Breaking
शिव ठाकरे ने पलटा गेम निमृत को बनाया घर का नया कैप्टन, भड़कीं टीना दत्ता सुनक का विदेशी छात्रों को ब्रिटेन में प्रतिबंधित करने के विचार का हो सकता है विरोध सोने और चांदी का आयात घटा मप्र के देवास में स्कूल बस हुई दुर्घटनाग्रस्त, दो बच्चों को आई चोट आइसक्रीम खाने से गले की खराश होगी गायब कोरेक्स की डिलीवरी देते समय 3 तस्कर गिरफ्तार, 25 हजार रुपए की 170 शीशी कफ सिरप जब्त दुष्कर्म के आरोपी BJP प्रत्याशी ब्रह्मानंद नेताम हो सकते हैं गिरफ्तार ? पुलिस ने प्रधान अर्जुन थापर, टिंकू, राजन, रजनीश और टोनी को बना मुख्य अभियुक्त 12 घंटे के लिए OPD सेवाएं बंद, MBBS छात्रों के लिए बनाई बॉन्ड पॉलिसी का विरोध डेढ़ साल से चल रहा था अफेयर, अलग जाति होने के कारण परिवार शादी को राजी नहीं थे

नैनो बबल से कोरोना वैरिएंट की रोकथाम और इलाज संभव, जानें संक्रमण को रोकने में कैसे हैं मददगार

Whats App

इवांस्टन (इलिनोइस)। कोरोना वायरस के नए-नए वैरिएंट सामने आ रहे हैं जिससे महामारी की घातक लहरों से भी लोगों को जूझना पड़ रहा है। इस भयावह महामारी से मानवता को बचाने के लिए विज्ञानी दिन रात शोध कार्यों में लगे हुए हैं और वायरस को रोकने और उसके संक्रमण का इलाज तलाश रहे हैं। इसी कड़ी में विज्ञानियों के हाथ कुछ ऐसी महत्वपूर्ण जानकारी लगी है जो न सिर्फ कोरोना वायरस के मौजूदा वैरिएंट बल्कि भविष्य में सामने आने वाले वैरिएंट को रोकने के साथ ही उनका उपचार करने में भी मददगार साबित हो सकती है

अमेरिका के नार्थवेस्टर्न मेडिसिन एवं यूनिवर्सिटी आफ टेक्सास एमडी एंडरसन कैंसर सेंटर के विज्ञानियों ने प्रीक्लीनिकल अध्ययन में कोरोना के मरीजों के रक्त में एसीई2 (ईवीएसीई2) प्रोटीन युक्त प्राकृतिक नैनो बबल की पहचान की है। ये नैनो यानी छोटे आकार के कण सार्स-सीओवी-2 वायरस के व्यापक वैरिएंट से संक्रमण को रोक सकते हैं। इस अध्ययन का प्रकाशन ‘नेचर कम्युनिकेशन’ में हुआ है।

विज्ञानियों के मुताबिक ईवीएसीई2 शरीर में एक फंदे के रूप में काम करती है और सार्स-सीओवी-2 के वर्तमान और भावी वैरिएंट और भविष्य के कोरोनावायरस की रोकथाम और उपचार के रूप में विकसित की जा सकती है। अगर एक बार इसका चिकित्सकीय उत्पाद के रूप में विकास हो जाता है तो जैविक उपचार के रूप में लोगों को इसका लाभ मिलेगा और ज्यादा प्रतिकूल प्रभाव भी नहीं पड़ेगा।

Whats App

अध्ययन में यह सामने आया है कि नैनो बबल के रूप में ईवीएसीई2 मानव रक्त में प्राकृतिक एंटी वायरल रिस्पांस की तरह काम करती है। बीमारी जितनी ज्यादा गंभीर होती है मरीज के रक्त में इवीएसीई2 का स्तर उतना ही ज्यादा हो जाता है। विज्ञानियों ने यह अध्ययन चूहों पर किया है।

एमडी एंडरसन में कैंसर जीव विज्ञान विभाग के प्रमुख डा. रघु कल्लुरी ने कहा कि हमने कोरोना वायरस के खिलाफ एक नई संभावित चिकित्सा के रूप में इस प्राकृतिक रक्षा का उपयोग करने का एक तरीका खोजा है।

शिव ठाकरे ने पलटा गेम निमृत को बनाया घर का नया कैप्टन, भड़कीं टीना दत्ता     |     सुनक का विदेशी छात्रों को ब्रिटेन में प्रतिबंधित करने के विचार का हो सकता है विरोध     |     सोने और चांदी का आयात घटा     |     मप्र के देवास में स्कूल बस हुई दुर्घटनाग्रस्त, दो बच्चों को आई चोट     |     आइसक्रीम खाने से गले की खराश होगी गायब     |     कोरेक्स की डिलीवरी देते समय 3 तस्कर गिरफ्तार, 25 हजार रुपए की 170 शीशी कफ सिरप जब्त     |     दुष्कर्म के आरोपी BJP प्रत्याशी ब्रह्मानंद नेताम हो सकते हैं गिरफ्तार ?     |     पुलिस ने प्रधान अर्जुन थापर, टिंकू, राजन, रजनीश और टोनी को बना मुख्य अभियुक्त     |     12 घंटे के लिए OPD सेवाएं बंद, MBBS छात्रों के लिए बनाई बॉन्ड पॉलिसी का विरोध     |     डेढ़ साल से चल रहा था अफेयर, अलग जाति होने के कारण परिवार शादी को राजी नहीं थे     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374