Breaking
डेढ़ माह से हत्या के प्रयास मामले में फरार चल रहे तीन आरोपियों को भोरे पुलिस ने गिरफ्तार कर भेजा जेल... सिंधिया बोले-मुझे विश्वास है जनता हमारे साथ है और प्रचंड बहुमत से सारे प्रत्याशी जीतेंगे इमिग्रेशन कंपनियों के दफ्तरों पर शुरू की छापामारी, चेक किए लाइसेंस बिजली मंत्री ने बिजली और गबन संबंधी समस्याओं पर लिया एक्शन; 11 शिकायतें सुनी हाईकोर्ट ने अंतरिम जमानत नहीं दी; वकील से पूछा- क्या वह भारत आएगा या नहीं? अनिज विज को शिकायत देने के बाद दर्ज हुआ मामला, जांच में जुटी पुलिस गांव जंडली की घटना; शराब के नशे में था सूरज, जांच में जुटी पुलिस बोले- पीएम मोदी को 8 हजार करोड़ का जहाज, अग्निवीर को बर्फीले सियाचीन में सिर्फ 21 हजार वेतन पत्थर की फैक्ट्री में दो महिलाएं काम कर रही थी, दूसरी फैक्ट्री की दीवार गिरी तेल कंपनियों ने जारी किए पेट्रोल-डीजल के दाम

एशिया का सबसे बड़ा शिवलिंग, जिसकी भीम ने की थी स्थापना

Whats App

प्रस्तुति – अनमोल कुमार
शिवलिंग के रुप में भगवान शिव की उपासना सृष्टि के आरंभ से ही की जाती है। भारत में शिवलिंग के रुप में कई शिव मंदिर स्थापित हैं जो की देश-विदेश हर जगह प्रसिद्ध हैं। इन्हीं शिवलिंगों में से भारत में एक एशिया का सबसे बड़ा शिवलिंग है। इस शिवलिंग की स्थापना द्वापर युग में की गई थी। महाभारत काल में भीम ने स्वयं इस शिवलिंग की स्थापना की थी।
दरअसल, हम जिस शिवलिंग की बात कर रहे हैं वो उत्तर प्रदेश के गोंड़ा जिले के खरगपुर गांव में स्थित है। यह मंदिर पृथ्वीनाथ नाम से प्रसिद्ध है, जिसमें एशिया का सबसे बड़े शिवलिंग स्थापित है। सबसे बड़े शिवलिंग के पीछे एक पौराणिक कथा प्रचलित जिसके अनुसार, एक दिन क्षेत्रीय निवासी पृथ्‍वीनाथ अपना मकान बनवाने के लिए खुदाई करवा रहे थे। उसी रात उन्‍हें सपने में पता चला कि उसी स्‍थान पर और नीचे सात खंडों में शिवलिंग दबा हुआ है। पृथ्‍वीनाथ को एक खंड तक शिवलिंग खोजने का निर्देश हुआ। इसके बाद अगले दिन ही पृथ्‍वीनाथ ने एक खंड तक खुदाई करवाई जिसके बाद वहां से शिवलिंग प्राप्त हुआ। इसके बाद ही यहां शिवलिंग की पूजा-अर्चना शुरु हुई और यहां शिवलिंग की स्थापना हुई और वह मंदिर पृथ्वीनाथ के नाम से प्रसिद्ध हुआ।
किंवदंतियों के अनुसार, महाभारत काल में यानी कि द्वापर युग में पांडव पुत्र भीम ने अज्ञातवास के दौरान ही इस शिवलिंग की स्‍थापना की थी। बताया जाता है कि बकासुर नामक दानव नें बहुत आतंक मचा रखा था और लोगों को बहुत परेशान कर रखा था। उसी वक्त भीम अपने भाईयों के साथ अज्ञातवास काट रहे थे और जब भीम को इस बात का पता चला तो भीम नें बकासुर नामक दानव से लोगों को बचाया और आतंक से छुटकारा दिलवाया।
बताया जाता है की वो दानव ब्राह्मण कुल का था और इससे भीम पर ब्रह्म हत्या का पाप लगा था। इसी दोष से मुक्त होने के लिये भीम ने शिवलिंग की स्थापना की थी। हालांकि बहुत वर्षों बाद यह धीरे-धीरे जमीन में समा गया था लेकिन मुगलकाल में एक सेनापति ने शिवलिंग का जीर्णोद्धार करवाकर यहां पूजा-अर्चना की। पृथ्‍वीनाथ की महिमा दूर-दूर तक फैली है। यहां भारत के अलावा नेपाल से भी भक्‍त पूजा-अर्चना करने आते हैं। मंदिर में हर साल तीन मेलों का आयोजन किया जाता है। शिवरात्रि और सावन पर तो यहां अद्भुत नजारा होता है। भक्‍तों का तांता लगा रहा है। मान्‍यता है कि भोलेनाथ के इस मंदिर में मांगी गई हर मुराद पूरी हो जाती है।

सिंधिया बोले-मुझे विश्वास है जनता हमारे साथ है और प्रचंड बहुमत से सारे प्रत्याशी जीतेंगे     |     इमिग्रेशन कंपनियों के दफ्तरों पर शुरू की छापामारी, चेक किए लाइसेंस     |     बिजली मंत्री ने बिजली और गबन संबंधी समस्याओं पर लिया एक्शन; 11 शिकायतें सुनी     |     हाईकोर्ट ने अंतरिम जमानत नहीं दी; वकील से पूछा- क्या वह भारत आएगा या नहीं?     |     अनिज विज को शिकायत देने के बाद दर्ज हुआ मामला, जांच में जुटी पुलिस     |     गांव जंडली की घटना; शराब के नशे में था सूरज, जांच में जुटी पुलिस     |     बोले- पीएम मोदी को 8 हजार करोड़ का जहाज, अग्निवीर को बर्फीले सियाचीन में सिर्फ 21 हजार वेतन     |     पत्थर की फैक्ट्री में दो महिलाएं काम कर रही थी, दूसरी फैक्ट्री की दीवार गिरी     |     तेल कंपनियों ने जारी किए पेट्रोल-डीजल के दाम     |     डेढ़ माह से हत्या के प्रयास मामले में फरार चल रहे तीन आरोपियों को भोरे पुलिस ने गिरफ्तार कर भेजा जेल।     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374