Breaking
15 साल बाद इंग्लैंड में सीरीज जीतने उतरेगा भारत दुष्कर्म मामले में रोनाल्डो के वकील का पलटवार गनोड़ा से भुवासा तक पैदल जा रहा था बुजुर्ग, मौके पर ही दम तोड़ा दिल्ली में आज से प्रॉपर्टी खरीदना और बेचना हुआ महंगा आर्यन खान ने अदालत से अपना पासपोर्ट वापस किए जाने की मांग की मुख्यमंत्री सहित 16 विधायकों को लेकर सुप्रीम कोर्ट पहुंची शिवसेना मानसून के साथ मुश्किलों की शुरुआत गोपेश्वर में सड़क पर गिरा बोल्डर ग्वालियर में VIDEO देख रोईं तो उसने मुंह दबाया; लोगों ने मनचले को बांध दिया हिसार के ढंडूर गांव की घटना; अलसुबह 3 बजे बारिश होने से हुआ हादसा मुम्बई के कुर्ला में इमारत ढहने से 8 लोगों की मौत

सिंघु बॉर्डर पर निहंगों की हैवानियत नया वीडियो वायरल, बच्‍चों के सामने नारे लगाते हुए लटका दी लाश

Whats App

 दिल्ली-हरियाणा की सीमा पर किसानों के कुंडली स्थित प्रदर्शन स्थल के नजदीक कुछ दिन पहले एक व्यक्ति की पीट-पीट कर हत्या कर दी गई और उसका हाथ काट दिया गया । उसके शरीर पर धारदार हथियार से हमले के करीब 10 जख्म बने थे और उसके शव को अवरोधक से बांधा गया था।  इस नृशंस हत्या के घंटों बाद सिखों की निहंग परंपरा के तहत नीले लिबास में एक व्यक्ति मीडिया के समक्ष आया और दावा किया कि उसने पीड़ित को पवित्र ग्रंथ की ‘बेअदबी’ करने की ‘सजा’ दी है। सोशल मीडिया पर वायरल हुई एक वीडियो क्लिप में कुछ निहंगों को जमीन पर खून से लथपथ पड़े एक व्यक्ति के पास खड़े हुए देखा गया है और उसका बायां हाथ कटा हुआ पड़ा है। वहीं अब इस घटना का एक और वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है जिसमें देखा जा सकता है कि हत्‍या के बाद शव को भीड़ के सामने लटकाया गया। धार्मिक नारे लगाती इस भीड़ में बच्‍चे भी मौजूद थे। वीडियो में दिख रहा है कि एक निहंग शव को रस्‍सी से बांध रहा है। इस बीच नारेबाजी जारी रहती है। पीछे तलवारें लिए कई निहंग देख रहे हैं। फिर लखबीर सिंह के शव को घसीटकर ले जाया जाता है। बाद में हाथ काटकर शव को लटका दिया गया।

पंजाब के तरन तारन जिले का रहने वाला था लखबीर सिंह 
इससे पहले वायरल हो रही है वीडियो क्लिप में दिख रहा है कि निहंग उस व्यक्ति से पूछ रहे हैं कि वह कहां से आया है। व्यक्ति को मरने से पहले पंजाबी में कुछ कहते हुए और निहंगों से माफ करने की गुहार लगाते हुए सुना जा सकता है। वीडियो में दिखाई देता है कि निहंग लगातार उससे पूछ रहे हैं कि बेअदबी करने के लिए किसने उसे भेजा था। उनमें से एक व्यक्ति यह कहते सुनाई दे रहा है कि व्यक्ति ‘पंजाबी’ है न कि बाहरी और इस मुद्दे को हिंदू-सिख का रंग नहीं दिया जाना चाहिए, जबकि अन्य धार्मिक नारे लगा रहे हैं। कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली से लगती सीमाओं पर तीन स्थानों पर प्रदर्शन कर रहे किसान संगठनों के साझा मंच संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने बताया कि इस नृशंस हत्या की जिम्मेदारी निहंगों के समूह ने ली है। उनका दावा है कि मृतक ने सिखों की पवित्र किताब सरबलोह ग्रंथ की बेअदबी करने की कोशिश की थी। पुलिस ने बताया कि मृतक लखबीर सिंह पंजाब के तरन तारन जिले के चीमा खुर्द का रहने वाला था और पेशे से मजदूर था। उसकी आयु 35 वर्ष के आसपास थी। उसका शव केंद्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ कई महीनों से आंदोलन कर रहे किसानों द्वारा बनाए एक मंच के नजदीक पुलिस द्वारा लगाए गए अवरोधक से बांधा गया था। किसानों का प्रदर्शन स्थल दिल्ली-हरियाणा सीमा के पास सिंघू बार्डर पर स्थित है।

