Breaking
जिंदा जलकर मौत; आत्महत्या के पीछे की वजहों को खंगाल रही पुलिस भैसदेही, आठनेर, भीमपुर में हुई फसलें खराब, किसानों ने एसडीएम को सौंपा ज्ञापन, मांगा मुआवजा नवरात्रि उपवास के दौरान रखें इन बातों का ध्यान दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर पीएम मोदी ने अर्पित की श्रद्धांजलि केन्द्र सरकार की अपील-सुप्रीम कोर्ट से सीओए को हटाए कच्चे तेल में ‎गिरावट के बाद भी पेट्रोल और डीजल की कीमत नहीं हुई कम मूनलाइटिंग को लेकर एक और उद्योगपति ने कहा- डेटा की सुरक्षा से समझौता करना पाप होगा भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने झूलन को जीत के साथ विदायी दी मंत्री बोले; प्रधानमंत्री एसएसी अभ्युदय योजना पहली बार दलित आर्थिक एजेण्डा के रूप में लागू श्राद्ध पक्ष में तीर्थ पर पिंडदान कर मांगी सुखद भविष्य की कामना

#भोजपुरी के शेक्सपियर भिखारी ठाकुर की_134वी जयंती पर_विशेष

Whats App

कल्पना कीजिए, उस दौर के बारे में, जब देश ब्रिटिश हुकूमत की जकड़न में था। सामाजिक कुरीतियां मानवता को शर्मशार करती जा रही थी। बाल विवाह, नशाखोरी, परिवार में बुजुर्गों की अनदेखी, महिला अत्याचार की घटनाएं, दर्दनाक पीड़ा पहुंचा रही थी। न तो हुक़ूमत संवेदनशील थी न ही जन जागरण का कोई आधार। आज की तरह टीवी, इंटरनेट भी नहीं थे। ऐसे में इन कुरीतियों के प्रति जागरूकता कैसे फैलाई जाए? ऐसे विकट स्थिति में बिहार और पूर्वी उत्तर प्रदेश में एक ऐसा लोक कलाकार सामने आया, जिसने अपने भोजपुरी के लोकनाटकों के माध्यम से तत्कालीन सामाजिक समस्याओं पर जबरदस्त प्रहार किए और मानवता का संदेश भी दिया। हम बात कर रहे हैं लोकजागरण के सशक्त संदेशवाहक, कवि, गीतकार, नाटककार, लोक संगीतकार, अभिनेता भिखारी ठाकुर की।भिखारी ठाकुर का जन्म सारण के कुतुबपुर में 18 दिसंबर, 1887 को हुआ था। पिता दलसिंगार ठाकुर और माता शिवकली देवी के बेटे भिखारी ठाकुर का बचपन उस्तरे के साथ यानी नाई के पेशे को देखते गुजरा। आर्थिक लालसा ने उन्हें खड़गपुर पहुंचा दिया। लेकिन स्वभाव से कलाकार भिखारी ठाकुर को आर्थिक संपन्नता लुभा नहीं पाई। रामलीला मंचन में भागीदारी से शुरू हुआ, उनका सफर ‘बिदेशिया’ और ‘बेटी बेचवा’ जैसे लोकनाटकों के मंचन तक चला। प्रसिद्धि इस तरह फैली की गिरमिटिया देशों तक लोग उनके नाटकों को देखने के लिए उतावले रहते थे। मॉरीशस, यूगांडा, म्यांमार, मेडागास्कर आदि देशों में उनके नाट्य मंचन के दौरान भारी भीड़ उमड़ती थी।भिखारी ठाकुर ने लोकनाटकों के माध्यम से मानवता की महान सेवा की। तत्कालीन दौर में मासूम बेटियों की धनाढ्य बुजुर्गों से शादी आम बात थी। उन्होंने ‘बेटी बेचवा’ के मंचन द्वारा इस समस्या पर घातक प्रहार किया। बिहार के लिए प्रवसन सदैव एक बड़ी चुनौती रही हैं। प्रवासी लोगों के व्यथा को उजागर करने में ‘बिदेशिया’ नाटक के मंचन से विशेष सफलता हासिल की। ‘गंगा स्नान’ नाटक में उन्होंने घर परिवार के बुजुर्गों की उपेक्षा को उजागर किया तो गबरघिचोर, ननद भौजाई, विधवा विलाप, भाई विरोध, विरहा बहार आदि नाटकों के मंचन द्वारा तत्कालीन समाज को विशेष संदेश भी दिया। यह संदेश संवेदना का था। यह संदेश इंसानियत का था। यह संदेश सामाजिक कुरीतियों के खिलाफत का था।ब्रिटिश हुकूमत की दरिंदगी तले कराह रही बिहार और उत्तरप्रदेश की जनता को भिखारी ठाकुर ने तत्कालीन समय में भरपूर मनोरंजन भी प्रदान किया। उनके द्वारा लाया गया लौंडा नाच विशेष रूप से लोकप्रिय हुआ। इस लौंडा नाच के जनन के पीछे स्त्रियों का तत्कालीन समाज में प्राप्त दोयम दर्जा ही जिम्मेदार था। तत्कालीन समय में उन्हें अपने नाटकों के मंचन के लिए महिलाएं नही मिल पाती थी। इसलिए उन्होंने पुरुषों को ही महिला वस्त्रों को पहनाकर नाट्य मंचन कराया। अपने नाटकों में पति पत्नी के अपार प्रेम को भी प्रदर्शित किया। पति पत्नी के विशेष स्नेह की एक बानगी देखिए:

