Breaking
गोपालगंज। छात्र की कारस्तानी से सुर्खियों में भोरे बीपीएस कॉलेज। गोपालगंज।पटेल नगर व विशंभरपुर में युद्ध स्तर पर हो रहा कटाव निरोधी कार्य, लगाये गये 300 मजदूर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने स्टेट कैंसर इंस्टीट्यूट का किया वर्चुअल भूमि पूजन कुतुब मीनार परिसर में होगी खुदाई-मूर्तियों की Iconography राष्ट्रीय स्तर के खेलों का आधारभूत ज्ञान दें विद्यार्थियों को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत जिले के 13 हजार 976 किसानों के खाते म... नगरीय निकाय आरक्षण को लेकर बड़ी खबर: भोपाल में भी नए सिरे से होगा आरक्षण, बढ़ सकती है ओबीसी वार्डों ... छत्तीसगढ़ की जैव विविधता छत्तीसगढ़ का गौरव है : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल मोतिहारी के सिकरहना नदी में नहाने के दौरान तीन बच्चे डूबे मुजफ्फरपुर में प्रिंटिंग प्रेस कर्मी की गोली मारकर हत्‍या 

झारखंड स्‍थापना दिवस पर बोले पीएम मोदी, ‘विदेशी ताकत को घुटनों पर लाए भगवान बिरसा मुंडा

Whats App

नई दिल्‍ली। झारखंड के स्‍थापना दिवस के मौके पर पीएम मोदी ने भगवान बिरसा मुंडा संग्रहालय को देश को समर्पित किया है। उन्‍होंने इसका उद्घाटन वर्चुअल तरीके से किया। इसके जरिए लोग आदिवासी समाज को जान सकेंगे बल्कि उनका उत्‍थान करने वालों से भी रूबरू हो सकेंगे। इस मौके पर उन्‍होंने कहा कि जल्‍द ही देश में इस तरह के और आदिवासी संग्रहालय हमें देखने को मिलेंगे। ये देश के कई राज्‍यों में बनेंगे जिसमें गोवा और गुजरात भी शामिल हैं। उन्‍होंने कहा कि भगवान बिरसा मुंडा ने न सिर्फ अपने समाज में फैली कुरीतियों को और गलत सोच के खिलाफ आवाज उठाने का साहस किया बल्कि उनको बदलने की भी ताकत रखी। उन्‍होंने विदेश सोच और ताकत को घुटनों पर ला दिया था। पीएम मोदी ने कहा कि वो केवल एक व्‍यक्ति नहीं बल्कि एक परंपरा हैं। बता दें कि बिरसा मुंडा एक हाथ खोने के बावजूद अंग्रेजी हुकूमत से लोहा लेते रहे थे।

10:30 बजे:- 

Whats App

पीएम मोदी ने कहा कि वो अटल बिहारी वाजपेयी की ही अभूतपूर्व क्षमता थी जिसकी वजह से झारखंड एक अलग राज्‍य बना और अस्तित्‍व में आया। उन्‍होंने ही केंद्र में एक नया मंत्रालय आदिवासियों के हितों के लिए बनाया। इसमें उनके लिए नीतियां बनाई गईं। झारखंड के स्‍थापना दिवस के मौके पर पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को भी श्रद्धांजलि देता हूं

10:27 बजे:- 

जिस वक्‍त महात्‍मा गांधी दक्षिण अफ्रीका में रंगभेद की नीतियों के खिलाफ आंदोलन चला रहे थे, उसी समय देश में भगवान बिरसा मुंडा विदेशी ताकतों से भारत को आजाद कराने की लड़ाई छेड़े हुए थे। पीएम मोदी ने कहा कि उन्‍होंने अपना लंबा जीवन आदिवासी भाई-बहनों और बच्‍चों के साथ बिताया है। उनके सुख-दुख को बेहद करीब से देखा है। उनकी जरूरतों को पहचाना है। इसलिए आज का दिन मेरे लिए बेहद खास है।

10:24 बजे:- 

देश ने तय किया है कि स्‍वतंत्रता दिवस के अमृत काल में आदिवासी समुदाय की संस्‍कृति और उनकी गौरवशाली परंपरा को एक नई पहचान दी जाए। भगवान बिरसा मुंडा की जयंति के मौके पर ये एतिहासिक फैसला लिया गया है। उनके जन्‍मदिवस को अब जनजातीय गौरव दिवस के रूप में मनाया जाएगा।

