Breaking
ज्ञानवापी के तहखाने की पहली तस्वीर, हिंदू पक्ष ने की ये दीवार तोड़ने की मांग; पीछे शिवलिंग होने का द... ट्रक ने स्कूटी में मारी टक्कर, दो लड़कियों की मौत  कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी! खत्म हुआ NPS, पुरानी पेंशन लागू करने के आदेश जारी पेटीएम ने 950 करोड़ के निवेश के लिए बनाई बीमा फर्म इस सप्ताह शेयर बाजार में इन फैक्टर्स का दिख सकता है असर, निवेश से पहले जरूर जान लें भारत की इकलौती ट्रेन जिसमें नहीं लगता किराया, 73 साल से फ्री में यात्रा कर रहे लोग यूपी सरकार का बड़ा फैसला! घर के एक सदस्य को देगी रोजगार, जान लीजिए प्लान दबंगों ने बाइक का एक्सीलेटर तेज करने पर युवक की पिटाई IPL खत्म होते ही एक टीम में खेलते नजर आएंगे कीरोन पोलार्ड और सुनील नरेन आजम खान के योगी आदित्यनाथ सरकार के पहले बजट सत्र में शामिल होने की संभावना बेहद कम

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने बिहार विधानसभा शताब्दी वर्ष कार्यक्रम का उद्घाटन किया।

