Breaking
बांधी 75 फुट की हरी-भरी राखी, बहनें बोली - पेड़ हमारे हरे-भरे भैया भालू नें कई लोगों को किया घायल घर बैठे ही लोगों को मिला 12 लाख स्मार्ट कार्ड आधारित पंजीयन प्रमाण-पत्र तथा ड्राइविंग लायसेंस मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सामुदायिक वन संसाधन अधिकार जागरूकता अभियान का किया शुभारंभ मुख्यालय सहित विभिन्न नगरों में निकाली रैली; विद्यार्थी, शिक्षकों एवं पुलिस कर्मी रहे शामिल नीतीश आठवीं बार बने सीएम अपर कलेक्टर ने जारी किया आदेश, हितग्राही को नहीं दे रहे थे योजना का लाभ सीहोर में जिला संस्कार मंच ने ग्रामीणों को 100 से अधिक तिरंगे निशुल्क बांटे महाराष्ट्र के कई इलाकों में भारी बारिश Skoda Enyaq iV की शुरू हुई टेस्टिंग

थानेदार को मुखिया से रिश्वत में कीमती मोबाइल मांगना पड़ा महंगा.चली गई कुर्शी।

Whats App

उत्तर प्रदेश के बरेली जिले में भोजीपुरा थाने के इंस्पेक्टर अशोक कुमार को ग्राम प्रधान से रिश्वत में कीमती मोबाइल  मांगना पड़ गया. प्रधान की शिकायत के बाद जब मामले की जांच की गई तो आरोप सही पाया गया. इसके बाद एसएसपी ने इंस्पेक्टर अशोक कुमार को लाइन हाजिर कर सस्पेंशन की कार्यवाई शुरू कर दी. इससे पहले भी एसएसपी भ्रष्टाचार के आरोप लगने पर कई पुलिसकर्मियों को निलंबित कर चुके हैं. अब एएसपी की जांच के बाद इंस्पेक्टर अशोक कुमार पर भ्रष्टाचार की रिपोर्ट दर्ज हो सकती है.

दरअसल, भोजीपुरा के गांव रूपपुर निवासी नाजिम अली ने बताया कि गांव की प्रधानी 2005 से उनके घर में चली आ रही है. इस बार भी वह प्रधानी जीत गए. इस बात से गांव के रहने वाले हारे हुए एक प्रत्याशी उससे रंजिश मान रहा है. वह एक बार उन पर जानलेवा हमला कर चुका है और अब जान से मारने की धमकी दे रहा है. भोजीपुरा पुलिस का उसे संरक्षण मिला हुआ है. इसके चलते वह गांव में तमंचे लेकर घूमता है और उनके समर्थको के साथ मारपीट करता है. मारपीट के बाद जब नव निर्वाचित ग्राम प्रधान न्याय की गुहार लगाते हुए इंस्पेक्टर से मिलने गया तो इंस्पेक्टर ने उसे व्हाट्सएप पर मैसेज करके एक कीमती मोबाइल की मांग की.

सैमसंग कंपनी के मोबाइल की कीमत 50 हजार रुपये थी, अधिक कीमत होने के कारण ग्राम प्रधान ने इंस्पेक्टर को मोबाइल देने से इनकार कर दिया. इससे इंस्पेक्टर उससे रंजिश मानकर बातचीत भी बंद कर दी. अब दो दिन पहले ग्राम प्रधान ने आईजी रमित शर्मा को लिखित शिकायत करके इंस्पेक्टर पर कार्यवाई की मांग की. जिसके बाद एएसपी को जांच सौंपी गई. उधर, एसएसपी रोहित सिंह सजवाण ने बताया कि इंस्पेक्टर पर लगे आरोप जांच में सही पाए गए हैं. उन्होंने व्हाट्सएप पर एक प्रधान से मोबाइल मांगा था. उनके निलंबन की कार्रवाई भी शुरू की गई है.

बांधी 75 फुट की हरी-भरी राखी, बहनें बोली – पेड़ हमारे हरे-भरे भैया     |     भालू नें कई लोगों को किया घायल     |     घर बैठे ही लोगों को मिला 12 लाख स्मार्ट कार्ड आधारित पंजीयन प्रमाण-पत्र तथा ड्राइविंग लायसेंस     |     मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सामुदायिक वन संसाधन अधिकार जागरूकता अभियान का किया शुभारंभ     |     मुख्यालय सहित विभिन्न नगरों में निकाली रैली; विद्यार्थी, शिक्षकों एवं पुलिस कर्मी रहे शामिल     |     नीतीश आठवीं बार बने सीएम     |     अपर कलेक्टर ने जारी किया आदेश, हितग्राही को नहीं दे रहे थे योजना का लाभ     |     सीहोर में जिला संस्कार मंच ने ग्रामीणों को 100 से अधिक तिरंगे निशुल्क बांटे     |     महाराष्ट्र के कई इलाकों में भारी बारिश     |     Skoda Enyaq iV की शुरू हुई टेस्टिंग     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374