Breaking
शिक्षा व्‍यवस्‍था पर कल शिमला में जनता से संवाद करेंगे मनीष सिसोदिया सीएम शिवराज सिंह चौहान ने दलित महिला के हाथों बेर खाए थे,उसी गांव में रोकी दलित की बारात खंडवा में बोहरा मस्जिद के पास हाकिमी टेडर्स दूकान में लगी भीषण आग महंगे होते कर्ज के बीच क्‍या दूसरे बैंक में लोन ट्रांसफर कराने से मिलेगा फायदा, क्‍या कहते हैं एक्‍स... बुद्ध पूर्णिमा पर लुंबिनी पहुंचे पीएम मोदी बाजार की अच्छी शुरुआत, सेंसेक्स 200 अंक ऊपर, निफ्टी 15800 के पार IRCTC दे रहा वैष्णों देवी, श्रीनगर समेत कई खूबसूरत जगह घूमने का मौका, 8 दिन का है ट्रिप, चेक करें डि... बॉलीवुड एक्टर इमरान खान पत्नी अवंतिका मलिक से लेंगे तलाक रोहित शेट्‌टी की वेब सीरीज की शूटिंग के दौरान घायल हुए सिद्धार्थ मल्होत्रा केरल में जोरदार प्री-मॉनसून बारिश उत्तर भारत में भी जल्द मिलेगी गर्मी से राहत

विवादित बयान के बाद शिवसेना के निशाने पर कंगना, कहा- मोदी सरकार वापस लें सभी राष्ट्रीय पुरस्कार

Whats App

शिवसेना ने शनिवार को मांग की कि ‘1947 में आजादी नहीं, बल्कि भीख मिली थी’ की टिप्पणी करने पर अभिनेत्री कंगना रनौत से सभी राष्ट्रीय पुरस्कार एवं सम्मान वापस ले लिये जाएं। शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ में लिखे संपादकीय में कहा गया है कि कि कंगना ने जो कहा है कि वो ‘देशद्रोह’ है।

गौरतलब है कि सोशल मीडिया पर वायरल हुई 24 सेकेंड की एक क्लिप में रनौत को कहते सुना जा सकता है, ‘1947 में आजादी नहीं, बल्कि भीख मिली थी और जो आजादी मिली है वह 2014 में मिली।’ रनौत पिछले दिनों एक समाचार चैनल के एक कार्यक्रम में बोल रही थीं और उनकी इस टिप्पणी के बाद मौके पर मौजूद कुछ लोग तालियां भी बजाईं।

महाराष्ट्र में ‘महा विकास आघाड़ी’ सरकार का नेतृत्व कर रही शिवसेना ने कहा, ‘‘मोदी सरकार को कंगना से सभी राष्ट्रीय पुरस्कार वापस लेने चाहिए।’’ भाजपा पर प्रहार करते हुए उसकी पूर्व सहयोगी पार्टी ने आरोप लगाया कि कंगना की टिप्पणी से भाजपा का ‘नकली राष्ट्रवाद’ बिखर गया है।

Whats App

पार्टी के मुखपत्र के संपादकीय में कहा गया है, ‘‘कंगना से पहले किसी ने भी भारत के स्वतंत्रता संग्राम का इस तरह से अपमान नहीं किया था। हाल ही में उन्हें पद्मश्री सम्मान दिया गया जो पहले स्वतंत्रता सेनानियों को दिया गया था। उन्हीं वीरों का अपमान करने वाली कंगना को यह सम्मान दिया जाना देश के लिए दुर्भाग्यपूर्ण है।’’ कंगना की हालिया टिप्पणियों का उल्लेख करते हुए शिवसेना ने कहा कि स्वतंत्रता के संग्राम के समय उनके ‘वर्तमान राजनीतिक पूर्वज’ दृश्य में कहीं नहीं थे।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

शिक्षा व्‍यवस्‍था पर कल शिमला में जनता से संवाद करेंगे मनीष सिसोदिया     |     सीएम शिवराज सिंह चौहान ने दलित महिला के हाथों बेर खाए थे,उसी गांव में रोकी दलित की बारात     |     खंडवा में बोहरा मस्जिद के पास हाकिमी टेडर्स दूकान में लगी भीषण आग     |     महंगे होते कर्ज के बीच क्‍या दूसरे बैंक में लोन ट्रांसफर कराने से मिलेगा फायदा, क्‍या कहते हैं एक्‍सपर्ट     |     बुद्ध पूर्णिमा पर लुंबिनी पहुंचे पीएम मोदी     |     बाजार की अच्छी शुरुआत, सेंसेक्स 200 अंक ऊपर, निफ्टी 15800 के पार     |     IRCTC दे रहा वैष्णों देवी, श्रीनगर समेत कई खूबसूरत जगह घूमने का मौका, 8 दिन का है ट्रिप, चेक करें डिटेल्स     |     बॉलीवुड एक्टर इमरान खान पत्नी अवंतिका मलिक से लेंगे तलाक     |     रोहित शेट्‌टी की वेब सीरीज की शूटिंग के दौरान घायल हुए सिद्धार्थ मल्होत्रा     |     केरल में जोरदार प्री-मॉनसून बारिश उत्तर भारत में भी जल्द मिलेगी गर्मी से राहत     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374