मौत के समय खून से लथपथ था लखबीर
सोनीपत पुलिस के एक अधिकारी ने बताया, ‘‘कुंडली पुलिस थाने को सुबह पांच बजे सूचना मिली कि किसानों के प्रदर्शन स्थल के पास एक शव मिला है।” हरियाणा पुलिस के प्रवक्ता ने चंडीगढ़ में बताया कि सोनीपत पुलिस जब तक घटनास्थल पर पहुंचती, तबतक व्यक्ति की मौत हो गई थी। प्रवक्ता ने बताया, ‘‘कुछ लोग वहां पर खड़े थे। जब पुलिस ने शव वहां से निकालने की कोशिश की, तो उन्होंने प्रदर्शन किया। हालांकि, थोड़ी कोशिश के बाद शव को सिविल अस्पताल लाया गया।” जानकारी के मुताबिक सिंह के शरीर पर केवल पतलून थी। उसके हाथ को कलाई के पास से काटा गया था और पैरों में गहरे जख्म थे। उसके शरीर पर धारदार हथियार के वार से बने करीब 10 निशान थे। आरोप है कि उसपर हमला करने वालों ने रस्सी से उसे अवरोधक से बांधने से पहले कई मीटर तक घसीटा था। मौत के समय वह खून से लथपथ था।

Whats App

पुलिस महानिरीक्षक, रोहतक रेंज, संदीप खिरवार ने फोन पर बताया, ‘‘हमने एक मामला दर्ज किया है और दोषियों का पता लगाने के लिए जांच चल रही है।” बाद में कुंडली पहुंचे खिरवार ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि पुलिस को मामले में जल्द गिरफ्तारी की उम्मीद है। उन्होंने कहा, ‘‘हमारे पास कुछ संदिग्धों के नाम है और जांच चल रही है। मुझे उम्मीद है कि हम जल्द ही इस मामले को मुकाम तक पहुंचा देंगे क्योंकि हमारे पास कुछ सुराग हैं।” वहीं, तरन-तारन में लखबीर सिंह के गांव में घटना से स्तब्ध परिवार ने कहा कि वह कभी पवित्र किताब की बेअदबी नहीं कर सकता है। कुछ ग्रामीणों ने पत्रकारों से कहा कि सिंह के माता-पिता का कुछ साल पहले देहांत हो गया था और उसकी पत्नी और तीन बच्चे रिश्तेदारों के साथ रहते हैं। सिंह अपनी बहन के साथ रह रहा था।

15 साल बाद इंग्लैंड में सीरीज जीतने उतरेगा भारत     |     दुष्कर्म मामले में रोनाल्डो के वकील का पलटवार     |     गनोड़ा से भुवासा तक पैदल जा रहा था बुजुर्ग, मौके पर ही दम तोड़ा     |     दिल्ली में आज से प्रॉपर्टी खरीदना और बेचना हुआ महंगा     |     आर्यन खान ने अदालत से अपना पासपोर्ट वापस किए जाने की मांग की     |     मुख्यमंत्री सहित 16 विधायकों को लेकर सुप्रीम कोर्ट पहुंची शिवसेना     |     मानसून के साथ मुश्किलों की शुरुआत गोपेश्वर में सड़क पर गिरा बोल्डर     |     ग्वालियर में VIDEO देख रोईं तो उसने मुंह दबाया; लोगों ने मनचले को बांध दिया     |     हिसार के ढंडूर गांव की घटना; अलसुबह 3 बजे बारिश होने से हुआ हादसा     |     मुम्बई के कुर्ला में इमारत ढहने से 8 लोगों की मौत     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374