Breaking
राजधानी में बड़ी लूट की वारदात से हडकंप, कारोबारी से मारपीट कर 50 लाख की लूट मूर्तियां और कलश से लेकर शिवलिंग तक...तीन दिन का सर्वे पूरा वजुखाने में 12 फीट 8 इंच का शिवलिंग! भाजपा में चला मंथन का दौर, अलग निगम का अलग घोषणापत्र होगा जारी भारत माता की तस्वीर को जमीन पर रखकर अपमानित करने पर भड़के NSUI कार्यकर्ता, पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन... सुप्रीम कोर्ट में शिवराज सरकार प्रस्तुत कर चुकी है, पिछड़ा वर्ग कल्याण आयोग की वार्डवार रिपोर्ट, मंगल... EPF अकाउंट से Withdrawal पर हो सकता है 15 लाख रुपए से ज्यादा का नुकसान, रिटायरमेंट पर लगेगा झटका! हार्ट अटैक, पर्वतीय बीमारी से अब तक 39 तीर्थयात्रियों की मौत MP में अब नीलगाय का शिकार: पुलिस ने 2 शिकारियों को किया गिरफ्तार, बाकी आरोपियों की तलाश जारी इमरान खान को गिरफ्तार किया तो पाकिस्तान में होंगे श्रीलंका जैसे हालात रेलवे ने अचानक इन 20 ट्रेनों को क‍िया रद्द, ऐसे यात्र‍ियों को होगी मुश्‍क‍िल

बिहार में अगले 15 दिनों के अंदर होगा MNREGA के 224 करोड़ का लंबित मजदूरी भुगतान

Whats App

पटनाः बिहार सरकार ने आश्वस्त किया कि राज्य में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी (मनरेगा) योजना के तहत 224 करोड़ रुपए का लंबित मजदूरी भुगतान अगले 15 दिनों के अंदर कर दिया जाएगा और इसके लिए राशि की कोई कमी नहीं है।

ग्रामीण विकास विभाग के प्रधान सचिव अरविंद चौधरी और सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के सचिव अनुपम कुमार ने मनरेगा योजना के तहत सृजित मानव दिवसों एवं मजदूरी भुगतान के संबंध में संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा कि इस योजना के अंतर्गत पिछले वर्ष 22.5 करोड़ मानव दिवसों का सृजन किया गया था। इसमें 20 करोड़ श्रम बजट पास हुआ था। इस वर्ष के अगस्त तक सृजित मानव दिवसों के लिए 2033 करोड़ रुपए की मजदूरी का भुगतान किया जा चुका है।

वहीं, मैटेरियल के लिए 2707 करोड़ रुपए का भुगतान किया गया। चौधरी ने कहा कि सितंबर के लिए 113 करोड़ रुपए जबकि अक्टूबर के लिए 111 करोड़ रुपए की मजदूरी का भुगतान अभी शेष है। इस प्रकार कुल 224 करोड़ रुपए का लंबित मजदूरी भुगतान अगले 15 दिनों के अंदर कर दिया जाएगा। इसके लिए राशि की कोई कमी नहीं है। उन्होंने कहा कि पिछले माह की 26 तारीख को मनरेगा से जुड़े कार्यों की समीक्षा की गई थी।

Whats App

ग्रामीण विकास विभाग के प्रधान सचिव ने कहा कि केंद्र सरकार के पास यदि राशि की कमी होगी तो अगले अनुपूरक बजट से राशि का भुगतान कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष भी एक लाख करोड़ रुपए से ज्यादा का व्यय किया गया था। यह एक सतत प्रक्रिया है। मनरेगा योजना के तहत मानव दिवस सृजन और भुगतान की प्रक्रिया निरंतर चलती रहती है। हमेशा 70-80 करोड़ रुपए मजदूरी भुगतान का गैप बना रहता है। इस बार तकनीकी कारणों से मजदूरी के बकाए का भुगतान कुछ ज्यादा हो गया है।

चौधरी ने कहा कि मनरेगा योजना के लिए अच्छी बात यह है कि इसकी रिपोर्ट पब्लिक डोमेन में है। यदि कोई भी व्यक्ति चाहे तो उसे डाउनलोड करके जानकारी ले सकता है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

राजधानी में बड़ी लूट की वारदात से हडकंप, कारोबारी से मारपीट कर 50 लाख की लूट     |     मूर्तियां और कलश से लेकर शिवलिंग तक…तीन दिन का सर्वे पूरा वजुखाने में 12 फीट 8 इंच का शिवलिंग!     |     भाजपा में चला मंथन का दौर, अलग निगम का अलग घोषणापत्र होगा जारी     |     भारत माता की तस्वीर को जमीन पर रखकर अपमानित करने पर भड़के NSUI कार्यकर्ता, पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह का फूंका पुतला     |     सुप्रीम कोर्ट में शिवराज सरकार प्रस्तुत कर चुकी है, पिछड़ा वर्ग कल्याण आयोग की वार्डवार रिपोर्ट, मंगलवार को होगा तय     |     EPF अकाउंट से Withdrawal पर हो सकता है 15 लाख रुपए से ज्यादा का नुकसान, रिटायरमेंट पर लगेगा झटका!     |     हार्ट अटैक, पर्वतीय बीमारी से अब तक 39 तीर्थयात्रियों की मौत     |     MP में अब नीलगाय का शिकार: पुलिस ने 2 शिकारियों को किया गिरफ्तार, बाकी आरोपियों की तलाश जारी     |     इमरान खान को गिरफ्तार किया तो पाकिस्तान में होंगे श्रीलंका जैसे हालात     |     रेलवे ने अचानक इन 20 ट्रेनों को क‍िया रद्द, ऐसे यात्र‍ियों को होगी मुश्‍क‍िल     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374