सईया गायिले कलकतवा ए सजनी
गोड़वा में जूता नईखे, हथवा में छतवा ए सजनी
कईसे चलिए रहतवा ए सजनी।

ब्रिटिश सरकार ने उन्हें रायबहादुर की उपाधि दी लेकिन भोजपुरी समाज के लिए तो वे अनगढ़ हीरे ही बने रहे। मुंबई की सिनेमा की दुनिया ने उनके विदेशिया को भुनाना चाहा। लेकिन असफल रहे। लोक जागरण के इस महान संत ने नशाखोरी जैसे मानवीय जीवन की त्रासदियों पर भी प्रहार किए। परिवार में संबंधों को सहेजने के लिए भी उनके नाटकों ने तत्कालीन दौर में बड़ा संदेश दिया। भजन और कीर्तन के प्रति विशेष अनुराग उनके आध्यात्मिक धरातल पर विशेष प्रतिष्ठा प्रदान करता दिखता हैं।कुल मिलाकर कहा जा सकता हैं कि सारण के सपूत भिखारी ठाकुर ने सुषुप्त मानवता को झंकझोरकर जागरूकता की एक ऐसी लहर चलाई, जिससे तत्कालीन समाज में संचेतना और संवेदना की बयार बहाई। यह एक बड़ा सवाल जरूर उठता है कि भिखारी ठाकुर के योगदान के अनुरूप राष्ट्र स्तर पर पर्याप्त सम्मान क्यों नहीं दिया जा सका अब तक?????

जिंदा जलकर मौत; आत्महत्या के पीछे की वजहों को खंगाल रही पुलिस     |     भैसदेही, आठनेर, भीमपुर में हुई फसलें खराब, किसानों ने एसडीएम को सौंपा ज्ञापन, मांगा मुआवजा     |     नवरात्रि उपवास के दौरान रखें इन बातों का ध्यान     |     दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर पीएम मोदी ने अर्पित की श्रद्धांजलि     |     केन्द्र सरकार की अपील-सुप्रीम कोर्ट से सीओए को हटाए     |     कच्चे तेल में ‎गिरावट के बाद भी पेट्रोल और डीजल की कीमत नहीं हुई कम     |     मूनलाइटिंग को लेकर एक और उद्योगपति ने कहा- डेटा की सुरक्षा से समझौता करना पाप होगा     |     भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने झूलन को जीत के साथ विदायी दी     |     मंत्री बोले; प्रधानमंत्री एसएसी अभ्युदय योजना पहली बार दलित आर्थिक एजेण्डा के रूप में लागू     |     श्राद्ध पक्ष में तीर्थ पर पिंडदान कर मांगी सुखद भविष्य की कामना     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374