Breaking
OPD कार्ड के लिए स्कैन एंड शेयर सेल्फ रजिट्रेशन सुविधा शुरू, मरीजों का बचेगा समय दीवारों में बड़ी-बड़ी दरारें, अनहोनी के डर से मिडिल स्कूल में लग रही प्राइमरी की क्लासेस गुजरात में पीएम मोदी ने कहा- खड़गे को मेरी तुलना रावण से करना सिखाया गया बस्ती में बच्‍चों से लेकर 90 साल की बुजुर्ग महिला तक पहुंची, 109 लोगों की हुई जांच फिल्म 'द कश्मीर फाइल्स' पर बयान देने वाले फिल्मकार नादव लापिड ने मांगी माफी.. UP : चूहे की हत्‍या मामला, पोस्टमार्टम रिपोर्ट से केस में नया मोड़ अज्ञात वाहन की टक्कर से एक अभिभाषक की मौत, साथी युवक गंभीर घायल टॉयलेट में मोबाइल का इस्तेमाल हो सकता है खतरनाक साइकिल चलाकर वोट डालने पहुंची सूरत की महापौर हेमाली बोघावाला 3 लाख 20 हजार रुपए जीते; कुशाभाऊ ठाकरे विश्वविद्यालय से की है पत्रकारिता की पढ़ाई

थानेदार को मुखिया से रिश्वत में कीमती मोबाइल मांगना पड़ा महंगा.चली गई कुर्शी।

Whats App

उत्तर प्रदेश के बरेली जिले में भोजीपुरा थाने के इंस्पेक्टर अशोक कुमार को ग्राम प्रधान से रिश्वत में कीमती मोबाइल  मांगना पड़ गया. प्रधान की शिकायत के बाद जब मामले की जांच की गई तो आरोप सही पाया गया. इसके बाद एसएसपी ने इंस्पेक्टर अशोक कुमार को लाइन हाजिर कर सस्पेंशन की कार्यवाई शुरू कर दी. इससे पहले भी एसएसपी भ्रष्टाचार के आरोप लगने पर कई पुलिसकर्मियों को निलंबित कर चुके हैं. अब एएसपी की जांच के बाद इंस्पेक्टर अशोक कुमार पर भ्रष्टाचार की रिपोर्ट दर्ज हो सकती है.

दरअसल, भोजीपुरा के गांव रूपपुर निवासी नाजिम अली ने बताया कि गांव की प्रधानी 2005 से उनके घर में चली आ रही है. इस बार भी वह प्रधानी जीत गए. इस बात से गांव के रहने वाले हारे हुए एक प्रत्याशी उससे रंजिश मान रहा है. वह एक बार उन पर जानलेवा हमला कर चुका है और अब जान से मारने की धमकी दे रहा है. भोजीपुरा पुलिस का उसे संरक्षण मिला हुआ है. इसके चलते वह गांव में तमंचे लेकर घूमता है और उनके समर्थको के साथ मारपीट करता है. मारपीट के बाद जब नव निर्वाचित ग्राम प्रधान न्याय की गुहार लगाते हुए इंस्पेक्टर से मिलने गया तो इंस्पेक्टर ने उसे व्हाट्सएप पर मैसेज करके एक कीमती मोबाइल की मांग की.

सैमसंग कंपनी के मोबाइल की कीमत 50 हजार रुपये थी, अधिक कीमत होने के कारण ग्राम प्रधान ने इंस्पेक्टर को मोबाइल देने से इनकार कर दिया. इससे इंस्पेक्टर उससे रंजिश मानकर बातचीत भी बंद कर दी. अब दो दिन पहले ग्राम प्रधान ने आईजी रमित शर्मा को लिखित शिकायत करके इंस्पेक्टर पर कार्यवाई की मांग की. जिसके बाद एएसपी को जांच सौंपी गई. उधर, एसएसपी रोहित सिंह सजवाण ने बताया कि इंस्पेक्टर पर लगे आरोप जांच में सही पाए गए हैं. उन्होंने व्हाट्सएप पर एक प्रधान से मोबाइल मांगा था. उनके निलंबन की कार्रवाई भी शुरू की गई है.

OPD कार्ड के लिए स्कैन एंड शेयर सेल्फ रजिट्रेशन सुविधा शुरू, मरीजों का बचेगा समय     |     दीवारों में बड़ी-बड़ी दरारें, अनहोनी के डर से मिडिल स्कूल में लग रही प्राइमरी की क्लासेस     |     गुजरात में पीएम मोदी ने कहा- खड़गे को मेरी तुलना रावण से करना सिखाया गया     |     बस्ती में बच्‍चों से लेकर 90 साल की बुजुर्ग महिला तक पहुंची, 109 लोगों की हुई जांच     |     फिल्म ‘द कश्मीर फाइल्स’ पर बयान देने वाले फिल्मकार नादव लापिड ने मांगी माफी..     |     UP : चूहे की हत्‍या मामला, पोस्टमार्टम रिपोर्ट से केस में नया मोड़     |     अज्ञात वाहन की टक्कर से एक अभिभाषक की मौत, साथी युवक गंभीर घायल     |     टॉयलेट में मोबाइल का इस्तेमाल हो सकता है खतरनाक     |     साइकिल चलाकर वोट डालने पहुंची सूरत की महापौर हेमाली बोघावाला     |     3 लाख 20 हजार रुपए जीते; कुशाभाऊ ठाकरे विश्वविद्यालय से की है पत्रकारिता की पढ़ाई     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374