Breaking
दोपहर में सर्द हवाओं ने बढ़ाई ठंड दिन का पारा सामान्य से 2 डिग्री कम ​​​​पेटीएम वॉलेट बैंक एक्टिवेटेड थे सिम, गिरोह के सदस्यों की तलाश पानी भरने गई पीड़िता से की थी अभद्रता , 8 साल पहले दर्ज हुआ था मामला दिसंबर में बुध, शुक्र, सूर्य का गोचर, जानें कब है गीता जयंती, एकादशी, क्रिसमस वर्ष 2023 में संतान की रक्षा, सेहत, आयु और खुशी के लिए आ रहे हैं 6 व्रत न प्रिंसिपल आए और न शिक्षक; पढ़िए पूरा मामला अनुसूचित जाति के लिए 13% आरक्षण का विरोध,16 फीसदी नहीं करने पर आंदोलन की चेतावनी शीतकालीन सत्र पर फैसला; विधायी कार्यों की भी मिलेगी मंजूरी, ग्रीन टैक्स पर लगेगी मुहर मोहाली के विकास भवन में की जाएगी कार्यक्रम की शुरूआत हिमाचल में सभी सीटों पर होगी 'आप' की जमानत जब्त, केजरीवाल को बताया देश का झूठा इंसान

580 सालों बाद आज रहा सबसे लंबा आंशिक चंद्र ग्रहण, जानिए अब अगले महीने कब पड़ेगा सूर्य ग्रहण

Whats App

नई दिल्ली/भुवनेश्वर। 580 सालों बाद शुक्रवार को देश के कई हिस्सों में सबसे लंबा आंशिक चंद्र ग्रहण देखा गया। आज हुए चंद्र ग्रहण के बाद अब अगले महीने सूर्य ग्रहण पड़ने वाला है। इस साल कुल दो सूर्य ग्रहण का योग बना है। जिसमें साल का पहला सूर्य ग्रहण लग चुका है। साल का पहला सूर्य ग्रहण 10 जून 2021 को लगा था। आज से 15 दिन बाद दिसंबर के महीने में इस साल का दूसरा सूर्य ग्रहण रहेगा।

वही, आज पूर्वी भारत के कुछ क्षेत्रों में आंशिक चंद्र ग्रहण देखा गया जो शाम 4.17 बजे समाप्त हो गया। समाचार एजेंसी एएनआइ से बात करते हुए ओडिशा के भुवनेश्वर में पठानी सामंत तारामंडल के उप निदेशक शुभेंदु पटनायक ने बताया कि यह सबसे लंबा आंशिक चंद्र ग्रहण है जो आज दोपहर 12.47 बजे शुरू हुआ। उन्होंने कहा कि दुर्लभ घटना पूर्वी भारत के कुछ क्षेत्रों से (नंगी आंखों से नहीं) दिखाई दी।

आज कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर पड़े चंद्र ग्रहण की कुल अवधि 3 घंटे 28 मिनट और 24 सेकेंड रही, जो कि पिछले 580 सालों में सबसे लंबा आंशिक चंद्र ग्रहण रहा है। वहीं, अब चंद्र ग्रहण के 15 दिनों के बाद यानी 04 दिसंबर 2021 को सूर्य ग्रहण भी लगेगा। चंद्र ग्रहण हमेशा पूर्णिमा की ही तिथि पर लगता है। चंद्र ग्रहण के पहले या बाद सूर्य ग्रहण जरूर पड़ता है। साल का आखिरी सूर्य ग्रहण अंटार्कटिका, दक्षिण अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अमेरिका में दिखाई पड़ेगा। इस ग्रहण को भारत में नहीं देखा जा सकेगा

Whats App

बता दें कि चंद्र ग्रहण तब होता है जब चंद्रमा सीधे पृथ्वी के पीछे और उसकी छाया में चला जाता है। यह तभी होता है जब सूर्य, पृथ्वी और चंद्रमा अन्य दो के बीच पृथ्वी के साथ बिल्कुल या बहुत निकट से जुड़े होते हैं। चंद्र ग्रहण केवल पूर्णिमा की रात को ही लग सकता है। चंद्र ग्रहण का प्रकार और लंबाई चंद्रमा की अपनी कक्षा के किसी भी नोड से निकटता पर निर्भर करती है।

गौरतलब है कि आंशिक चंद्र ग्रहण के दौरान पृथ्वी की छाया केवल चंद्रमा के एक हिस्से से होकर गुजरती है, जिसके परिणामस्वरूप एक बड़ा काला धब्बा होता है जिससे ऐसा लगता है जैसे चंद्रमा का एक हिस्सा काट दिया गया हो।

दोपहर में सर्द हवाओं ने बढ़ाई ठंड दिन का पारा सामान्य से 2 डिग्री कम     |     ​​​​पेटीएम वॉलेट बैंक एक्टिवेटेड थे सिम, गिरोह के सदस्यों की तलाश     |     पानी भरने गई पीड़िता से की थी अभद्रता , 8 साल पहले दर्ज हुआ था मामला     |     दिसंबर में बुध, शुक्र, सूर्य का गोचर, जानें कब है गीता जयंती, एकादशी, क्रिसमस     |     वर्ष 2023 में संतान की रक्षा, सेहत, आयु और खुशी के लिए आ रहे हैं 6 व्रत     |     न प्रिंसिपल आए और न शिक्षक; पढ़िए पूरा मामला     |     अनुसूचित जाति के लिए 13% आरक्षण का विरोध,16 फीसदी नहीं करने पर आंदोलन की चेतावनी     |     शीतकालीन सत्र पर फैसला; विधायी कार्यों की भी मिलेगी मंजूरी, ग्रीन टैक्स पर लगेगी मुहर     |     मोहाली के विकास भवन में की जाएगी कार्यक्रम की शुरूआत     |     हिमाचल में सभी सीटों पर होगी ‘आप’ की जमानत जब्त, केजरीवाल को बताया देश का झूठा इंसान     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374