Breaking
जिंदा जलकर मौत; आत्महत्या के पीछे की वजहों को खंगाल रही पुलिस भैसदेही, आठनेर, भीमपुर में हुई फसलें खराब, किसानों ने एसडीएम को सौंपा ज्ञापन, मांगा मुआवजा नवरात्रि उपवास के दौरान रखें इन बातों का ध्यान दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर पीएम मोदी ने अर्पित की श्रद्धांजलि केन्द्र सरकार की अपील-सुप्रीम कोर्ट से सीओए को हटाए कच्चे तेल में ‎गिरावट के बाद भी पेट्रोल और डीजल की कीमत नहीं हुई कम मूनलाइटिंग को लेकर एक और उद्योगपति ने कहा- डेटा की सुरक्षा से समझौता करना पाप होगा भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने झूलन को जीत के साथ विदायी दी मंत्री बोले; प्रधानमंत्री एसएसी अभ्युदय योजना पहली बार दलित आर्थिक एजेण्डा के रूप में लागू श्राद्ध पक्ष में तीर्थ पर पिंडदान कर मांगी सुखद भविष्य की कामना

1 जनवरी से ऐप से खाना मंगाने पर लगेगा टैक्स! क्या ऑनलाइन फूड डिलीवरी सर्विस हो जाएगी महंगी? जानिए यहां

Whats App

नई दिल्ली। अगर आप ऑनलाइन खाना मंगाते हैं, तो आपके लिए जरूरी खबर है। दरअसल ऐप से फूड आर्डर करने वाले ग्राहकों को मालूम होना चाहिए कि केंद्र सरकार की तरफ से जोमैटो (Zomato) और स्विगी (Swiggy) जैसे फूड डिलीवरी ऐप पर 5 फीसदी टैक्स लगाया गया है। होगा। यह नया नियम 1 जनवरी 2022 से लागू हो रहा है।

फूड डिलीवरी ऐप को देना होगा 5 फीसदी टैक्स 

केंद्रीय वित्त मंत्रालय के आदेश के मुताबिक ऐप कंपनियों को रेस्टोरेंट की तरह ही इनपुट टैक्स क्रेडिट का फायदा नहीं मिलेगा। बता दें कि लंबे वक्त से फूड डिलीवरी ऐप की सेवाओं को जीएसटी (GST) के दायरे में लाने की मांग चल रही थी। जिसे 17 सितंबर की जीएसटी परिषद की बैठक में मंजूरी दी गई थी। इस नई व्यवस्था को देशभर में 1 जनवरी 2022 से लागू किया जा रहा है।

Whats App

ग्राहक पर क्या होगा असर

बता दें कि कानूनी तौर पर ऐप पर लगने वाले 5 फीसदी टैक्स का सीधा असर ग्राहक पर नहीं पड़ेगा, क्योंकि सरकार यह टैक्स फूड डिलीवरी करने वाले ऐप्स से वसूलेगी। लेकिन ऐसी भी संभावना है कि फूड डिलीवरी ऐप 5 फीसदी टैक्स को किसी ना किसी रूप में ग्राहक से ही वसूल करेंगे। ऐसे में 1 जनवरी से ऑनलाइन फूड ऑर्डर करना महंगा हो सकता है। बता दें कि अभी तक ऐप से फूड आर्डर करने पर रेस्टोरेंट को 5 फीसदी टैक्स देना होता था, जिसे हटाकर ऐप पर लागू कर दिया गया है। यह टैक्स जीएसटी क तहत रजिस्टर्ड और अनरजिस्टर्ड रेस्टोरेंज से खाना आर्डर करने वाले ऐप पर लागू होगा। इसका सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि ऑनलाइन फूड डिलीवरी करने वाले ऐप्स उन्हीं रेस्टोरेंट से फूड आर्डर लेंगे, जो जीएसटी के तहत पंजीकृत हैं।

जिंदा जलकर मौत; आत्महत्या के पीछे की वजहों को खंगाल रही पुलिस     |     भैसदेही, आठनेर, भीमपुर में हुई फसलें खराब, किसानों ने एसडीएम को सौंपा ज्ञापन, मांगा मुआवजा     |     नवरात्रि उपवास के दौरान रखें इन बातों का ध्यान     |     दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर पीएम मोदी ने अर्पित की श्रद्धांजलि     |     केन्द्र सरकार की अपील-सुप्रीम कोर्ट से सीओए को हटाए     |     कच्चे तेल में ‎गिरावट के बाद भी पेट्रोल और डीजल की कीमत नहीं हुई कम     |     मूनलाइटिंग को लेकर एक और उद्योगपति ने कहा- डेटा की सुरक्षा से समझौता करना पाप होगा     |     भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने झूलन को जीत के साथ विदायी दी     |     मंत्री बोले; प्रधानमंत्री एसएसी अभ्युदय योजना पहली बार दलित आर्थिक एजेण्डा के रूप में लागू     |     श्राद्ध पक्ष में तीर्थ पर पिंडदान कर मांगी सुखद भविष्य की कामना     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374