Breaking
विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं ने आतंकवादियों का पुतला जलाया रोहतक मंडल में 3491 मामले लंबित, जिनकी 50.98 करोड़ राशि हेल्थ, स्किन और हेयर का रखे ख्याल पॉलिटेक्निक कॉलेज में परीक्षा देने गए थे, चोर ने एक्टिवा का बूट स्पेस खोलकर चुराए मोर माजरा गांव के युवक का स्टंट, तेज स्पीड में नहर में कूदने का VIDEO वायरल पीवी सिंधू क्वार्टरफाइनल में पहुंची रोहित के संक्रमित होने पर इंग्लैंड बुलाए गए मयंक अग्रवाल सहकारी संस्था का रजिस्ट्रेशन कराने के लिए मांगे थे 60 हजार रुपए सेगांव में 25 वर्षीय युवती ने लगाई फांसी, मामले की जांच में जुटी पुलिस भारत में अगले आने वाली 5 सालों में इलेक्ट्रिक वाहन की मांग काफी तेज

नेपाल में सुप्रीम कोर्ट के सामने भिड़े वकील, मुख्य न्यायाधीश के इस्तीफे की मांग को लेकर चल रहा आंदोलन

Whats App

काठमांडू। नेपाल की राजधानी काठमांडू में शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट के सामने वकीलों के दो गुट आपस में भिड़ गए। हाथापाई में कुछ लोगों को मामूली चोटें भी आई हैं। यह हाथापाई मुख्य न्यायाधीश चोलेंद्र शमशेर राणा के समर्थक और विरोधी गुटों के बीच हुई। पुलिस ने मुख्य न्यायाधीश के समर्थक पांच वकीलों को गिरफ्तार कर लिया है।

नेपाल में करीब दो हफ्तों से मुख्य न्यायाधीश के इस्तीफे की मांग को लेकर नेपाल बार एसोसिएशन आंदोलन छेड़े हुए हैं। वकीलों का बड़ा वर्ग एसोसिएशन के साथ है। सुप्रीम कोर्ट के 19 में से 18 न्यायाधीश भी बार एसोसिएशन की मांग के समर्थन में हैं। मुख्य न्यायाधीश के कुछ फैसलों पर सवाल उठाते हुए वकील और न्यायाधीश उनके इस्तीफे की मांग कर रहे हैं। बार एसोसिएशन ने अपनी मांग के समर्थन में सुप्रीम कोर्ट के सामने धरना दे रखा है। वहीं पर मुख्य न्यायाधीश समर्थकों ने भी धरना देने की कोशिश की। इस पर उनकी विरोधी गुट से पहले कहा-सुनी और उसके बाद हाथापाई हो गई।

मानवाधिकार संगठनों और तटस्थ लोगों ने जनहित में सुप्रीम कोर्ट में बने गतिरोध को जल्द खत्म करने की मांग की है। कहा है कि आंदोलन के चलते सुप्रीम कोर्ट का कामकाज ठप है जिससे जनहित के कई मामलों की सुनवाई नहीं हो पा रही है। कई मामलों में लोगों को न्याय नहीं मिल पा रहा है। इन लोगों ने नेपाल की न्यायपालिका की गरिमा बनाए रखने के लिए गतिरोध को जल्द दूर किए जाने की मांग की है।

Whats App

सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ताओं और न्यायाधीशों ने नेपाल के सर्वोच्च न्यायालय के प्रमुख पर हेराफेरी का आरोप लगाते हुए सितंबर के अंत से सीजे राणा के खिलाफ आंदोलन शुरू कर दिया था। आंदोलनकारी अधिवक्ताओं और न्यायाधीशों ने मुख्य न्यायाधीश राणा पर बेंच शापिंग का भी आरोप लगाया है, जिसका अर्थ है कि किसी एक पक्ष के लिए अनुकूल निर्णय लेने के उद्देश्य से सुनवाई की गई थी। आरोप ये भी हैं कि कोर्ट सुधार का कोई काम करने में नाकाम रही है। कुल मिलाकर न्यायपालिका में विसंगतियों, अनियमितताओं और भ्रष्टाचार के आरोप लगते रहे हैं।

विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं ने आतंकवादियों का पुतला जलाया     |     रोहतक मंडल में 3491 मामले लंबित, जिनकी 50.98 करोड़ राशि     |     हेल्थ, स्किन और हेयर का रखे ख्याल     |     पॉलिटेक्निक कॉलेज में परीक्षा देने गए थे, चोर ने एक्टिवा का बूट स्पेस खोलकर चुराए     |     मोर माजरा गांव के युवक का स्टंट, तेज स्पीड में नहर में कूदने का VIDEO वायरल     |     पीवी सिंधू क्वार्टरफाइनल में पहुंची     |     रोहित के संक्रमित होने पर इंग्लैंड बुलाए गए मयंक अग्रवाल     |     सहकारी संस्था का रजिस्ट्रेशन कराने के लिए मांगे थे 60 हजार रुपए     |     सेगांव में 25 वर्षीय युवती ने लगाई फांसी, मामले की जांच में जुटी पुलिस     |     भारत में अगले आने वाली 5 सालों में इलेक्ट्रिक वाहन की मांग काफी तेज     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374