरमेंट पर लगेगा झटका!     |     हार्ट अटैक, पर्वतीय बीमारी से अब तक 39 तीर्थयात्रियों की मौत     |     MP में अब नीलगाय का शिकार: पुलिस ने 2 शिकारियों को किया गिरफ्तार, बाकी आरोपियों की तलाश जारी     |     इमरान खान को गिरफ्तार किया तो पाकिस्तान में होंगे श्रीलंका जैसे हालात     |     रेलवे ने अचानक इन 20 ट्रेनों को क‍िया रद्द, ऐसे यात्र‍ियों को होगी मुश्‍क‍िल     |     बैंक चाहते हैं कि RBI बदले धोखाधड़ी की परिभाषा, आखिर बैंको को क्‍यों करनी पड़ रही है यह मांग?     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374