New Year
Breaking
गोपालगंज।अन्तर जिला गिरोह के चार सरगना गिरफ्तार मोतिहारी के रहने वाले हैं लुटेरे. मुख्यमंत्री चौहान ने सामाजिक संस्था के प्रतिनिधियों के साथ पौध-रोपण किया जल्द चुनाव के लिए तैयार हैं तेलंगाना बीजेपी अध्यक्ष शिवाजी मार्केट की दुकानें शिफ्ट करना फिर अटका  राष्ट्रपति का अभिभाषण, चुनावी भाषण और सरकार का प्रोपेगेंडा था : शशि थरूर मौसम में होने वाला है बड़ा बदलाव आंध्र प्रदेश के अमारा राजा प्लांट में आग लगी केंद्र सरकार ने बजट सत्र से पहले बुलाई सर्वदलीय बैठक दिलजीत दोसांझ आएगे नजर फिल्म 'द क्रू' में, तब्बू, करीना और कृति सनोन के साथ मुंबई एयरपोर्ट पर 28.10 करोड़ की कोकीन के साथ तस्कर गिरफ्तार...

कनाडा में अधिकांश विदेशी छात्र स्टडी परमिट वाले प्रांत में रहना चाहते हैं

Whats App

टोरंटो| कनाडा में विदेशी छात्र उस प्रांत में रहना चाहते हैं, जिसमें उन्हें शिक्षा प्राप्त करने या काम करने की अनुमति मिलती है। कनाडा में काफी संख्या में भारतीय छात्र भी हैं। द कॉन्फ्रें स बोर्ड ऑफ कनाडा की एक हालिया रिपोर्ट के अनुसार, अटलांटिक प्रांतों को छोड़कर हर क्षेत्र के लिए, देश में कार्यरत आधे से अधिक पूर्व अंतरराष्ट्रीय छात्रों ने वहीं स्टडी की थी।

‘आफ्टर स्कूल: कीपिंग इंटरनेशनल स्टूडेंट्स इन-प्रोविंस’ रिपोर्ट में कहा गया है कि कनाडा के 10 प्रांतों या तीन क्षेत्रों में से किसी में अध्ययन करने वाले 60 प्रतिशत से अधिक छात्र उस क्षेत्र में बने रहे, जहां उनका अध्ययन परमिट समाप्त हो गया।

क्यूबेक ने लगभग 85 प्रतिशत की उच्चतम अंतरराष्ट्रीय छात्र रिटेंशन दर दिखाई, इसके बाद मैनिटोबा और अल्बर्टा (80 प्रतिशत) का स्थान रहा।

Whats App

ब्रिटिश कोलंबिया, ओंटारियो, न्यूफाउंडलैंड और लैब्राडोर, नोवा स्कोटिया और सस्केचेवान में रिटेंशन दर 70 और 80 प्रतिशत के बीच है।

न्यू ब्रंसविक, प्रिंस एडवर्ड आइलैंड और कनाडा के तीन प्रदेशों में एक साल बाद अपने विदेशी छात्रों के 60 प्रतिशत और 70 प्रतिशत के बीच रिटेंशन दर दिखी।

शोध में कहा गया है कि विकसित हो रही अंतरराष्ट्रीय शिक्षा और अंतरराष्ट्रीय छात्र नामांकन में बदलाव पूरे कनाडा में आप्रवासन और निपटान पैटर्न को आकार दे सकते हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है, अपने अध्ययन के दौरान छात्र कनाडा में अपने साथियों, उत्तर-माध्यमिक संस्थानों और समुदाय के साथ संबंध बना कर रखते हैं। ये संबंध इस संभावना को बढ़ा सकते हैं कि अंतर्राष्ट्रीय छात्र उस समुदाय या प्रांत में बस जाएं, जहां उन्होंने अध्ययन किया है।

इसमें आगे कहा गया है कि ज्यादातर विदेशी तीन साल बाद भी अपने प्रारंभिक अध्ययन वाले प्रांत में ही रहे।

कनाडा के 13 प्रांतों और क्षेत्रों में से नौ में, 50 प्रतिशत से अधिक अंतरराष्ट्रीय छात्र प्रांत या क्षेत्र में रहे।

इसमें न्यूफाउंडलैंड और लैब्राडोर, नोवा स्कोटिया, प्रिंस एडवर्ड आइलैंड और न्यू ब्रंसविक के अटलांटिक प्रांत शामिल नहीं थे।

शोध के अनुसार, 2019 में सभी नए अध्ययन परमिट धारकों में से आधे अकेले भारत से आए।

कनाडा भारतीय छात्रों के लिए दूसरा सबसे लोकप्रिय गंतव्य है, जिनमें से 1.83 लाख देश में विभिन्न स्तरों पर शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं।

अध्ययन में कहा गया है, एक मजबूत माध्यमिक शिक्षा प्रणाली, जो स्थानीय श्रम बाजार की जरूरतों के अनुरूप कार्यक्रमों की पेशकश करती है, अंतरराष्ट्रीय छात्रों को उनके अध्ययन को उन समुदायों से जोड़ने में मदद करेगी जहां वे रहते हैं।

मुख्यमंत्री चौहान ने सामाजिक संस्था के प्रतिनिधियों के साथ पौध-रोपण किया     |     जल्द चुनाव के लिए तैयार हैं तेलंगाना बीजेपी अध्यक्ष     |     शिवाजी मार्केट की दुकानें शिफ्ट करना फिर अटका      |     राष्ट्रपति का अभिभाषण, चुनावी भाषण और सरकार का प्रोपेगेंडा था : शशि थरूर     |     मौसम में होने वाला है बड़ा बदलाव     |     आंध्र प्रदेश के अमारा राजा प्लांट में आग लगी     |     केंद्र सरकार ने बजट सत्र से पहले बुलाई सर्वदलीय बैठक     |     दिलजीत दोसांझ आएगे नजर फिल्म ‘द क्रू’ में, तब्बू, करीना और कृति सनोन के साथ     |     मुंबई एयरपोर्ट पर 28.10 करोड़ की कोकीन के साथ तस्कर गिरफ्तार…     |     गोपालगंज।अन्तर जिला गिरोह के चार सरगना गिरफ्तार मोतिहारी के रहने वाले हैं लुटेरे.     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374