Breaking
सोना खरीदने का है प्लान तो इस समय 50,000 के नीचे चल रहा भाव, जल्दी कर चेक करें रेट्स ईएसआइसी अस्पताल में ओपीडी सेवाएं कल से होगी शुरू राजधानी में कल ये सड़कें रहेंगी ब्लॉक, कई दिग्गजों समेत सड़क पर उतरेंगे कार्यकर्ता, पब्लिक की बढ़ सक... गुजरात का पहला क्वालीफायर खेलना तय कंप्यूटर शोरूम में लगी भीषण आग पूर्व विधायक अजय राय गैंगेस्टर केस में गवाही देने गाजीपुर पहुंचे भोपाल की साइबर क्राइम टीम फर्जी मेल की जानकारी जुटाने तमिलनाडु रवाना SCO की बैठक में भारत के अलावा पाकिस्‍तान चीन और रूस भी ले रहे हिस्‍सा SBI, PNB समेत सभी सरकारी बैंक के लिए अच्छी खबर, धोखधड़ी वाले पैसों को लेकर RBI ने दी बड़ी जानकारी तपती गर्मी से जल्द मिलेगी राहत, IMD ने जारी किया बारिश का अलर्ट; जानें अपने यहां का हाल

आम माफी के बाद की तालिबान ने की करीब सौ पूर्व सरकारी कर्मियों और सुरक्षाकर्मियों की हत्‍या

Whats App

काबुल। अफगानिस्‍तान पर कब्‍जे के करीब चार माह बाद तालिबान का क्रूर चेहरा दुनिया के सामने आने लगा है। बीते तीन माह के दौरान तालिबान ने जिन सरकारी कर्मचारियों और सेना के जवानों और अधिकारियों को आम माफी देने की बात की थी, उन्‍हें या तो मार दिया गया है, या फिर उन्‍हें गायब कर दिया गया है। ह्यूमन राइट्स वाच द्वारा किए गए करीब 67 इंटरव्‍यू के दौरान तालिबान की ये सच्‍चाई उजागर हुई है। इन इंटरव्‍यू में गजनी प्रांत की जेल में बंद करीब 40 कैदी भी शामिल थे, जिन्‍हें विभिन्‍न आरोपों के तहत जेलों में बंद किया गया है। इसके अलावा हेलमंड, कुंदुज और कंधार प्रांत की जेलों में बंद कैदियों से भी बात की गई है।

ह्यूमन राइट्स वाच की रिपोर्ट में यहां तक कहा गया है कि तालिबान ने पूर्व की अफगान सरकार के कर्मचारियों और पूर्व सुरक्ष कर्मियों के परिजनों को भी इस दौरान निशाना बनाया है। रिपोर्ट में ये खुलासा ऐसे समय में किया गया है जब तालिबान ने बार-बार ये कहा था कि वो सरकारी कर्मचारियों पूर्व की अफगान सरकार के तहत काम करने वाले सुरक्षाकर्मियों को किसी तरह का नुकसान नहीं पहुंचाएगा। तालिबान की तरफ से यहां तक कहा गया था कि वो उन सभी को आम माफी दे रहे हैं। इतना ही नहीं तालिबान की तरफ ये घोषणा भी की गई थी कि वो अपनी सरकार की जवाबदेही तय करेंगे और इस्‍लामी कानून के तहत लोगों को मिले मानवाधिकारों का सम्‍मान करेंगे। ।

Whats App

बता दें कि तालिबान के आने के बाद से ही अफगानिस्‍तान की अर्थव्‍यवस्‍था बुरी तरह से चरमरा गई है। लोगों के पास खाने-पीने की चीजें नहीं हैं और लाखों लोग भूखमरी के शिकार हैं। तालिबान के अफगानिस्‍तान पर कब्‍जे के बाद से ही ये देश सबसे बड़े मानवीय संकट से गुजर रहा है। आलम ये है कि विश्‍व खाद्य संगठन इस बात के लिए आगाह कर चुका है कि अफगानिस्‍तान में इस वर्ष के अंत तक खाद्य पदार्थों की जबरदस्‍त कमी हो जाएगी और भूखमरी के शिकार लोगों की संख्‍या भी बढ़ जाएगी। न्‍यूयार्क टाइम्‍स में लिखा है कि तालिबान के आने के बाद अफगानिस्‍तान की अर्थव्‍यवस्‍था पूरी तरह से चरमरा गई है। विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन के मुताबिक 30 लाख से अधिक बच्‍चे भूखमरी के शिकार हैं।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

सोना खरीदने का है प्लान तो इस समय 50,000 के नीचे चल रहा भाव, जल्दी कर चेक करें रेट्स     |     ईएसआइसी अस्पताल में ओपीडी सेवाएं कल से होगी शुरू     |     राजधानी में कल ये सड़कें रहेंगी ब्लॉक, कई दिग्गजों समेत सड़क पर उतरेंगे कार्यकर्ता, पब्लिक की बढ़ सकती है मुसीबतें     |     गुजरात का पहला क्वालीफायर खेलना तय     |     कंप्यूटर शोरूम में लगी भीषण आग     |     पूर्व विधायक अजय राय गैंगेस्टर केस में गवाही देने गाजीपुर पहुंचे     |     भोपाल की साइबर क्राइम टीम फर्जी मेल की जानकारी जुटाने तमिलनाडु रवाना     |     SCO की बैठक में भारत के अलावा पाकिस्‍तान चीन और रूस भी ले रहे हिस्‍सा     |     SBI, PNB समेत सभी सरकारी बैंक के लिए अच्छी खबर, धोखधड़ी वाले पैसों को लेकर RBI ने दी बड़ी जानकारी     |     तपती गर्मी से जल्द मिलेगी राहत, IMD ने जारी किया बारिश का अलर्ट; जानें अपने यहां का हाल     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374