Breaking
ट्रक ने स्कूटी में मारी टक्कर, दो लड़कियों की मौत  कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी! खत्म हुआ NPS, पुरानी पेंशन लागू करने के आदेश जारी पेटीएम ने 950 करोड़ के निवेश के लिए बनाई बीमा फर्म इस सप्ताह शेयर बाजार में इन फैक्टर्स का दिख सकता है असर, निवेश से पहले जरूर जान लें भारत की इकलौती ट्रेन जिसमें नहीं लगता किराया, 73 साल से फ्री में यात्रा कर रहे लोग यूपी सरकार का बड़ा फैसला! घर के एक सदस्य को देगी रोजगार, जान लीजिए प्लान दबंगों ने बाइक का एक्सीलेटर तेज करने पर युवक की पिटाई IPL खत्म होते ही एक टीम में खेलते नजर आएंगे कीरोन पोलार्ड और सुनील नरेन आजम खान के योगी आदित्यनाथ सरकार के पहले बजट सत्र में शामिल होने की संभावना बेहद कम गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल के अनुरोध पर दमनगंगा-पार-तापी-नर्मदा लिंक परियोजना रद्द

कांग्रेस के बाद जदयू को भी ममता ने दिया बड़ा झटका, पवन वर्मा ने ज्‍वाइन की TMC, कही ये बात

Whats App

पटना। Bihar Politics: पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस (TMC) की अध्‍यक्ष ममता बनर्जी (West Bengal CM Mamata Banerjee) ने कांग्रेस के साथ ही जदयू को भी बड़ा झटका दे दिया है।बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार (Bihar CM Nitish Kumar) के खास रहे जदयू प्रवक्‍ता और महासचिवपवन वर्मा को उन्‍होंने टीएमसी की सदस्‍यता दिलाई है। दिल्‍ली में पवन वर्मा (Pawan Verma) ने तृणमूल कांग्रेस की सदस्‍यता ग्रहण की है। वहीं दरभंगा के पूर्व भाजपा सांसद और कांग्रेस नेता कीर्ति आजाद ने भी टीएमसी का दामन थाम लिया है। उन्‍होंने पत्‍नी पूनम आजाद, बहू स्‍वस्तिका आजाद और बेटे सौम्‍या आजाद के साथ पार्टी ज्‍वाइन की है।

बता दें कि पवन वर्मा को जदयू ने पार्टी से बाहर का रास्‍ता दिखा दिया था। उनके साथ ही प्रशांंत किशोर को भी पार्टी से निकाल दिया गया था। बताया जाता है कि प्रशांत किशोर (Prashant Kishore) की नीतीश कुमार से नजदीकी में पवन वर्मा की खास भूमिका रही। उसी का नतीजा 2015 के चुनाव का गठबंधन था। टीएमसी की सदस्‍यता ग्रहण करने के बाद पवन वर्मा ने कहा कि सीएए और एनआरसी के मुद्दे पर उन्‍हें जदयू ने निष्‍कासित कर दिया गया था।

सीएम नीतीश कुमार के रह चुके थे सलाहकार 

Whats App

जानकारी के अनुसार पवन वर्मा भारतीय विदेश सेवा के अधिकारी रहे हैं। वे सीएम नीतीश कुमार के सलाहकार की भूमिका में भी रहे थे। नीतीश कुमार से करीबी के कारण उन्‍हें 2014 में राज्‍यसभा सदस्‍य बनाया गया था। वे 2016 तक जदयू के राज्‍यसभा सदस्‍य रहे। जब जदयू और भाजपा की करीबी हुई तो पवन वर्मा ने इसका विरोध किया था। नीतीश कुमार को उन्‍होंने पत्र लिखकर इससे रोका था। उसके बाद से पार्टी से उनकी दूरी बढ़ने लगी थी। काफी दिनों तक साइडलाइन रहने के बाद पवन वर्मा ने टीएमसी का दामन थामा है।  बताया जाता है कि कांग्रेस नेता और बिहार के दरभंगा से पूर्व भाजपा सांसद कीर्ति आजाद भी टीएमसी की सदस्‍यता ग्रहण करेंगे।

बता दें कि बंंगाल चुनाव में मिली जोरदार जीत के बाद से ममता बनर्जी राष्‍ट्रीय राजनीति में भी काफी सक्रिय हो गई हैं। एंटी बीजेपी स्‍क्‍वाड बनाने की तैयारी में वे जोर-शोर से लगी हुई हैं। इसी क्रम में वे भाजपा समेत जदयू और कांग्रेस नेताओं को पार्टी में शामिल करा रही हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

ट्रक ने स्कूटी में मारी टक्कर, दो लड़कियों की मौत      |     कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी! खत्म हुआ NPS, पुरानी पेंशन लागू करने के आदेश जारी     |     पेटीएम ने 950 करोड़ के निवेश के लिए बनाई बीमा फर्म     |     इस सप्ताह शेयर बाजार में इन फैक्टर्स का दिख सकता है असर, निवेश से पहले जरूर जान लें     |     भारत की इकलौती ट्रेन जिसमें नहीं लगता किराया, 73 साल से फ्री में यात्रा कर रहे लोग     |     यूपी सरकार का बड़ा फैसला! घर के एक सदस्य को देगी रोजगार, जान लीजिए प्लान     |     दबंगों ने बाइक का एक्सीलेटर तेज करने पर युवक की पिटाई     |     IPL खत्म होते ही एक टीम में खेलते नजर आएंगे कीरोन पोलार्ड और सुनील नरेन     |     आजम खान के योगी आदित्यनाथ सरकार के पहले बजट सत्र में शामिल होने की संभावना बेहद कम     |     गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल के अनुरोध पर दमनगंगा-पार-तापी-नर्मदा लिंक परियोजना रद्द     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374