Breaking
राज्यपाल से मिलने जा रहे अशोक गहलोत, दिल्ली निकलने से पहले देंगे इस्तीफा? जसपाल बांगड़ इलाके के बदमाश; पुलिस आज करेगी खुलासा; हमले में हुई थी एक की मौत ब्लैक आउट साबित हो रहे शहर के मुख्यमार्ग-बाजार, नपा की लापरवाही से बढ़ सकता हैं क्राइम छोटे रथ पर हाथी वाहन में सवार होकर भक्तों को दर्शन दिए, पूर्व कैबिनेट मंत्री अर्चना चिटनिस ने खींचा ... राजू श्रीवास्तव की बेटी अंतरा का अमिताभ बच्चन के नाम भावुक नोट गहलोत के हाथ से जाएगी CM की भी कुर्सी? पलटने लगे हैं विधायक, अब पायलट मंजूर  महाराष्ट्र में एक ही जगह मौजूद हैं दो रेलवे स्टेशन इंदौर महू की रॉयल रेसिडेंसी में धूमधाम ने मनाया जा रहा है नवरात्रि उत्सव चमत्कारों से भरा है मां शारदा का यह शक्तिपीठ, जहां पुजारी से पहले चढ़ा जाता है कोई फूल Wednesday Ka Rashifal: आज नए काम शुरू करने के लिए समय शुभ, परिजनों का मिलेगा सहयोग, पढ़ें अपना राशिफ...

ऑनलाइन सुनवाई में वकीलों के फोन यूज करने पर भड़का सुप्रीम कोर्ट, बोला-तो मोबाइलों पर लगा दें बैन

Whats App

चीफ जस्टिस (CJI) एन वी रमन्ना की अध्यक्षता वाली सुप्रीम कोर्ट की एक पीठ ने सोमवार को कई वकीलों द्वारा मोबाइल फोन के उपयोग के कारण डिजिटल सुनवाई के दौरान बार-बार रुकावट बनने पर नाराजगी जताई और कहा कि उसे मोबाइल के माध्यम से सुनवाई में शामिल होने पर प्रतिबंध लगाना पड़ सकता है। चीफ जस्टिस एन वी रमन्ना, जस्टिस  एएस बोपन्ना और जस्टिस हिमा कोहली की पीठ इस बात से नाखुश थी कि सुनवाई के दौरान वकीलों की तरफ से ऑडियो या विजुअल अथवा दोनों में व्यवधान के कारण सोमवार को सूचीबद्ध 10 मामलों में सुनवाई स्थगित करनी पड़ी।

पीठ ने एक मामले में टिप्पणी की, “वकील अपने मोबाइल फोन का उपयोग करते हुए पेश हो रहे हैं और दिखाई नहीं दे रहे हैं। हमें इस मोबाइल के उपयोग पर प्रतिबंध लगाना पड़ सकता है। श्रीमान वकील आप अब सुप्रीम कोर्ट में वकालत कर रहे हैं और नियमित रूप से पेश हो रहे हैं। क्या आप बहस करने के लिए डेस्कटॉप (कंप्यूटर) नहीं रख सकते हैं?” एक अन्य मामले की सुनवाई के दौरान पीठ ने वकील के दोषपूर्ण इंटरनेट कनेक्शन का संज्ञान लिया और कहा, “हमारे पास इस तरह मामलों को सुनने की कोई ऊर्जा नहीं है। कृपया एक ऐसी प्रणाली तैयार करें जिससे हम आपको सुन सकें। ऐसे ही दस मामले खत्म हो गए हैं और हम चिल्ला रहे हैं।”

Whats App

शीर्ष अदालत मार्च 2020 से महामारी के कारण वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मामलो की सुनवाई कर रही है और बदलती महामारी की स्थिति को ध्यान में रखते हुए समय-समय पर शर्तों में ढिलाई या सख्त करती रही है। शीर्ष अदालत ने 2 जनवरी को देश में अचानक ही covid-19 के मामले बढ़ने का संज्ञान लेते हुए सात जनवरी से सारे मामलों की वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से सुनवाई करने का निर्णय लिया था। ये पीठ इस समय न्यायाधीशों के आवासीय कार्यालयों में बैठ रही हैं।

राज्यपाल से मिलने जा रहे अशोक गहलोत, दिल्ली निकलने से पहले देंगे इस्तीफा?     |     जसपाल बांगड़ इलाके के बदमाश; पुलिस आज करेगी खुलासा; हमले में हुई थी एक की मौत     |     ब्लैक आउट साबित हो रहे शहर के मुख्यमार्ग-बाजार, नपा की लापरवाही से बढ़ सकता हैं क्राइम     |     छोटे रथ पर हाथी वाहन में सवार होकर भक्तों को दर्शन दिए, पूर्व कैबिनेट मंत्री अर्चना चिटनिस ने खींचा रथ     |     राजू श्रीवास्तव की बेटी अंतरा का अमिताभ बच्चन के नाम भावुक नोट     |     गहलोत के हाथ से जाएगी CM की भी कुर्सी? पलटने लगे हैं विधायक, अब पायलट मंजूर      |     महाराष्ट्र में एक ही जगह मौजूद हैं दो रेलवे स्टेशन     |     इंदौर महू की रॉयल रेसिडेंसी में धूमधाम ने मनाया जा रहा है नवरात्रि उत्सव     |     चमत्कारों से भरा है मां शारदा का यह शक्तिपीठ, जहां पुजारी से पहले चढ़ा जाता है कोई फूल     |     Wednesday Ka Rashifal: आज नए काम शुरू करने के लिए समय शुभ, परिजनों का मिलेगा सहयोग, पढ़ें अपना राशिफल     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374