Breaking
सुपारी गोदाम में आगजनी, नशेड़ी युवकों पर शक, पत्नी से विवाद के बाद कार जलाई राजस्थान जीत के साथ दूसरे स्थान पर लिवरपूल ने 16 साल बाद जीता एफए कप गुना पुलिसकर्मी हत्याकांड: शिकारियों के एनकाउंटर पर उठ रहे सवाल, मुठभेड़ के खिलाफ CGM कोर्ट में लगी ... रायबरेली में गंगा स्नान करने आई महिला की गला घोंटकर हत्या आंखें फोड़ शव को आम के पेड़ से लटकाया कैलिफोर्निया के चर्च में फायरिंग से 1 की मौत ज्ञानवापी मस्जिद पर कोर्ट ने आदेश में शिवलिंग मिलने का जिक्र किया, CRPF करेगी सुरक्षा आपके शहर में आज बैंक खुले हैं या नहीं, जल्दी से कर लें चेक, वरना अटक जाएंगे काम जानिए क्यों Adani Cement के बड़े अधिग्रहण के बाद सीमेंट सेक्टर के शेयरों में आई जबरदस्त तेजी? – Offi...

आंदोलन पर अड़े राकेश टिकैत का अजब बयान, कहा- कृषि कानून रद करने से न होगा समाधान

Whats App

नई दिल्ली/सोनीपत/गाजियाबाद। भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों को रद करने को लेकर अजब बयान दिया है। राकेश टिकैत ने बृहस्पतिवार को तेलंगाना में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि केंद्र सरकार ने तीनों कृषि क़ानूनों को रद करने का फैसला किया है, लेकिन इससे समाधान नहीं होगा। किसानों की जो समस्या है, वह वैसी की वैसी है। जब तक केंद्र सरकार किसानों से बातचीत नहीं करेगी और न्यूनतम समर्थन मूल्य पर कानून नहीं लाएगी, तब तक हमारा प्रदर्शन जारी रहेगा।

यहां पर बता दें कि तीनों केंद्रीय कानूनों वापस लेने का ऐलान खुद पीएम मोदी ने 19 नवंबर को किया था। इस पर संयुक्त किसान मोर्चा ने खुशी तो जताई लेकिन 6 अन्य मागों का पिटारा भी खोल दिया। इसमें एमएसपी पर कानून बनाने की मांग प्रमुख है।

नरेन्द्र मोदी सरकार द्वारा तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों को वापस लेने पर किसान नेता राकेश टिकैत ने टिप्पणी की थी। इसमें उन्होंने कहा था ‘ये सही है कि सरकार ने हमारी बात सुन ली है, लेकिन आंदोलन अभी जारी रहेगा। उन्होंने कहा है कि एमएसपी पर हमारी मांग पूरी होनी अभी बाकी है। राकेश टिकैत के अनुसार आंदोलन समाप्त नहीं होगा। जो मांगे हैं, वह बरकरार हैं। सरकार कुछ भी कहती रही, नीतियां बदलती रही, लेकिन जब तक किसान और सरकार की मीटिंग नहीं होगी, आंदोलन खत्म करने के कोई संकेत नहीं हैं। इन मुद्दों पर बातचीत होनी चाहिए। राकेश टिकैत का कहना है कि सरकार को पिछले दिनोैं पत्र जारी किया था। बातचीत के लिए प्रधानमंत्री ही आकर संबोधन करेंगे। देश कोई बाहर का नहीं, जो किसान शहीद हुए हैं, उनकी भी बात की जाएगी। तमाम ऐसे मुद्दे हैं। तकरीबन मुद्दे हमारे बहुत अधिक हैं, जब बातचीत शुरू होगी तो मुद्दे भी निकल कर आएंगे।

Whats App

वहीं, एक तरफ किसान आंदोलन का एक साल 26 नवंबर को पूरा होने जा रहा है तो दूसरी तरफ पीएम नरेंद्र मोदी के तीन कृषि कानूनों को वापस लेने के एलान के बाद भी दिल्ली-एनसीार के चारों बार्डर (सिंघु, टीकरी, शाहजहांपुर और गाजीपुर) पर किसानों की तादाद बढ़ने जा रही है।

बता दें कि संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से एक साल पूरा होने पर किसानों से बार्डर पर पहुंचने का आह्वान किया गया है। एसकेएम की काल पर भारी तादाद में पंजाब के अलग अलग हिस्सों से किसानों ने ट्रैक्टर और ट्राली के साथ दिल्ली की ओर बढ़ना शुरू कर दिया है। किसान आंदोलन की अगुवाई कर रहा संयुक्त किसान मोर्चा पहले ही साफ कर चुका है कि यह आंदोलन अभी जारी रहेगा।

एसकेएम का कहना है कि जब तक तीन कृषि कानूनों के खिलाफ संसद में बिल नहीं पास हो जाता है तब तक वो पीछे नहीं हटने वाले हैं। उन्होंने यह भी कहा है कि अभी न्यूनतम समर्थन मूल्य पर कानून बनाने समेत 6 मांगें हैं, वह भी पूरी होना चाहिए।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

सुपारी गोदाम में आगजनी, नशेड़ी युवकों पर शक, पत्नी से विवाद के बाद कार जलाई     |     राजस्थान जीत के साथ दूसरे स्थान पर     |     लिवरपूल ने 16 साल बाद जीता एफए कप     |     गुना पुलिसकर्मी हत्याकांड: शिकारियों के एनकाउंटर पर उठ रहे सवाल, मुठभेड़ के खिलाफ CGM कोर्ट में लगी याचिका, कौन देगा इन अनसुलझे सवालों के जवाब ?     |     रायबरेली में गंगा स्नान करने आई महिला की गला घोंटकर हत्या     |     आंखें फोड़ शव को आम के पेड़ से लटकाया     |     कैलिफोर्निया के चर्च में फायरिंग से 1 की मौत     |     ज्ञानवापी मस्जिद पर कोर्ट ने आदेश में शिवलिंग मिलने का जिक्र किया, CRPF करेगी सुरक्षा     |     आपके शहर में आज बैंक खुले हैं या नहीं, जल्दी से कर लें चेक, वरना अटक जाएंगे काम     |     जानिए क्यों Adani Cement के बड़े अधिग्रहण के बाद सीमेंट सेक्टर के शेयरों में आई जबरदस्त तेजी? – Officenewz Hindi     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374