Breaking
स्पीकर ने लिखा लेटर; बोले- पंचकूला के यात्रियों को भी मिलें चंडीगढ़ जैसी सुविधाएं इटावा में पंचनद के तट पर चंबल के वीरों को किया याद, जलाए गए 151 दीप क्या Prabhas के साथ रिलेशनशिप में हैं Kriti Sanon? वरुण धवन ने किया खुलासा इंडोनेशिया सरकार ने भूकंप पीड़ितों के लिए सैकड़ों घरों के पुनर्निर्माण की योजना बनाई गुजरात में बनेगी आप की सरकार भाजपा-कांग्रेस को लगेगा झटका : केजरीवाल का दावा आवास दिलाने के नाम पर धोखे से लिखवा लिया गरीब की जमीन गिरफ्तारी के लिए घर में घुसी पुलिस से घबरा कर आरोपी के बुजुर्ग पिता की मौत लोगों ने पुलिस को बंधक बन... फुटबॉल मैच के दौरान भिड़े खिलाड़ी,छह को मिला रेड कार्ड पुलिस ने दबिश देकर 13 टंकियों से 2500 ली. लहान नष्ट किया, 1 लाख कीमत की थी ग्रामीणों में आक्राश, बोले-जल्द ही मरम्मत नहीं होने पर होगा आंदोलन

भाजपा और सरकार के लिए झटका हैं हिमाचल प्रदेश के उपचुनाव नतीजे, मंडी की हार से बदलेंगे समीकरण

Whats App

शिमला। उपचुनाव से पहले आशंकाएं और संभावनाएं दोनों ओर थी। लेकिन इस मुकाबले में कांग्रेस का 4-0 से जीतना भाजपा और सरकार के लिए झटका है। वह भी तब, जब अगले वर्ष हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव हैं। भाजपा को मंडी लोकसभा सीट पर हार का सामना करना पड़ा है।

प्रतिभा वीरभद्र सिंह जीत गई हैं। यह सीट भाजपा सांसद राम स्वरूप शर्मा के देहांत के बाद खाली हुई थी। तीन विधानसभा क्षेत्रों में फतेहपुर में सुजान सिंह पठानिया के पुत्र भवानी पठानिया ने जीत दर्ज की है। अर्की भी कांग्रेस की झोली में रह गया है। यह सीट वीरभद्र सिंह के निधन से खाली हुई थी। जुब्बल कोटखाई सीट भाजपा विधायक नरेंद्र बरागटा के देहावसान से खाली हुई थी और अब रोहित ठाकुर ने इसे कांग्रेस की झोली में डाल दिया

पूरा चुनाव मुख्यमंत्री और प्रदेश भाजपा के जिम्मे था : वास्तव में यह पूरा चुनाव मुख्यमंत्री और हिमाचल प्रदेश भाजपा के जिम्मे था। केवल टिकट आवंटन में आलाकमान की छाप थी। मंडी में भाजपा को अपने काम और मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के पर भरोसा था और कांग्रेस को वीरभद्र सिंह के प्रति सहानुभूति के साथ यह भी विश्वास था कि भाजपा तेल में फिसल जाएगी। तेल खाने वाला हो या डीजल और पेट्रोल

Whats App

हिमाचल में हर पांच साल के बाद सत्ता परिवर्तन : क्योंकि विधानसभा चुनाव में अब एक वर्ष बचा है, इसलिए जानकार इसे इससे जोड़ कर भी देख रहे हैं कि यह अगले वर्ष के लिए कोई संकेत है। हिमाचल में वर्षों से यह परंपरा है कि हर पांच साल बाद शासन करने वाला दल बदल जाता है।

आने वाले कुछ दिन महत्वपूर्ण : आने वाले कुछ दिन इसलिए महत्वपूर्ण हैं क्योंकि इस हार की समीक्षा होगी। भाजपा के लिए मूलतः यह दो क्षेत्रों की हानि है। एक जुब्बल कोटखाई और दूसरा मंडी। मंडी मुख्यमंत्री का गृहजिला है और यह बात उपचुनाव प्रचार में जोर शोर से उठाई गई कि ‘मंडी मेरी है।’ कांग्रेस को इस पर आपत्ति यह थी कि सीएम तो पूरे प्रदेश का होता है। क्योंकि इस सीट से मुख्यमंत्री की प्रतिष्ठा जुड़ी है, इसलिये आलाकमान मंथन अवश्य करेगा।

जुब्बल कोटखाई कैसे फतेहपुर और मंडी से अलग : इस परिणाम ने एक और दृश्य दिया है। जुब्बल कोटखाई में चेतन बरागटा के काम उनके पिता नरेंद्र बरागटा के लिए उमड़ी सहानुभूति नहीं आ सकी। मंडी में वीरभद्र सिंह के लिए सहानुभूति दिखी और यही दिखा फतेहपुर में जहां कांग्रेस के दिवंगत विधायक सुजान सिंह पठानिया के पुत्र भवानी सिंह जीत गए।

स्पीकर ने लिखा लेटर; बोले- पंचकूला के यात्रियों को भी मिलें चंडीगढ़ जैसी सुविधाएं     |     इटावा में पंचनद के तट पर चंबल के वीरों को किया याद, जलाए गए 151 दीप     |     क्या Prabhas के साथ रिलेशनशिप में हैं Kriti Sanon? वरुण धवन ने किया खुलासा     |     इंडोनेशिया सरकार ने भूकंप पीड़ितों के लिए सैकड़ों घरों के पुनर्निर्माण की योजना बनाई     |     गुजरात में बनेगी आप की सरकार भाजपा-कांग्रेस को लगेगा झटका : केजरीवाल का दावा     |     आवास दिलाने के नाम पर धोखे से लिखवा लिया गरीब की जमीन     |     गिरफ्तारी के लिए घर में घुसी पुलिस से घबरा कर आरोपी के बुजुर्ग पिता की मौत लोगों ने पुलिस को बंधक बनाया      |     फुटबॉल मैच के दौरान भिड़े खिलाड़ी,छह को मिला रेड कार्ड     |     पुलिस ने दबिश देकर 13 टंकियों से 2500 ली. लहान नष्ट किया, 1 लाख कीमत की थी     |     ग्रामीणों में आक्राश, बोले-जल्द ही मरम्मत नहीं होने पर होगा आंदोलन     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374