Breaking
महू-नसीराबाद हाइवे पर जानलेवा गड्डे, ठेकेदार बोला- भूमिपूजन के बाद ही काम शुरू करेंगे टेस्ट सीरीज में मोहम्मद शमी के स्थान पर इन खिलाड़ियों को मिल सकता है मौका गुजरात की ऐतिहासिक जीत पीएम मोदी की लोकप्रियता के कारण : केंद्रीय रक्षा मंत्री  भोपाल में 2500 स्वयंसेवक एक साथ शारीरिक प्रदर्शन करेंगे सीएम योगी देंगे 387.59 करोड़ की सौगात श्रीमद् भागवत कथा के समापन पर भंडारा आयोजित   निराशा भरा रहा है टीम इंडिया का साल 2022 बैंक ऑफ महाराष्ट्र में निकली बंपर वैकेंसी, 45 साल तक की उम्मीदवार कर सकेंगे आवेदन जहां पिता की हुई नियुक्ति, उसी यूनिट में तैनात हुए थे बिपिन रावत, जानें उनके शौर्य की गाथा अब आंगनबाड़ी में मिलेगा अक्षरज्ञान

बिहारः बीजेपी ने चिराग को फिर चौंकाया, मणिपुर में विधायक को भाजपा में शामिल करा सीएम ने किया बड़ा दावा

Whats App

पटना। बिहार की जमुई लोकसभा सीट के सांसद चिराग पासवान के दिन अच्छे नहीं चल रहे हैं। पिता रामविलास पासवान के निधन के बाद पहले पार्टी और परिवार में टूट हुई फिर विधानसभा उप चुनाव परिणाम से भी निराशा हाथ लगी। अब भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने चिराग के एमएलए को अपने पाले में शामिल कर लिया है। मणिपुर में लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के इकलौते विधायक करम श्याम ने गुरुवार को बीजेपी का दामन थाम लिया। मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह की मौजूदगी में करम श्याम भाजपा में शामिल हुए। इंफाल पश्चिम जिले के लिलोंग चाजिंग मैरेनखोंग में आयोजित कार्यक्रम में सीएम बीरेन ने कहा कि अगले साल विधानसभा चुनावों में पूर्ण बहुमत हासिल करने के बाद भाजपा करम की सहायता से फिर सत्ता में लौटेगी। इस कार्यक्रम में बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा भी मौजूद थे।

गौरतलब है कि पूर्व केंद्रीय मंत्री रहे रामविलास पासवान के बेटे चिराग पासवान के दिन अच्छे नहीं चल रहे हैं। हाल ही में उनके दल के छह सांसदों में से पांच ने चिराग के चाचा पशुपति कुमार पारस को अपना नेता मानकर अलग राह अपना ली थी। बाद में नरेन्द्र मोदी मंत्रिमंडल विस्तार में हाजीपुर लोकसभा सीट के सांसद पशुपति कुमार पारस को केंद्रीय खाद्य एवं प्रसंस्करण मंत्रालय का जिम्मा सौंपा गया था। चिराग ने पार्टी और परिवार में टूट का जिम्मेदार चाचा पशुपति पारस और बिहार सीएम नीतीश कुमार को बताया था। पिछले साल नवंबर महीने में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव में भी चिराग जदयू के खिलाफ प्रचार कर रहे थे। बावजूद इसके उन्हें कोई कामयाबी नहीं मिली। उनके दल ने एक सीट जीती पर बाद में विधायक ने जेडीयू का दामन थाम लिया। चाचा-भतीजे के विवाद के बीच चुनाव आयोग ने दोनों को अलग नाम पर चुनाव चिह्न आवंटित कर दिया। पारस को राष्ट्रीय लोक जनशक्ति पार्टी और चुनाव चिह्न सिलाई मशीन मिला। वहीं चिराग को लोक जनशक्ति पार्टी (राम विलास) और हेलीकाप्टर चुनाव चिह्न चुनाव आयोग ने दिया। 

महू-नसीराबाद हाइवे पर जानलेवा गड्डे, ठेकेदार बोला- भूमिपूजन के बाद ही काम शुरू करेंगे     |     टेस्ट सीरीज में मोहम्मद शमी के स्थान पर इन खिलाड़ियों को मिल सकता है मौका     |     गुजरात की ऐतिहासिक जीत पीएम मोदी की लोकप्रियता के कारण : केंद्रीय रक्षा मंत्री      |     भोपाल में 2500 स्वयंसेवक एक साथ शारीरिक प्रदर्शन करेंगे     |     सीएम योगी देंगे 387.59 करोड़ की सौगात     |     श्रीमद् भागवत कथा के समापन पर भंडारा आयोजित       |     निराशा भरा रहा है टीम इंडिया का साल 2022     |     बैंक ऑफ महाराष्ट्र में निकली बंपर वैकेंसी, 45 साल तक की उम्मीदवार कर सकेंगे आवेदन     |     जहां पिता की हुई नियुक्ति, उसी यूनिट में तैनात हुए थे बिपिन रावत, जानें उनके शौर्य की गाथा     |     अब आंगनबाड़ी में मिलेगा अक्षरज्ञान     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374