Breaking
आंखों में मिर्ची डालकर ले गए डेढ़ लाख रुपए, पुलिस तलाश में जुटी मुख्यमंत्री चौहान ने पं. दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर नमन किया 15 साल की किशोरी रेप, मंडीदीप, रायसेन में छिपकर करता रहा मजदूरी 21वीं राज्य स्तरीय बैडमिंटन स्पर्धा के लिए चुने गए जिले के खिलाड़ी इन घरेलू उपायों से मोटापा करें कम महेंद्रगढ़ में सरकारी जमीन पर कब्जा करके बनाया घर जमींदोज, पुलिस फोर्स रही मौजूद समाज के हर वर्ग के लिए काम कर रही सरकार- पंकज चौधरी सर्व आदिवासी समाज के पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री से की सौजन्य मुलाकात प्रसव के लिए रुपये लेने का आरोप एंटी भू-माफिया के तहत तीन के विरुद्ध गैंगस्टर की कार्रवाई

सत्यपाल मलिक बोले-कृषि कानून को लेकर जब PM मोदी से मिला वे अहंकारी थे, उनसे हो गई थी मेरी लड़ाई

Whats App

मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा कि केंद्र के तीनों कृषि कानूनों का रद्द होना किसानों की ऐतिहासिक जीत है। सत्यपाल मलिक ने सरकार और भाजपा नेतृत्व पर हमला जारी रखते हुए आरोप लगाया कि जब किसानों के विरोध प्रदर्शन पर चर्चा करने के लिए वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिले तो वे “अहंकारी” थे और उनकी उनके साथ बहस हो गई थी।

हरियाणा के दादरी में एक सामाजिक समारोह को संबोधित करते हुए मलिक ने कहा कि मैं जब किसानों के मामले में प्रधानमंत्री जी से मिलने गया तो मेरी पांच मिनट में लड़ाई हो गई उनसे। वो बहुत घमंड में थे। जब मैंने उनसे कहा कि हमारे 500 लोग मर गए…तो उन्होंने कहा कि मेरे लिए मरे हैं? (मैंने) कहा आपके लिए ही तो मरे थे, जो आप राजा बने हुए हो…मेरा झगड़ा हो गया। उन्होंने कहा अब आप अमित शाह से मिल लो। इसके बाद मैं अमित शाह से मिला। इसके साथ ही मलिक ने कहा कि वह खुद भी इन कृषि कानूनों के खिलाफ थे।

मलिक ने कहा कि अन्नदाताओं ने अपने अधिकारों व हकों की लड़ाई जीती है और भविष्य में भी अगर किसानों के खिलाफ कोई सरकार कदम उठाती है तो वह पूरी ईमानदारी से इसका विरोध करेंगे और अगर कोई पद छोड़ने की बात आई तब भी वह पीछे नहीं हटेंगे। मेघालय के राज्यपाल रविवार को दादरी में किसानों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि मेरे लिए किसी भी पद से पहले किसानों का हित सर्वोपरि है।

Whats App

राज्यपाल ने कहा कि किसानों के अधिकारों पर आंच नहीं आने दी जाएगी और अगर इसका हनन होता है तो उनको सहन करने वाला भी दोषी कहलाता है। उन्होंने कहा कि जब सरकार किसानों से संबंधित कानून बनाती है तो पहले किसानों की राय जाने और अगर कोई बिल बनाना है तो किसानों के फायदे के लिए बनाया जाए। उन्होंने कहा कि अगर बिल के विरोध में किसान सड़कों पर खड़े होंगे तो उसका कोई फायदा नहीं है। उन्होंने तोशाम के डाडम पहाड़ में हुए हादसे पर दुख प्रकट करते हुए उच्च स्तरीय जांच की मांग की।

आंखों में मिर्ची डालकर ले गए डेढ़ लाख रुपए, पुलिस तलाश में जुटी     |     मुख्यमंत्री चौहान ने पं. दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर नमन किया     |     15 साल की किशोरी रेप, मंडीदीप, रायसेन में छिपकर करता रहा मजदूरी     |     21वीं राज्य स्तरीय बैडमिंटन स्पर्धा के लिए चुने गए जिले के खिलाड़ी     |     इन घरेलू उपायों से मोटापा करें कम     |     महेंद्रगढ़ में सरकारी जमीन पर कब्जा करके बनाया घर जमींदोज, पुलिस फोर्स रही मौजूद     |     समाज के हर वर्ग के लिए काम कर रही सरकार- पंकज चौधरी     |     सर्व आदिवासी समाज के पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री से की सौजन्य मुलाकात     |     प्रसव के लिए रुपये लेने का आरोप     |     एंटी भू-माफिया के तहत तीन के विरुद्ध गैंगस्टर की कार्रवाई     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374