Breaking
ट्रक ने स्कूटी में मारी टक्कर, दो लड़कियों की मौत  कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी! खत्म हुआ NPS, पुरानी पेंशन लागू करने के आदेश जारी पेटीएम ने 950 करोड़ के निवेश के लिए बनाई बीमा फर्म इस सप्ताह शेयर बाजार में इन फैक्टर्स का दिख सकता है असर, निवेश से पहले जरूर जान लें भारत की इकलौती ट्रेन जिसमें नहीं लगता किराया, 73 साल से फ्री में यात्रा कर रहे लोग यूपी सरकार का बड़ा फैसला! घर के एक सदस्य को देगी रोजगार, जान लीजिए प्लान दबंगों ने बाइक का एक्सीलेटर तेज करने पर युवक की पिटाई IPL खत्म होते ही एक टीम में खेलते नजर आएंगे कीरोन पोलार्ड और सुनील नरेन आजम खान के योगी आदित्यनाथ सरकार के पहले बजट सत्र में शामिल होने की संभावना बेहद कम गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल के अनुरोध पर दमनगंगा-पार-तापी-नर्मदा लिंक परियोजना रद्द

कोविड पाजिटिव होने पर बढ़ जाता है मानसिक बीमारी का खतरा, थकान व अनिद्रा की शिकायतों में भी इजाफा

Whats App

लंदन। ब्रिटेन में हुए एक नए अध्ययन में यह बात सामने आई है कि पीसीआर जांच में कोविड पाजिटिव पाए जाने के बाद लोगों में मानसिक बीमारी, थकान व अनिद्रा का खतरा बढ़ जाता है। यूनिवर्सिटी आफ मैनचेस्टर के शोधकर्ताओं ने देश में फरवरी से दिसंबर 2020 के बीच कोविड संक्रमित हुए 2,26,521 लोगों की सेहत संबंधी रिकार्ड का विश्लेषण किया। जामा नेटवर्क ओपन में प्रकाशित यह अध्ययन निष्कर्ष बतात है कि डाक्टरों के पास थकान की समस्या लेकर आने वाले वैसे लोगों की संख्या में छह गुना इजाफा हुआ, जो पालीमरेज चेन रिएक्शन (पीसीआर) जांच में कोविड पाजिटिव पाए गए थे।

गैर संक्रमित लोगों की तुलना में कोविड पाजिटिव पाए गए लोगों में अनिद्रा की समस्या में तीन गुना इजाफा हुआ। ऐसे लोग भी डाक्टरों के पास पहुंचे, जिन्हें पहले कभी ऐसी शिकायत नहीं रही। पीसीआर जांच में कोविड पाजिटिव पाए जाने पर 83 फीसद लोगों की मानसिक बीमारी की जटिलताओं में इजाफा हुआ। यही नहीं, पीसीआर जांच निगेटिव आने पर भी 71 फीसद लोगों में मानसिक बीमारी का खतरा बढ़ गया। शोधकर्ताओं की दुविधा है कि क्या कोविड-19 सीधे तौर पर मानसिक बीमारी भी पैदा कर रही है। ऐसा संभव हो सकता है, क्योंकि महामारी की वजह से मानसिक तनाव बढ़ा है। यूनिवर्सिटी आफ मैनचेस्टर के डा. मैथियास पियर्स कहते हैं, ‘थकान तो सीधे तौर पर कोविड-19 का परिणाम है और इस बीमारी में अनिद्रा का खतरा भी बढ़ जाता है।’

अन्य अध्ययनों ने भी इसी तरह के परिणाम सामने आए हैं, जो कोरोना से संक्रमित लोगों में मानसिक बीमारी, अनिद्रा के जोखिम का खुलासा करते हैं। शोधकर्ताओं ने कहा कि यह महत्वपूर्ण है कि डाक्टर रोगियों पर कोरोना के लंबे समय तक प्रभाव को पहचानें। कोविड -19 संक्रमण के लिए पाजिटिव पाए जाने वाले लोगों का नियमित समय पर चेकअप से लक्षणों की पहचान करने में मदद मिल सकती है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

ट्रक ने स्कूटी में मारी टक्कर, दो लड़कियों की मौत      |     कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी! खत्म हुआ NPS, पुरानी पेंशन लागू करने के आदेश जारी     |     पेटीएम ने 950 करोड़ के निवेश के लिए बनाई बीमा फर्म     |     इस सप्ताह शेयर बाजार में इन फैक्टर्स का दिख सकता है असर, निवेश से पहले जरूर जान लें     |     भारत की इकलौती ट्रेन जिसमें नहीं लगता किराया, 73 साल से फ्री में यात्रा कर रहे लोग     |     यूपी सरकार का बड़ा फैसला! घर के एक सदस्य को देगी रोजगार, जान लीजिए प्लान     |     दबंगों ने बाइक का एक्सीलेटर तेज करने पर युवक की पिटाई     |     IPL खत्म होते ही एक टीम में खेलते नजर आएंगे कीरोन पोलार्ड और सुनील नरेन     |     आजम खान के योगी आदित्यनाथ सरकार के पहले बजट सत्र में शामिल होने की संभावना बेहद कम     |     गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल के अनुरोध पर दमनगंगा-पार-तापी-नर्मदा लिंक परियोजना रद्द     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374