Breaking
आंखों में मिर्ची डालकर ले गए डेढ़ लाख रुपए, पुलिस तलाश में जुटी मुख्यमंत्री चौहान ने पं. दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर नमन किया 15 साल की किशोरी रेप, मंडीदीप, रायसेन में छिपकर करता रहा मजदूरी 21वीं राज्य स्तरीय बैडमिंटन स्पर्धा के लिए चुने गए जिले के खिलाड़ी इन घरेलू उपायों से मोटापा करें कम महेंद्रगढ़ में सरकारी जमीन पर कब्जा करके बनाया घर जमींदोज, पुलिस फोर्स रही मौजूद समाज के हर वर्ग के लिए काम कर रही सरकार- पंकज चौधरी सर्व आदिवासी समाज के पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री से की सौजन्य मुलाकात प्रसव के लिए रुपये लेने का आरोप एंटी भू-माफिया के तहत तीन के विरुद्ध गैंगस्टर की कार्रवाई

तीन साल पहले क्यों क्रिकेट से रिटायरमेंट लेने की सोच रहे थे आर अश्विन, किया बड़ा खुलासा

Whats App

नई दिल्ली। भारतीय टीम के आफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने एक बड़ा खुलासा किया है। उन्होंने बताया है कि साल 2018 में उनका मन हुआ था कि वे क्रिकेट की दुनिया को अलविदा कह दें। अपने संन्यास को लेकर उस दौरान आर अश्विन ने गंभीरता से सोचा था, क्योंकि इंग्लैंड सीरीज के बाद उनको टीम में बैक नहीं किया गया था। अश्विन सिर्फ गेंद से ही नहीं, बल्कि बल्ले से भी प्रभावी रहे हैं।

अश्विन ने कहा कि तीन साल पहले एक समय था जब वह सिर्फ छह गेंद फेंककर थकान महसूस करते थे। इस अनुभवी आफ स्पिनर ने ये भी बताया कि कैसे उन्हें एक ही लाइन लेंथ पर गेंदबाजी करने के लिए अपनी तकनीक को बदलना पड़ा। क्रिकइंफो पर अश्विन ने कहा, “2018 और 2020 के बीच, मैंने विभिन्न बिंदुओं पर क्रिकेट छोड़ने पर विचार किया। मैंने सोचा कि मैंने बहुत प्रयास किया है, लेकिन यह नहीं हो रहा है।”

उन्होंने आगे बताया, “मैंने जितना कठिन प्रयास किया, उतना ही दूर महसूस किया। विशेष रूप से एथलेटिक प्यूबल्जिया (स्पोर्ट्स हर्निया) और पेटेलर टेंडोनाइटिस (घुटने की चोट) के साथ – मैं छह गेंदें फेंकता था और फिर मैं सांस के लिए हांफता था। और हर जगह दर्द होता था। इसलिए आपको सब कुछ बदलने की आवश्यकता थी।” अश्विन ने ये भी बताया कि उनकी पत्नी और पिता ने उनका काफी साथ दिया और प्रेरित किया कि मैं फिर से व्हाइट बाल क्रिकेट खेलूंगा।

Whats App

उन्होंने बताया, “जब घुटने का दर्द तेज होता, तो अगली गेंद पर मैं शायद कम कूदता। जब मैं कम कूदता था, तो स्पष्ट रूप से बल को कोर और पीठ और कंधों के माध्यम से उत्पन्न करने की आवश्यकता होती है, इसलिए प्यूबल्जिया परेशान करती है। इसलिए तीसरी गेंद पर मैं अतिरिक्त साइड आन होकर हिप्स का इस्तेमाल करने की कोशिश करता। जब तक मैं छह गेंद फेंकता तो मैं ऐसा महसूस करता कि मुझे यहां एक ब्रेक की जरूरत है।”

अश्विन ने संन्यास को लेकर कहा, “मैंने कई कारणों से रिटायरमेंट के बारे में सोचा। मुझे लगा कि लोग मेरी चोटों के प्रति पर्याप्त संवेदनशील नहीं थे। मुझे लगा कि बहुत सारे खिलाड़ियों का समर्थन किया गया है, मेरा क्यों नहीं? मैंने भी कुछ कम प्रदर्शन नहीं किया है। मैंने टीम के लिए बहुत सारे मैच जीते हैं और मैं समर्थन महसूस नहीं कर रहा हूं। मैं आमतौर पर मदद की तलाश नहीं करता कि किसी को मेरा समर्थन करने की जरूरत है या किसी को मुझे कुशन देने या मुझे सहानुभूति देने की जरूरत है।”

आंखों में मिर्ची डालकर ले गए डेढ़ लाख रुपए, पुलिस तलाश में जुटी     |     मुख्यमंत्री चौहान ने पं. दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर नमन किया     |     15 साल की किशोरी रेप, मंडीदीप, रायसेन में छिपकर करता रहा मजदूरी     |     21वीं राज्य स्तरीय बैडमिंटन स्पर्धा के लिए चुने गए जिले के खिलाड़ी     |     इन घरेलू उपायों से मोटापा करें कम     |     महेंद्रगढ़ में सरकारी जमीन पर कब्जा करके बनाया घर जमींदोज, पुलिस फोर्स रही मौजूद     |     समाज के हर वर्ग के लिए काम कर रही सरकार- पंकज चौधरी     |     सर्व आदिवासी समाज के पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री से की सौजन्य मुलाकात     |     प्रसव के लिए रुपये लेने का आरोप     |     एंटी भू-माफिया के तहत तीन के विरुद्ध गैंगस्टर की कार्रवाई     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374