Breaking
 भाजपा को इस साल कांग्रेस से छह गुना अधिक 614.53 करोड़ चंदा मिला  जामनगर (उ) सीट पर भाजपा प्रत्याशी रिवाबा के खिलाफ ननद-ससुर ने संभाला कांग्रेस के प्रचार का जिम्मा बाइक को टक्कर मार कर पलट गया ट्रक, एक युवक की मौत दूसरा गंभीर बीएसएफ ने पाकिस्तान ड्रोन को मार गिराया 7.5 किलोग्राम हेरोइन बरामद  विरोध करने पर पोल छोड़कर भागे कर्मचारी, कम इस्टीमेट बना ज्यादा रकम वसूलने का आरोप अब तक 1 करोड़ वसूला, कुल 28 करोड़ रुपए है बकाया; कानूनी कार्रवाई की भी तैयारी राजेश मूणत पहुंचे निर्वाचन आयोग, अफसरों से CM बघेल का प्रचार रोकने की मांग कैंसर पीड़ितों के लिए विग बनवा कर मुफ्त में बांटेंगे; 50 कर्मियों ने की मदद की पहल भारत में टारगेंट किलिंग का काम विदेशों में बैठे आंतकियों के इशारे पर  कर्नाटक उच्च न्यायालय ने पीएफआई प्रतिबंध पर सवाल उठाने वाली याचिका खारिज की

बिहार में अगले 15 दिनों के अंदर होगा MNREGA के 224 करोड़ का लंबित मजदूरी भुगतान

Whats App

पटनाः बिहार सरकार ने आश्वस्त किया कि राज्य में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी (मनरेगा) योजना के तहत 224 करोड़ रुपए का लंबित मजदूरी भुगतान अगले 15 दिनों के अंदर कर दिया जाएगा और इसके लिए राशि की कोई कमी नहीं है।

ग्रामीण विकास विभाग के प्रधान सचिव अरविंद चौधरी और सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के सचिव अनुपम कुमार ने मनरेगा योजना के तहत सृजित मानव दिवसों एवं मजदूरी भुगतान के संबंध में संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा कि इस योजना के अंतर्गत पिछले वर्ष 22.5 करोड़ मानव दिवसों का सृजन किया गया था। इसमें 20 करोड़ श्रम बजट पास हुआ था। इस वर्ष के अगस्त तक सृजित मानव दिवसों के लिए 2033 करोड़ रुपए की मजदूरी का भुगतान किया जा चुका है।

वहीं, मैटेरियल के लिए 2707 करोड़ रुपए का भुगतान किया गया। चौधरी ने कहा कि सितंबर के लिए 113 करोड़ रुपए जबकि अक्टूबर के लिए 111 करोड़ रुपए की मजदूरी का भुगतान अभी शेष है। इस प्रकार कुल 224 करोड़ रुपए का लंबित मजदूरी भुगतान अगले 15 दिनों के अंदर कर दिया जाएगा। इसके लिए राशि की कोई कमी नहीं है। उन्होंने कहा कि पिछले माह की 26 तारीख को मनरेगा से जुड़े कार्यों की समीक्षा की गई थी।

Whats App

ग्रामीण विकास विभाग के प्रधान सचिव ने कहा कि केंद्र सरकार के पास यदि राशि की कमी होगी तो अगले अनुपूरक बजट से राशि का भुगतान कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष भी एक लाख करोड़ रुपए से ज्यादा का व्यय किया गया था। यह एक सतत प्रक्रिया है। मनरेगा योजना के तहत मानव दिवस सृजन और भुगतान की प्रक्रिया निरंतर चलती रहती है। हमेशा 70-80 करोड़ रुपए मजदूरी भुगतान का गैप बना रहता है। इस बार तकनीकी कारणों से मजदूरी के बकाए का भुगतान कुछ ज्यादा हो गया है।

चौधरी ने कहा कि मनरेगा योजना के लिए अच्छी बात यह है कि इसकी रिपोर्ट पब्लिक डोमेन में है। यदि कोई भी व्यक्ति चाहे तो उसे डाउनलोड करके जानकारी ले सकता है।

 भाजपा को इस साल कांग्रेस से छह गुना अधिक 614.53 करोड़ चंदा मिला      |     जामनगर (उ) सीट पर भाजपा प्रत्याशी रिवाबा के खिलाफ ननद-ससुर ने संभाला कांग्रेस के प्रचार का जिम्मा     |     बाइक को टक्कर मार कर पलट गया ट्रक, एक युवक की मौत दूसरा गंभीर     |     बीएसएफ ने पाकिस्तान ड्रोन को मार गिराया 7.5 किलोग्राम हेरोइन बरामद      |     विरोध करने पर पोल छोड़कर भागे कर्मचारी, कम इस्टीमेट बना ज्यादा रकम वसूलने का आरोप     |     अब तक 1 करोड़ वसूला, कुल 28 करोड़ रुपए है बकाया; कानूनी कार्रवाई की भी तैयारी     |     राजेश मूणत पहुंचे निर्वाचन आयोग, अफसरों से CM बघेल का प्रचार रोकने की मांग     |     कैंसर पीड़ितों के लिए विग बनवा कर मुफ्त में बांटेंगे; 50 कर्मियों ने की मदद की पहल     |     भारत में टारगेंट किलिंग का काम विदेशों में बैठे आंतकियों के इशारे पर      |     कर्नाटक उच्च न्यायालय ने पीएफआई प्रतिबंध पर सवाल उठाने वाली याचिका खारिज की     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374