Breaking
इमिग्रेशन कंपनियों के दफ्तरों पर शुरू की छापामारी, चेक किए लाइसेंस बिजली मंत्री ने बिजली और गबन संबंधी समस्याओं पर लिया एक्शन; 11 शिकायतें सुनी हाईकोर्ट ने अंतरिम जमानत नहीं दी; वकील से पूछा- क्या वह भारत आएगा या नहीं? अनिज विज को शिकायत देने के बाद दर्ज हुआ मामला, जांच में जुटी पुलिस गांव जंडली की घटना; शराब के नशे में था सूरज, जांच में जुटी पुलिस बोले- पीएम मोदी को 8 हजार करोड़ का जहाज, अग्निवीर को बर्फीले सियाचीन में सिर्फ 21 हजार वेतन पत्थर की फैक्ट्री में दो महिलाएं काम कर रही थी, दूसरी फैक्ट्री की दीवार गिरी तेल कंपनियों ने जारी किए पेट्रोल-डीजल के दाम आर्थिक मोर्चे पर बेहाल पाकिस्तान में अब भारी आयात शुल्क लगाने से दवाओं की किल्लत देवेंद्र फडणवीस का डिमोशन या अनुशासन का संदेश? महाराष्ट्र के फैसले से भ्रम में भाजपा कार्यकर्ता

चिनफिंग और बाइडन की मीटिंग से पहले चीनी राजनयिक की चेतावनी, ताइवान कार्ड का इस्तेमाल ना करे अमेरिका

Whats App

बीजिंग। अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन और उनके चीनी समकक्ष शी चिनफिंग सोमवार को वर्चुअली मीटिंग करने जा रहे हैं। दोनों देशों के बीच उभर रहे तनाव के बीच यह बैठक होने जा रही है। इस दौरान ताइवान, सैन्य नियंत्रण, व्यापार और मानवाधिकार जैसे कई मुद्दों पर चर्चा की जाएगी। इस बीच चीनी राजनियक ने ताइवान को लेकर अमेरिका को चेतावनी दी है।

चीनी मीडिया टैबलायड ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक, एक वरिष्ठ चीनी राजनयिक ने अमेरिका को चेतावनी देते हुए कहा है कि वह चीन को घेरने के लिए ताइवान कार्ड इस्तेमाल न करे। टैबलायड ग्लोबल टाइम्स ने बताया कि चीनी विशेषज्ञों का अनुमान है कि बैठक में ताइवान का सवाल चिंता का प्रमुख विषय होगा

फूडन विश्वविद्यालय में इंस्टीट्यूट आफ इंटरनेशनल स्टडीज के डीन वू शिनबो ने रविवार को ग्लोबल टाइम्स से बात करते हुए कहा, ‘यह कहना मुश्किल है कि क्या चीन और अमेरिका इस सवाल पर किसी सहमति पर पहुंचेंगे, लेकिन अमेरिका को एक-चीन सिद्धांत के अनुसार और चीन की चिंताओं के जवाब में कुछ ठोस वादे करने होंगे। वरना यह शीर्ष नेताओं के बीच होने जा रही इस बैठक के परिणाम के साथ-साथ भविष्य में चीन-अमेरिकी संबंधों को भी प्रभावित करेगा।

Whats App

इससे पहले 12 नवंबर को अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने चीनी विदेश मंत्री वांग यी के साथ मुलाकात कर दो आर्थिक महाशक्तियों के प्रमुखों के बीच होने जा रही बैठक की तैयारियों को लेकर बात की थी। इस दौरान ब्लिंकन ने वांग यी के सामने ताइवान के प्रति चीन के दृष्टिकोण को लेकर चिंता भी व्यक्त की थी। बयान के मुताबिक, ब्लिंकन ने बीजिंग से ताइवान के मुद्दे को शांति से हल करने के लिए बातचीत में शामिल होने का आग्रह किया था।

राष्ट्रपति जो बाइडन ने उत्तर पश्चिम चीन में बसे अल्पसंख्यकों के मानवाधिकार हनन, समुद्री मुद्दों, ताइवान, हांगकांग के मामलों को लेकर बीजिंग की निंदा की है। बता दें कि पिछले कुछ सालों में अमेरिका और चीन के बीच तनाव काफी बढ़ा है। व्हाइट हाउस के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलिवन और वरिष्ठ चीनी विदेश नीति के सलाहकार यांग जिची ने पिछले महीने ही ज्यूरिख में हुई मुलाकात के दौरान बाइडन और शी के बीच इस साल के अंत तक वर्चुअल समिट कराने की बात की थी।

इमिग्रेशन कंपनियों के दफ्तरों पर शुरू की छापामारी, चेक किए लाइसेंस     |     बिजली मंत्री ने बिजली और गबन संबंधी समस्याओं पर लिया एक्शन; 11 शिकायतें सुनी     |     हाईकोर्ट ने अंतरिम जमानत नहीं दी; वकील से पूछा- क्या वह भारत आएगा या नहीं?     |     अनिज विज को शिकायत देने के बाद दर्ज हुआ मामला, जांच में जुटी पुलिस     |     गांव जंडली की घटना; शराब के नशे में था सूरज, जांच में जुटी पुलिस     |     बोले- पीएम मोदी को 8 हजार करोड़ का जहाज, अग्निवीर को बर्फीले सियाचीन में सिर्फ 21 हजार वेतन     |     पत्थर की फैक्ट्री में दो महिलाएं काम कर रही थी, दूसरी फैक्ट्री की दीवार गिरी     |     तेल कंपनियों ने जारी किए पेट्रोल-डीजल के दाम     |     आर्थिक मोर्चे पर बेहाल पाकिस्तान में अब भारी आयात शुल्क लगाने से दवाओं की किल्लत     |     देवेंद्र फडणवीस का डिमोशन या अनुशासन का संदेश? महाराष्ट्र के फैसले से भ्रम में भाजपा कार्यकर्ता     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374