Breaking
मनी एक्सचेंज मार्केट में हुआ जोरदार धमाका, विस्फोटों से दहला अफगानिस्तान सौंपा ज्ञापन, अकाली दल में इकबाल झूंदा की सिफारिशों को लागू करने की मांग अंबिकापुर में तेज रफ्तार ट्रक ने  स्कूटी सवार युवक को मारी टक्कर, मौके पर ही दर्दनाक मौत झारखंड में हाथी के हमले में डब्ल्यूआईआई का सदस्य घायल डायबिटीज ने मुश्किल कर दिया है जीना? तो इन मसालों से करे कंट्रोल भारत बनेगा दुनिया का सबसे बड़ा iPhone मेकर... ब्राइडल लुक में चार चांद लगा देंगे ये ट्रेंडी लिपस्टिक कलर्स लालू प्रसाद यादव  का आज होगा सिंगापुर में किडनी ट्रांसप्लांट दान देने में भी Gautam Adani अव्वल मंत्री चौबे के बंगले के बाहर खड़ीं होकर बोलीं- हक की नौकरी भीख में दे दो

मास्‍को फार्मेट में नहीं उठेगा तालिबान सरकार को मान्‍यता देने का मुद्दा- सर्गी लावरोव

Whats App

मास्‍को। अफगानिस्‍तान और तालिबान को लेकर आज मास्‍को फार्मेट की तीसरी बैठक होगी। इस बैठक में तालिबान के अफगानिस्‍तान में सरकार बनाने के बाद जो हालात पैदा हुए हैं, उसको लेकर हो रही है। इसमें दस देशों के सदस्‍य हिस्‍सा ले रहे हैं जिसमें से एक भारत भी है। तालिबान का प्रतिनिधिमंडल भी इस बैठक में हिस्‍सा ले रहा है।

इस बैठक के शुरू होने से पहले ही रूस के विदेश मंत्री सर्गी लावरोव ने ये साफ कर दिया है कि इसमें तालिबान की सरकार को मान्‍यता देने के मुद्दे को नहीं उठाया जाएगा। बता दें कि ये बैठक मुख्‍यतौर पर अफगानिस्‍तान में तालिबान के बाद शुरू हुए मानवीय संकट और मानवता के आधार पर मदद दिए जाने को लेकर है। लावरोव ने ये भी कहा है कि उनका मकसद तालिबान को उनके कहे वादों को पूरा करने के लिए प्रात्‍साहित करना है। रूसी विदेश मंत्री ने कहा कि जब से तालिबान सत्‍ता में आया है तभी से उन्‍हें एक पालिटिकल लाइन पर चलने के लिए प्रोत्‍साहित किया गया है। रूस का मानना है कि उनकी सरकार का ये रुख अफगानिस्‍तान की सरकार में भी दिखाई देना चाहिए।

आपको बता दें कि अफगानिस्‍तान में तालिबान की सरकार को फिलहाल किसी भी देश ने मान्‍यता नहीं दी है। हालांकि तालिबान इसके लिए पूरी कोशिश कर रहा है। यही वजह है कि वो बार-बार विश्‍व समुदाय से अपील कर रहा है। भारत की यदि बात करें तो भारत ने स्‍पष्‍ट किया है कि वो इस मुद्दे पर अंतरराष्‍ट्रीय समुदाय के साथ खड़ा है।

Whats App

भारत का ये भी कहना है कि वो नहीं चाहता है कि अफगानिस्‍तान आतंकियों के लिए जन्‍नत बन जाए। यदि ऐसा हुआ तो ये विश्‍व के लिए खतरनाक होगा। मास्‍को फार्मेट की बैठक से एक दिन पहले पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने विश्‍व बिरादरी से अपील की थी कि विदेश में जमा अफगानिस्‍तान सेंट्रल बैंक के पैसे को रिलीज किया जाना चाहिए।

मनी एक्सचेंज मार्केट में हुआ जोरदार धमाका, विस्फोटों से दहला अफगानिस्तान     |     सौंपा ज्ञापन, अकाली दल में इकबाल झूंदा की सिफारिशों को लागू करने की मांग     |     अंबिकापुर में तेज रफ्तार ट्रक ने  स्कूटी सवार युवक को मारी टक्कर, मौके पर ही दर्दनाक मौत     |     झारखंड में हाथी के हमले में डब्ल्यूआईआई का सदस्य घायल     |     डायबिटीज ने मुश्किल कर दिया है जीना? तो इन मसालों से करे कंट्रोल     |     भारत बनेगा दुनिया का सबसे बड़ा iPhone मेकर…     |     ब्राइडल लुक में चार चांद लगा देंगे ये ट्रेंडी लिपस्टिक कलर्स     |     लालू प्रसाद यादव  का आज होगा सिंगापुर में किडनी ट्रांसप्लांट     |     दान देने में भी Gautam Adani अव्वल     |     मंत्री चौबे के बंगले के बाहर खड़ीं होकर बोलीं- हक की नौकरी भीख में दे दो     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374