Breaking
कर्नाटक उच्च न्यायालय ने पीएफआई प्रतिबंध पर सवाल उठाने वाली याचिका खारिज की आदिवासियों के विरोध का फायदा BJP को, कांग्रेस की सावित्री का नाम सुनकर इमोशनल हो रहे वोटर मल्लिकार्जुन खड़गे ने जिस तरह PM के लिए अपशब्द बोले, कांग्रेस नेतृत्व के जमात सोच- राजनाथ सिंह इस तरह करें चुकंदर का इस्तेमाल,चमका सकता है स्किन Hyundai Ioniq 5 (Electric Car) का इंतजार हुआ खत्म, 20 दिसंबर से शुरू होगी बुकिंग अमित शाह का AAP पर जोरदार हमला सिविल अस्पताल में चल रहा इलाज, CCS यूनिवर्सिटी से पोस्ट ग्रेजुएट; सीने पर घाव, कीड़े पड़े थे अखिलेश को छोटे नेताजी के नाम से जाना जाए : शिवपाल एम्स जैसे साइबर हमले से बचाव के लिए एसजीपीजीआईएमएस तैयार यूएनजीए अध्यक्ष ने फिलिस्तीनियों के लिए भरोसा जताने के महत्व पर जोर दिया

अफगानिस्तान के हालात पर दिल्ली में मंथन, ईरान ने देश में समावेशी सरकार का किया आह्वान

Whats App

नई दिल्ली। इस बात पर जोर देते हुए कि अफगानिस्तान गरीबी और आतंकवाद सहित कई समस्याओं का सामना कर रहा है, अफगानिस्तान पर दिल्ली क्षेत्रीय सुरक्षा वार्ता में ईरान ने बुधवार को कहा कि काबुल में एक समावेशी सरकार ही मौजूदा संकट से निपटने का समाधान है। रूस और ईरान के अलावा पांच मध्य एशियाई देश ताजिकिस्तान, किर्गिस्तान, कजाकिस्तान, उज्बेकिस्तान और तुर्कमेनिस्तान भी नई दिल्ली की बैठक में भाग ले रहे हैं।

ईरान के सर्वोच्च राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के सचिव अली शामखानी ने कहा कि अफगानिस्तान को सभी तरह के संकटों का सामना करना पड़ रहा है। इन संकटों का समाधान सभी जातीय समूहों की भागीदारी के साथ एक समावेशी सरकार के गठन के माध्यम से ही हो सकता है। उन्होंने आगे कहा कि हम वास्तव में आशान्वित हैं कि विचारों के आदान-प्रदान के माध्यम से हम इस मंच के उद्देश्यों को प्राप्त करने में सक्षम होंगे।

शामखानी ने यह भी कहा कि उन मुद्दों पर भी चर्चा की जाएगी जो पहले ही अफगानिस्तान को नष्ट कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि मुझे इस बात पर बहुत गर्व और खुशी है कि तेहरान में बैठकें जारी हैं और हम संकट को हल करने के लिए एक-दूसरे से परामर्श करने में सक्षम हैं। बता दें कि इसी तरह के प्रारूप में ईरान ने पहले संवादों की मेजबानी की थी।

Whats App

अफगानिस्तान पर वार्ता की अध्यक्षता कर रहे अजीत डोभाल ने पहले अफगानिस्तान के मुद्दे पर क्षेत्रीय देशों के बीच अधिक सहयोग और बातचीत और समन्वय का आह्वान किया। डोभाल ने कहा, ‘हम आज अफगानिस्तान से संबंधित मामलों पर चर्चा करने के लिए बैठक कर रहे हैं। हम सभी उस देश के घटनाक्रम पर नजर रखे हुए हैं।’ उन्होंने कहा, मुझे विश्वास है कि हमारा विचार-विमर्श उपयोगी साबित होगा और अफगानिस्तान के लोगों की मदद करने में योगदान देगा।

विदेश मंत्रालय के अनुसार, बैठक के दौरान सातों देश अफगानिस्तान में हाल के घटनाक्रम से उत्पन्न क्षेत्र में सुरक्षा स्थिति की समीक्षा करेंगे। यह 2018 और 2019 में तेहरान द्वारा शुरू किए गए प्रारूप की निरंतरता है, हालांकि, इस बार संवाद में सात देशों की सबसे अधिक भागीदारी है। विदेश मंत्रालय ने कहा कि वार्ता शांति, सुरक्षा और स्थिरता को बढ़ावा देने में अफगानिस्तान के लोगों का समर्थन करेगी।

कर्नाटक उच्च न्यायालय ने पीएफआई प्रतिबंध पर सवाल उठाने वाली याचिका खारिज की     |     आदिवासियों के विरोध का फायदा BJP को, कांग्रेस की सावित्री का नाम सुनकर इमोशनल हो रहे वोटर     |     मल्लिकार्जुन खड़गे ने जिस तरह PM के लिए अपशब्द बोले, कांग्रेस नेतृत्व के जमात सोच- राजनाथ सिंह     |     इस तरह करें चुकंदर का इस्तेमाल,चमका सकता है स्किन     |     Hyundai Ioniq 5 (Electric Car) का इंतजार हुआ खत्म, 20 दिसंबर से शुरू होगी बुकिंग     |     अमित शाह का AAP पर जोरदार हमला     |     सिविल अस्पताल में चल रहा इलाज, CCS यूनिवर्सिटी से पोस्ट ग्रेजुएट; सीने पर घाव, कीड़े पड़े थे     |     अखिलेश को छोटे नेताजी के नाम से जाना जाए : शिवपाल     |     एम्स जैसे साइबर हमले से बचाव के लिए एसजीपीजीआईएमएस तैयार     |     यूएनजीए अध्यक्ष ने फिलिस्तीनियों के लिए भरोसा जताने के महत्व पर जोर दिया     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374