Breaking
भारत में टारगेंट किलिंग का काम विदेशों में बैठे आंतकियों के इशारे पर  कर्नाटक उच्च न्यायालय ने पीएफआई प्रतिबंध पर सवाल उठाने वाली याचिका खारिज की आदिवासियों के विरोध का फायदा BJP को, कांग्रेस की सावित्री का नाम सुनकर इमोशनल हो रहे वोटर मल्लिकार्जुन खड़गे ने जिस तरह PM के लिए अपशब्द बोले, कांग्रेस नेतृत्व के जमात सोच- राजनाथ सिंह इस तरह करें चुकंदर का इस्तेमाल,चमका सकता है स्किन Hyundai Ioniq 5 (Electric Car) का इंतजार हुआ खत्म, 20 दिसंबर से शुरू होगी बुकिंग अमित शाह का AAP पर जोरदार हमला सिविल अस्पताल में चल रहा इलाज, CCS यूनिवर्सिटी से पोस्ट ग्रेजुएट; सीने पर घाव, कीड़े पड़े थे अखिलेश को छोटे नेताजी के नाम से जाना जाए : शिवपाल एम्स जैसे साइबर हमले से बचाव के लिए एसजीपीजीआईएमएस तैयार

कोरोना के नए वैरिएंट ‘ओमीक्रोन’ से क्या बचा पाएगी वैक्सीन, जानें फाइजर और बायोएनटेक ने क्या कहा

Whats App

वाशिंगटन। दक्षिण अफ्रीका में मिले कोराना वायरस के नए वैरिएट ‘ओमीक्रोन’ ने के सामने आने के बाद दुनिया में दहशत फैल गई है। जानकरों का कहना है कि ओमीक्रोन डेल्टा वैरिएट से भी अधिक खतरनाक है। वैज्ञानिकों को डर सता रहा है कि यह नया वैरिएंट कोरोना वैक्सीन को भी बेअसर कर सकता है। पहली बार यह वैरिएंट 24 नवंबर को दक्षिण अफ्रीका में पाया गया था। वहीं, दवा कंपनियों फाइजर और बायोएनटेक के बयान ने लोगों को की चिंता को और बढ़ा दिया है।

शनिवार को दवा कंपनियों फाइजर और बायोएनटेक ने एक बयान जारी कर कहा कि उन्हें इस बात का यकीन नहीं है कि उनकी वैक्सीन कोरोना के नए वैरिएंट ‘ओमीक्रोन’ के इलाज में सक्षम है या नहीं। स्पुतनिक ने बताया कि कंपनियों ने लगभग 100 दिनों में इस नए वैरिएंट के खिलाफ एक नया टीका विकसित करने का भी वादा किया है। कोरोना के नए वेरिएंट B.1.1.529 को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी चिंता जताई है। डब्ल्यूएचओ ने इसे वैरिएंट आफ कंसर्न की श्रेणी में रखा है। दक्षिणी अफ्रीका में पाए गए इस वैरिएंट को ‘बोत्सवाना वैरियेंट’ भी कहा जा रहा है। डब्लूएचओ ने इस वैरिएंट का नाम ग्रीक अक्षर ‘Omicron’ से रखा है।

कंपनी ने अपने बयान में कहा है कि अगर यह वैरिएंट वैक्सीन पर बेअसर रहता है, तो फाइजर और बायोएनटेक लगभग 100 दिनों में उस वैरिएंट के खिलाफ असरदार वैक्सीन विकसित करने और उत्पादन करने में सक्षम होंगे। फाइजर और बायोएनटेक ने कहा कि वे अगले दो हफ्तों के भीतर ओमीक्रोन पर अधिक डेटा उपलब्ध हो जाएगा। बयान में कहा गया है कि नया संस्करण पहले मिल चिके वैरिएंट से काफी अलग है।

Whats App

बयान में आगे कहा गया है कि दवा कंपनियों ने अपने टीके को नए संभावित वौरिएंट के अनुकूल बनाने के लिए महीनों पहले से ही काम करना शुरू कर दिया था। ओमीक्रोन वैरिएंट के प्रसार के बीच विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) ने शनिवार को जिनेवा में होने वाले 12वें मंत्रिस्तरीय सम्मेलन (एमसी12) को स्थगित कर दिया। नए वैरिएंट को लेकर भारत भी सतर्क हो गया है। ब्रिटेन, इटली और इजरायल समेत कई देशों ने दक्षिण अफ्रीका, लेसेटो, बोत्सवाना, जिम्बाब्वे, मोजांबिक, नाबिया और इस्वातिनी के लिए उड़ानें बंद कर दी हैं।

भारत में टारगेंट किलिंग का काम विदेशों में बैठे आंतकियों के इशारे पर      |     कर्नाटक उच्च न्यायालय ने पीएफआई प्रतिबंध पर सवाल उठाने वाली याचिका खारिज की     |     आदिवासियों के विरोध का फायदा BJP को, कांग्रेस की सावित्री का नाम सुनकर इमोशनल हो रहे वोटर     |     मल्लिकार्जुन खड़गे ने जिस तरह PM के लिए अपशब्द बोले, कांग्रेस नेतृत्व के जमात सोच- राजनाथ सिंह     |     इस तरह करें चुकंदर का इस्तेमाल,चमका सकता है स्किन     |     Hyundai Ioniq 5 (Electric Car) का इंतजार हुआ खत्म, 20 दिसंबर से शुरू होगी बुकिंग     |     अमित शाह का AAP पर जोरदार हमला     |     सिविल अस्पताल में चल रहा इलाज, CCS यूनिवर्सिटी से पोस्ट ग्रेजुएट; सीने पर घाव, कीड़े पड़े थे     |     अखिलेश को छोटे नेताजी के नाम से जाना जाए : शिवपाल     |     एम्स जैसे साइबर हमले से बचाव के लिए एसजीपीजीआईएमएस तैयार     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374