Whats App

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने बिहार विधानसभा शताब्दी वर्ष कार्यक्रम का उद्घाटन किया। राष्ट्रपति के साथ राज्यपाल और मुख्यमंत्री हैं। इसके पहले राष्ट्रपति ने विधानसभा परिसर में शताब्दी वर्ष स्तंभ का शिलान्यास किया और परिसर में बोधि वृक्ष भी लगाए। फिर राष्ट्रपति ने विधानसभा अध्यक्ष के सामाजिक अभियान की शुरूआत की और स्मारिका का विमोचन किया। अब सदन में विमर्श ही संसदीय प्रणाली का मूल है” विषय पर व्याख्यान चल रहा है। विधानसभा अध्यक्ष ने सामाजिक अभियान हमारा परिवार 5 सामाजिक वरदानों से युक्त,5 कुरीति मुक्त होगा इसका शपथ भी लिया। राष्ट्रपति की मौजूदगी में कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि आज बिहार विधानसभा भवन के 100 साल पूरा होने के उपलक्ष्य में एक विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया गया है। इस अवसर पर राष्ट्रपति ने समय दिया इसके लिए उन्हें हृदय से धन्यवाद देता हूं। महामहिम का रिश्ता यहां से काफी पुराना रहा है। राष्ट्रपति हमारे यहां बिहार में करीब 2 साल के लिए राज्यपाल रहे थे। यहीं से इन्हें राष्ट्रपति बनने का मौका मिला । हम तो कहते हैं कि ये बिहारी राष्ट्रपति हैं। ये तो सीधे बिहार के राज्यपाल से राष्ट्रपति बने। हमलोगों को बेहद खुशी होती है। राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अपने संबोधन में कहा कि बिहार आता हूं तो अच्‍छा लगता है.बिहार से अलग नाता लगता है. लगता है घस आया हूं.बिहार हमेशा इतिहास रचता है.आज भी इतिहास रचाा गया है.आज देश ने भी इतिहास रचाा है.देश ने सौ करोड़ कोरोना वैक्‍सीनेशन पूरा किया है.बिहार लोकतंत्र की धरती है.यहां वैशाली में लोकतंत्र फला-फूला.इस धरती पर नालंदा, विक्रमशिला जैसे शिक्षण संस्‍थान थे तो यहां आर्यभट्ट व चाणक्‍य हुए.इस परंपरा को आगे बढ़ाने की जिम्‍मेदारी अब बिहार के लोगों की है.यह संयोग नहीं था कि संविधान सभा के अंतरिम अध्‍यक्ष डा. सच्चिदानंद सिन्‍हा और स्‍थाई अध्‍यक्ष डा. राजेंद्र प्रसाद बिहार के थे.बिहार से ही जयप्रकाश नारायण ने लोकतंत्र को दिशा दी.बिहार की धरती ने समतामूलक समाज की परंपरा स्‍थापित की है.बिहार में नीतीश कुमार ने सबसे लंबे समय तक मुख्‍यमंत्री रहने का कीर्तिमान स्‍थापित किया है.बिहार विधानसभा ने शराबबंदी लागू किया.इस अधिनियम को कानून का दर्जा देने का गौरव मुझे भी मिला . .बिहार का छठ पर्व अब पूरे देश में मनाया जा रहा है.छठ पर्व अब ग्‍लोबल हो गया है.आज दुनियाभर के लोग छठ पर्व मना रहे हैं.आगामी त्‍योहरों के लिए बधाई देता हूं.विधानसभा अध्‍यक्ष विजय सिन्हा ने भाषण में विधासभा भवन को सौ वर्षों की विधायी यात्रा का प्रतीक बताया.और कहा कि यह कई ऐतिहासिक निर्णयों के साक्षी रहा है.हमें जाति-धर्म और लिंग भेद को भुलाकर अपनी विरासत को आगे बढ़ाना है।समारोह को संबांधित करते हुए मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने राष्‍ट्रपति का स्‍वागत किया। मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि इनसे पहले जाकिर हुसैन बिहार के राज्‍यपाल से राष्‍ट्रपति बने थे.लेकिन, यहां से जाने के बाद पहले वे उप राष्‍ट्रपति बने, उसके बाद राष्‍ट्रपति हुए. इतिहास के पन्‍नों को उलटते हुए नीतीश ने कहा कि 1952 की पहली विधानसभा में 331 सदस्‍य थे.स्‍मारिका में आजादी की लड़ाई से लेकर अब तक विधानसभा की सारी जानकारी नई पीढ़ी के लिए उपलब्‍ध है.शताब्‍दी वर्ष पर बोधि वृक्ष भी लगाया गया.उन्‍होंने बुद्ध स्‍मृति पार्क में लगे वृक्ष के बारे में भी जानकारी दी.राज्‍यपाल ने कहा कि शताब्‍दी समारोह में राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद की उपस्थिति पर हर्ष व्‍य‍क्‍त किया.उन्‍होंने बंगाल प्रेसिडेंसी से अलग होने के बाद बिहार विधानसभा के इतिहास पर प्रकाश डाला.राज्‍यपाल फागू चौहान ने कहा कि बिहार विधानसभा बंगाल प्रेसिडेंसी से अलग होने से पहले बिहार-ओडिशा विधान परिषद भवन था.विधानसभा ने इतिहास के कई दौर देखे हैं.तब लॉर्ड सत्‍येंद्र प्रसन्‍न सिन्‍हा ने गवर्नर के रूप में संबोधन किया था .

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.

ज्ञानवापी के तहखाने की पहली तस्वीर, हिंदू पक्ष ने की ये दीवार तोड़ने की मांग; पीछे शिवलिंग होने का दावा     |     ट्रक ने स्कूटी में मारी टक्कर, दो लड़कियों की मौत      |     कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी! खत्म हुआ NPS, पुरानी पेंशन लागू करने के आदेश जारी     |     पेटीएम ने 950 करोड़ के निवेश के लिए बनाई बीमा फर्म     |     इस सप्ताह शेयर बाजार में इन फैक्टर्स का दिख सकता है असर, निवेश से पहले जरूर जान लें     |     भारत की इकलौती ट्रेन जिसमें नहीं लगता किराया, 73 साल से फ्री में यात्रा कर रहे लोग     |     यूपी सरकार का बड़ा फैसला! घर के एक सदस्य को देगी रोजगार, जान लीजिए प्लान     |     दबंगों ने बाइक का एक्सीलेटर तेज करने पर युवक की पिटाई     |     IPL खत्म होते ही एक टीम में खेलते नजर आएंगे कीरोन पोलार्ड और सुनील नरेन     |     आजम खान के योगी आदित्यनाथ सरकार के पहले बजट सत्र में शामिल होने की संभावना बेहद कम     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374