Breaking
स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने जेपी हॉस्पिटल में स्वास्थ्य मेले की व्यवस्थाओं का जायजा लिया गोपालगंज। प्रतिनिधियों के आपसी विवाद से रुकता है पंचायत का विकास। एकदंत संकष्टी चतुर्थी कल अप्रैल के जीएसटी कर भुगतान की तारीख बढ़ी वैश्विक स्तर पर अकेले वायु प्रदूषण से 66.7 लाख लोगों की मौत ऑनलाइन गेमिंग, कैसिनो पर 28 फीसदी जीएसटी लगाने की तैयारी, ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स ने दी प्रस्ताव को मंजू... एक दिन की बढ़त के बाद फिसला बाजार, सेंसेक्स-निफ्टी लाल निशान में क्लोज, पॉवर ग्रिड सबसे ज्यादा लुढ़क... पीएम आवास योजना को लेकर सरकार ने किया बड़ा ऐलान! सभी पर पड़ेगा असर कश्मीर घाटी में अभी और होगी बारिश, जम्मू में चल सकती है लू, अलर्ट जारी सुप्रीम कोर्ट ने एजी पेरारिवलन को रिहा किया

पूर्व जिप सदस्य रिंटू सिंह हत्याकांड: स्वजनों ने पूर्णिया पुलिस पर लगाया लापरवाही का आरोप, कहा- बच जाती जान, अगर…

Whats App

पूर्णिया: सरसी चौक पर पूर्व जिला परिषद सदस्य विश्वजीत सिंह उर्फ रिंटू सिंह की हत्या के बाद वहां जुटे स्वजनों की जुबान पर बस एक ही बात थी कि आखिरकार दुश्मनों ने उसकी जान ले ही लिया। स्वजन यह भी बता रहे थे कि जिप सदस्य रिंटू सिंह अक्सर घर में यह बोलता था कि विरोधी उस पर लग गया है। कभी भी उसकी जान ले सकता है। स्वजनों का आक्रोश पुलिस के प्रति भी था। स्वजनों का सीधा आरोप था कि पुलिस अगर तीन नवंबर को हुए जानलेवा हमले के आरोपितों को गिरफ्तार कर लेती तो आज उनका रिंटू जिंदा रहता। जानकारी के अनुसार हत्या की आशंका से हाल के कुछ दिनों से रिंटू सिंह अक्सर अपने ससुराल चंदवा में ही रुक जाता था। घर भी आने-जाने की जानकारी वह किसी को नहीं देता था।

देर रात तक जिद पर अड़े रहे स्वजन

इधर देर रात भी पुलिस पूर्व जिप सदस्य के शव को अपने कब्जे में नहीं ले पाई थी। घटनास्थल से शव उठा स्वजन घर लेकर चले गए थे। कई थानों की पुलिस लगातार उसके घर पर डटी रही और शव को कब्जे में लेने की कोशिश में जुटी रही, लेकिन स्वजन अपनी जिद पर डटे रहे। स्वजन सरकार के मंत्री व आला अधिकारियों के पहुंचने पर ही शव पुलिस को सौंपने की बात पर अडिग थे। स्वजनों व समर्थकों का आक्रोश लगातार गहराता जा रहा था।

Whats App

घटनास्थल पर मौजूद कुछ ग्रामीणों ने बताया कि तीन नवंबर को जानलेवा हमले के बाद से ही रिंटू सिंह को हर पल खतरा महसूस हो रहा था। खासकर गांव के ही कुछ अपराधियों से भय होने के कारण वह बस्ती में भी ज्यादा इधर-उधर घुमने से परहेज करता था। इतना ही नहीं गांव से गुजरने वाली एस एच 77 से मीरगंज की ओर उन्होंने जाना छोड़ दिया था। लोगों के अनुसार इधर से धमदाहा भी वह बनमनखी के रास्ते जाता आता था।

पुलिस पर भरोसा बन गया मौत का कारण

लोगों का कहना था कि सरसी बाजार की जिस दुकान पर उनकी हत्या हुई, वह थाना से एकदम करीब था। यह अस्थाई बस पड़ाव भी है। सामने स्टेट बैंक और बगल में थाना। इस चलते विश्वजीत सिंह उर्फ रिंटू यहां खुद को ज्यादा महफूज महसूस करते थे। इस चलते गांव की बजाय उनकी बैठकी ज्यादातर इसी चौक पर जमती थी। थाना रहने के कारण उन्हें यह विश्वास था कि अपराधी यहां उनका कुछ बिगाड़ने की नहीं सोच पाएंगे। लोगों का कहना था कि इस कारण यहां वे काफी निश्चिंत रहते थे और यही निश्चिंतता उनकी मौत का कारण बन गया।

सीसीटीवी फुटेज से खुल सकता है राज

जिस जगह पर रिंटू की हत्या हुई है, उसके ठीक सामने स्टेट बैंक की शाखा है। बैंक के बाहरी हिस्से में भी सीसीटीवी लगा हुआ है। ऐसे में पुलिस सीसीटीवी फुटेज के सहारे अपराधियों तक पहुंचने की हर जतन करेगी। वैसे इस संबंध में बैंक अधिकारी से बात करने की कोशिश समाचार प्रेषण तक विफल रही।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने जेपी हॉस्पिटल में स्वास्थ्य मेले की व्यवस्थाओं का जायजा लिया     |     गोपालगंज। प्रतिनिधियों के आपसी विवाद से रुकता है पंचायत का विकास।     |     एकदंत संकष्टी चतुर्थी कल     |     अप्रैल के जीएसटी कर भुगतान की तारीख बढ़ी     |     वैश्विक स्तर पर अकेले वायु प्रदूषण से 66.7 लाख लोगों की मौत     |     ऑनलाइन गेमिंग, कैसिनो पर 28 फीसदी जीएसटी लगाने की तैयारी, ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स ने दी प्रस्ताव को मंजूरी     |     एक दिन की बढ़त के बाद फिसला बाजार, सेंसेक्स-निफ्टी लाल निशान में क्लोज, पॉवर ग्रिड सबसे ज्यादा लुढ़का     |     पीएम आवास योजना को लेकर सरकार ने किया बड़ा ऐलान! सभी पर पड़ेगा असर     |     कश्मीर घाटी में अभी और होगी बारिश, जम्मू में चल सकती है लू, अलर्ट जारी     |     सुप्रीम कोर्ट ने एजी पेरारिवलन को रिहा किया     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374