10:20 बजे

पीएम मोदी ने कहा कि भगवान बिरसा के नेतृत्व में मुंडा आंदोलन हो, या फिर संथाल संग्राम और खासी संग्राम हो, पूर्वोत्तर में अहोम संग्राम हो या छोटा नागपुर क्षेत्र में कोल संग्राम। भारत के आदिवासी बेटे बेटियों ने अंग्रेजी सत्ता को हर कालखंड में चुनौती दी। धरती आबा बहुत लंबे समय तक इस धरती पर नहीं रहे थे। लेकिन उन्होंने जीवन के छोटे से कालखंड में देश के लिए एक पूरा इतिहास लिख दिया, भारत की पीढ़ियों को दिशा दे दी

10:18 बजे

भगवान बिरसा ने समाज के लिए जीवन जिया, अपनी संस्कृति और अपने देश के लिए अपने प्राणों का परित्याग किया। इसलिए, वो आज भी हमारी आस्था में, हमारी भावना में हमारे भगवान के रूप में उपस्थित हैं। भगवान बिरसा मुंडा स्मृति उद्यान सह स्वतंत्रता सेनानी संग्रहालय के अलावा देश के अलग-अलग राज्यों में ऐसे ही 9 और संग्रहालयों पर तेजी से काम हो रहा है। बहुत जल्द गुजरात के राजपीपला, आंध्र प्रदेश के लम्बासिंगी, छत्तीसगढ़ के रायपुर, केरल के कोझीकोड, मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा, तेलंगाना के हैदराबाद, मणिपुर के टमिंगलोंग, मिजोरम के कैल्सि में, गोवा के पोंडा में इन संग्राहलयों को हम साकार रूप लेते हुए देखेंगे।

10:15 बजे:- 

आधुनिकता के नाम पर विविधता पर हमला, प्राचीन पहचान और प्रकृति से छेड़छाड़, भगवान बिरसा जानते थे कि ये समाज के कल्याण का रास्ता नहीं है। वो आधुनिक शिक्षा के पक्षधर थे, वो बदलावों की वकालत करते थे, उन्होंने अपने ही समाज की कुरीतियों के, कमियों के खिलाफ बोलने का साहस दिखाया। भारत की सत्ता, भारत के लिए निर्णय लेने की अधिकार-शक्ति भारत के लोगों के पास आए, ये स्वाधीनता संग्राम का एक स्वाभाविक लक्ष्य था। लेकिन साथ ही, ‘धरती आबा’ की लड़ाई उस सोच के खिलाफ भी थी जो भारत की, आदिवासी समाज की पहचान को मिटाना चाहती थी।

10:10 बजे :-

भगवान बिरसा मुंडा स्मृति उद्यान सह स्वतंत्रता सेनानी संग्रहालय के लिए पूरे देश के जनजातीय समाज, भारत के प्रत्येक नागरिक को बधाई देता हूं। ये संग्रहालय, स्वाधीनता संग्राम में आदिवासी नायक-नायिकाओं के योगदान का, विविधताओं से भरी हमारी आदिवासी संस्कृति का जीवंत अधिष्ठान बनेगा।भारत की पहचान और भारत की आजादी के लिए लड़ते हुए भगवान बिरसा मुंडा ने अपने आखिरी दिन रांची की इसी जेल में बिताए थे।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

गोपालगंज। छात्र की कारस्तानी से सुर्खियों में भोरे बीपीएस कॉलेज।     |     गोपालगंज।पटेल नगर व विशंभरपुर में युद्ध स्तर पर हो रहा कटाव निरोधी कार्य, लगाये गये 300 मजदूर     |     मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने स्टेट कैंसर इंस्टीट्यूट का किया वर्चुअल भूमि पूजन     |     कुतुब मीनार परिसर में होगी खुदाई-मूर्तियों की Iconography     |     राष्ट्रीय स्तर के खेलों का आधारभूत ज्ञान दें विद्यार्थियों को     |     मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत जिले के 13 हजार 976 किसानों के खाते में 9.68 करोड़ रूपए किया अंतरण     |     नगरीय निकाय आरक्षण को लेकर बड़ी खबर: भोपाल में भी नए सिरे से होगा आरक्षण, बढ़ सकती है ओबीसी वार्डों की संख्या     |     छत्तीसगढ़ की जैव विविधता छत्तीसगढ़ का गौरव है : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल     |     मोतिहारी के सिकरहना नदी में नहाने के दौरान तीन बच्चे डूबे     |     मुजफ्फरपुर में प्रिंटिंग प्रेस कर्मी की गोली मारकर हत्‍या      |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374