Breaking
सोनीपत में 900 एकड़ में लगेगी फैक्ट्री, PM मोदी 28 को वर्चुअली करेंगे शिलान्यास जन्माष्टमी पर कान्हा की भक्ति में डूबा रहेगा संसार जन्माष्टमी की तारीख को लेकर न हों भ्रमित मोहाली में अस्पताल का उद्घाटन करेंगे; AAP सरकार में पहला दौरा, कांग्रेस के वक्त सुरक्षा चूक हुई रफ्तार में कार रेलिंग से टकराई, एयरबैग तक खुल गए पर नहीं बचा पाए जिंगदी, सैनिक की मौत हालत गंभीर, बिरयानी खाने गया था, कोतवाली प्रभारी बोले- दोनों शराब के नशे में थे दिल्ली हाईकोर्ट ने रेस्तरां में आम ग्राहकों से सेवा शुल्क लाने पर उठाए सवाल झलाई के जंगल में जानवर चराने गया था चरवाहा, हमले से शरीर में कई जगह लगी चोट परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने की घोषणा; शहीद के नाम पर होगा स्कूल का नामकरण लखीमपुर में देश भर से पहुंच रहे किसान, केंद्रीय गृह राज्य मंत्री के इस्तीफे की करेंगे मांग

संवेदनशील विज्ञापनों पर भी फेसबुक की होगी पैनी नजर, टारगेटिंग आप्शन को खत्म करेगा मेटा, जानें पूरा मामला

Whats App

न्यूयार्क। इंटरनेट मीडिया प्लेटफार्म फेसबुक की मूल कंपनी मेटा 19 जनवरी से स्वास्थ्य, नस्ल या जातीयता, राजनीतिक संबद्धता, धर्म या यौन मामलों से संबंधित संवेदनशील एड टारगेटिंग आप्शन (किसी को लक्ष्य बनाकर विज्ञापन देने का विकल्प) को खत्म कर देगा। वर्तमान में विज्ञापनदाता उन लोगों को टारगेट कर सकते हैं जिन्होंने इन विषयों से संबंधित मुद्दों, हस्तियों या संगठनों में रुचि दिखाई है।

इस बारे में जानकारी कंपनी के फेसबुक, इंस्टाग्राम या अन्य प्लेटफार्मो पर यूजर्स की गतिविधियों को ट्रैक करने से मिलती है। उदाहरण के तौर पर अगर कोई समलैंगिक विवाह में रुचि दिखाता है तो उसे समलैंगिक विवाह का समर्थन करने वाले संगठनों के विज्ञापन दिखाए जा सकते हैं। लेकिन इन श्रेणियों का दुरुपयोग भी किया जा सकता है, लिहाजा नियामकों व लोगों का मेटा (पूर्व में फेसबुक) पर अपने प्लेटफार्म को इस दुरुपयोग और भ्रामक जानकारियों से मुक्त करने का दबाव रहा है।

गौरतलब है कि मेटा प्लेटफा‌र्म्स इंक ने मंगलवार को एक ब्लाग पोस्ट में कहा कि यह फैसला आसान नहीं था और हम जानते हैं कि यह बदलाव कुछ कारोबारों और संगठनों पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है। हाल में सोशल मीडिया की दिग्गज कंपनी फेसबुक ने अपनी कंपनी के नए नाम का ऐलान किया था। अब यह मेटा (Meta) के नए नाम से जाना जाएगा। 17 साल बाद नाम में बदलाव के इस फैसले के बारे में फेसबुक ने ट्वीट कर जानकारी दी थी। वर्ष 2004 में शुरुआत करने वाली सोशल मीडिया कंपनी फेसबुक ने बताया कि सोशल मीडिया का नया अध्याय मेटावर्स (metaverse) सोशल कनेक्शन की नई राह होगी। यह सामूहिक प्रोजेक्ट है जो पूरी दुनिया के लोगों द्वारा बनाया जाएगा। साथ ही सबके लिए खुला रहेगा।

Whats App

बता दें कि ‘मेटावर्स’ शब्द का प्रयोग तीन दशक पहले डायस्टोपियन उपन्यास में किया गया था। फिलहाल यह शब्द सिलिकान वैली में चर्चा का विषय बना हुआ है। इस शब्द का इस्तेमाल डिजिटल दुनिया में वर्चुअल और इंटरेक्टिव स्पेस को समझाने के लिए किया जाता है। मेटावर्स दरअसल एक वर्चुअल दुनिया है, जहां एक आदमी शारीरिक तौर पर मौजूद नहीं होते हुए भी मौजूद रह सकता है। इसके लिए वर्चुअल रियल्टी का इस्तेमाल किया जाता है।

सोनीपत में 900 एकड़ में लगेगी फैक्ट्री, PM मोदी 28 को वर्चुअली करेंगे शिलान्यास     |     जन्माष्टमी पर कान्हा की भक्ति में डूबा रहेगा संसार     |     जन्माष्टमी की तारीख को लेकर न हों भ्रमित     |     मोहाली में अस्पताल का उद्घाटन करेंगे; AAP सरकार में पहला दौरा, कांग्रेस के वक्त सुरक्षा चूक हुई     |     रफ्तार में कार रेलिंग से टकराई, एयरबैग तक खुल गए पर नहीं बचा पाए जिंगदी, सैनिक की मौत     |     हालत गंभीर, बिरयानी खाने गया था, कोतवाली प्रभारी बोले- दोनों शराब के नशे में थे     |     दिल्ली हाईकोर्ट ने रेस्तरां में आम ग्राहकों से सेवा शुल्क लाने पर उठाए सवाल     |     झलाई के जंगल में जानवर चराने गया था चरवाहा, हमले से शरीर में कई जगह लगी चोट     |     परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने की घोषणा; शहीद के नाम पर होगा स्कूल का नामकरण     |     लखीमपुर में देश भर से पहुंच रहे किसान, केंद्रीय गृह राज्य मंत्री के इस्तीफे की करेंगे मांग     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374